Category: भारत माँ

“संयुक्त राष्ट्र संघ” (United Nations) के उपक्रम ने “स्वयं बनें गोपाल” समूह के उल्लेखनीय कार्यों को अपनी विश्वप्रसिद्ध वेबसाइट पर प्रकाशित किया

आप सभी आदरणीय पाठकों को प्रणाम, “वाटर एक्शन हब” (Water Action Hub), संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations) द्वारा प्रायोजित एक ऐसा वैश्विक उपक्रम है जो जल की सुरक्षा से सम्बन्धित, विश्व की सभी प्रसिद्ध...

“संयुक्त राष्ट्र संघ” (United Nations) द्वारा “स्वयं बनें गोपाल” समूह के स्वयंसेवक को “वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे हीरो” चुना गया

आप सभी आदरणीय पाठकों को प्रणाम, संयुक्त राष्ट्र संघ” (United Nations) द्वारा आगामी 5 जून 2019 को मनाये जाने वाले “विश्व पर्यावरण दिवस” के उपलक्ष्य में (जिसका आयोजन इस वर्ष चीन देश में हो...

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के स्वयं सेवक सम्मिलित होंगे “संयुक्त राष्ट्र संघ” (United Nations) की मीटिंग्स व कांफेरेंसेस में

आप सभी आदरणीय पाठकों को प्रणाम, “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान बड़े हर्ष से आपको सूचित कर रहा है कि “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान द्वारा निरंतर विश्व के सर्वोन्मुखी विकास के लिए चलाये जा रहे...

“स्वयं बनें गोपाल” समूह का आप सभी आदरणीयों के लिए विशेष धन्यवाद, संवाद व सूचना

पूरे विश्व में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों को “स्वयं बनें गोपाल” समूह का हार्दिक प्रणाम, दिनांक 31 October 2017 अर्थात हरि प्रबोधनी एकादशी के शुभ अवसर पर “स्वयं बनें...

भविष्य घोर अन्धकार में देख अवसरवादी नेताओं को अब मोदी की शरण में आने में ही लगती भलाई

भारत तेजी से कैश लेस ट्रांजेक्शन की तरफ बढ़ रहा है और कैश लेस ट्रांजेक्शन की सबसे बड़ी ख़ास बात होती है कि इसमें एक रूपए का भी लेन देन, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से...

जब नोट बंदी के चमत्कारी असर ने इतने जल्दी खरपतवार की सफाई शुरू कर दी, तो आगे आने वाले कानूनों से तो भ्रष्टाचारियों में तबाही ही मच जायेगी

जब “स्वदेश चेतना” जैसे बड़े मीडिया ग्रुप के प्रमुख सम्पादक श्री डॉक्टर किसलय उपाध्याय जैसे कुछ चन्द निष्पक्ष, निर्भीक व ईमानदार मीडियाकर्मी बार बार खुल कर बोल रहे थे कि पूर्व में हुए दिल्ली,...

अरे सुनिए सर, कहीं आप पिछड़ तो नहीं रहें हैं ?

कहतें हैं कि गरीबों का कोई सम्मान नहीं होता है और यह भी कहते हैं कि अमीरों की एक अदा भी लाखों की होती है ! यही हाल हुआ हमारी प्यारी भारत माँ के...

जो चुनाव के पहले ही इतना चूस रहा है वो चुनाव जीतने के बाद कितना चूसेगा

(भारत में आजकल होने वाले इलेक्शन्स में, सर्वत्र दिखने वाले विचित्र माहौल, का जीवंत प्रस्तुतिकरण करते हुए, “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़े मूर्धन्य समाजशास्त्री)- इलेक्शन का टाइम जैसे जैसे नजदीक आ रहा है,...

गिर के सिंह का योजनाबद्ध सिर्फ एक भीषण वार, काला धन व जातिगत पार्टियां अन्त की ओर अग्रसर

पिछले कई सालों से कई सफेदपोश राजनैतिक पार्टियां जो वास्तव में भेड़ की खाल में छिपे भेड़ियों से भरी पड़ी हैं उनका यही ट्रेंड बार बार रहा है कि जब जब सत्ता मिले तब...

सेनापति भागे, चाटुकार दरबारी गण स्तब्ध

देश की खानदान विशेष की पार्टी जो अपने आप को देश की सबसे पुरानी पार्टी होने का दावा भी करती है उसमें अभी हाल ही में हुई सियासी भगदड अर्थात उसकी बहुत पुराने और...

सावधान रहिये : विदेशी षड्यंत्रकारी अब आप को मानसिक रूप से तोड़ने की साजिश पर उतर आये हैं

“स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़े मूर्धन्य समाजशास्त्री, विदेशी षड्यंत्रकारियों की कुछ मनोवैज्ञानिक साजिशों से भारतीय जनता में मौजूद उन लोगों को आगाह करना चाहते हैं, जिन्हें बिल्कुल अंदाजा नहीं है कि इसके पीछे...

पाकिस्तान की बात का घुमा फिरा कर अप्रत्यक्ष समर्थन करने वालों की आखिर क्या है असलियत

पाकिस्तान जो कि पिछले 60 साल से अनगिनत झूठ रोज बोल रहा है उसी की बात का घुमा फिरा कर अप्रत्यक्ष रूप से समर्थन करने वाले लोगों की और उनके दल की असल विचार...

भारत के दूरदर्शी थिंक टैंक की लाठी बिना आवाज की

आज से दो साल पहले तक जो पश्चिमी देशों के शासन के कुछ लोग, भारतियों को अपने से काफी तुच्छ समझ कर, अपने चमचे पाकिस्तान की हर गलती पर भी, भारत को भी सुधरने...

सिर्फ हमारी ये आधे घंटे की रोज की मेहनत पूरे देश का निश्चित कायाकल्प कर देगी

आखिर क्या करूं, अब नहीं ही सोने दे रही है मातृ भूमि की चिन्ता ! अन्दर की बौखलाहट अब चरम पर पहुँच रही है ! कुछ समझ में नहीं आ रहा कि किधर से...

आखिर भारत के 9/18 का बदला अमेरिका के 9/11 से कम क्यों ?

“स्वयं बने गोपाल” समूह से जुड़े कुछ प्रखर समाजशास्त्रियों का पूछना है कि, क्या भारतीय सैनिकों की जान, अमेरिका के नागरिकों से सस्ती है ? ये समाज शास्त्री कहते हैं कि जब कोई खतरनाक...

जाओ कह दो हर देशप्रेमी से, ना हम भागे, ना ही हमने घुटने टेके

अंग्रेजों के बहुत लंबे शासनकाल से सन 1947 तक भारत माँ को आजादी दिलाने के लिए कई देशभक्त क्रांतिकारियों ने हसंते हसंते अपनी जान गवाई थी और 1947 से अब तक भारत माँ की...