www.iafd.club

https://www.iafd.club

About Us / Contact Us

Click Here To View ‘About Us / Contact Us’ in English

treatment in hindi diagnosis ayurveda herbal yoga pranayama asana jadi buti naturopathy medicines causes symptoms hiv 1 2 spread cure prevention yogasana veda mantra tantra yantra
आदरणीय मित्रों,

हम सभी “स्वयं बनें गोपाल” समूह के समर्पित स्वयं सेवक हैं !

“स्वयं बनें गोपाल” संस्थान सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त, एक स्वयं सेवक समूह (N.G.O.) है जिसका मुख्य कार्यालय भारतवर्ष के उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी लखनऊ में स्थित है ! “स्वयं बनें गोपाल” समूह के विभिन्न सेवा युक्त कार्यों व नई खोज को विश्व स्तर पर सराहा व पहचाना गया है जिन्हे जानने के लिए कृपया निम्नलिखित विवरण पढ़ें-

“स्वयं बनें गोपाल” समूह “संयुक्त राष्ट्र संघ” के उपक्रम “यू एन ऍफ़ सी सी सी नैरोबी वर्क प्रोग्राम” (UNFCCC NAIROBI WORK PROGRAMME) का पार्टनर (Partner) है ! “यू एन ऍफ़ सी सी सी नैरोबी वर्क प्रोग्राम” की वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www4.unfccc.int/sites/NWPStaging/pages/item.aspx?ListItemId=28813&ListUrl=/sites/NWPStaging/Lists/MainDB

इस उपक्रम का कार्यक्षेत्र पूरा विश्व है ! इस उपक्रम का हेडऑफिस जर्मनी देश में है ! इस उपक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://unfccc.int/topics/adaptation-and-resilience/workstreams/nairobi-work-programme-on-impacts-vulnerability-and-adaptation-to-climate-change#eq-4

“यू एन ऍफ़ सी सी सी नैरोबी वर्क प्रोग्राम” मूलतः विश्व के जलवायु परिवर्तन सम्बन्धित मुद्दों पर कार्यवाही करता है ! लगभग 14 वर्ष पुराने “यू एन ऍफ़ सी सी सी नैरोबी वर्क प्रोग्राम” ने पूरे विश्व से 396 चुनिन्दा संस्थाओं को अपना पार्टनर नियुक्त किया है !

विश्व की कई सर्वोच्च स्तर की आर्गेनाइजेशन्स के अतिरिक्त, खुद संयुक्त राष्ट्र संघ की कई अन्य संस्थाएं भी “यू एन ऍफ़ सी सी सी नैरोबी वर्क प्रोग्राम” से पार्टनर के तौर पर जुड़ी हुई है ! “स्वयं बनें गोपाल” समूह के अतिरिक्त अन्य कुछ “यू एन ऍफ़ सी सी सी नैरोबी वर्क प्रोग्राम” के पार्टनर्स के नाम हैं-

• इंटरनेशनल एटॉमिक एनर्जी एजेंसी (INTERNATIONAL ATOMIC ENERGY AGENCY; https://www.iaea.org/)

• यूनाइटेड नेशंस ऑफिस फॉर आउटर स्पेस अफेयर्स (UNITED NATIONS OFFICE FOR OUTERSPACE AFFAIRS; http://www.oosa.unvienna.org/)

• वर्ल्ड बैंक (WORLD BANK; http://www.worldbank.org/)

• माइक्रोसॉफ्ट (MICROSOFT; http://www.microsoft.com)

• ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी (OXFORD UNIVERSITY; http://www.ouce.ox.ac.uk/)

• स्वीडिश डिफेन्स रिसर्च एजेंसी (SWEDISH DEFENCE RESEARCH AGENCY; http://www.foi.se/FOI/)

• बी बी सी मीडिया एक्शन (BBC MEDIA ACTION; http://www.bbc.co.uk/mediaaction)

• एशियन डेवलपमेंट बैंक (ASIAN DEVELOPMENT BANK; http://www.adb.org/)

• यूरोपियन कमीशन जॉइंट रिसर्च सेण्टर (EUROPEAN COMMISSION JOINT RESEARCH CENTRE; https://ec.europa.eu/jrc/en)

• नेस्ले (NESTLÉ; http://nestle.com)

• वर्ल्ड ट्रेड आर्गेनाइजेशन (WORLD TRADE ORGANIZATION; https://www.wto.org)

• इंटर अमेरिकन डेवलपमेंट बैंक (INTER-AMERICAN DEVELOPMENT BANK; http://www.iadb.org/en/)

• यूनाइटेड नेशंस इंटरनेशनल स्ट्रेटेजी फॉर डिजास्टर रिडक्शन (UNITED NATIONS INTERNATIONAL STRATEGY FOR DISASTER REDUCTION; http://www.unisdr.org/)

• यूनाइटेड नेशंस हाई कमिश्नर फॉर रिफ्यूजी (UNITED NATIONS HIGH COMMISSIONER FOR REFUGEES; http://www.unhcr.org)

• यूनिसेफ (UNITED NATIONS CHILDREN’S FUND; http://www.unicef.org/)

• यूनाइटेड नेशंस वर्ल्ड टूरिज्म आर्गेनाइजेशन (UNITED NATIONS WORLD TOURISM ORGANIZATION; https://www.unwto.org/)

• जर्मन कमिटी फॉर डिजास्टर रिडक्शन (GERMAN COMMITTEE FOR DISASTER REDUCTION; http://www.dkkv.org/)

• अफ्रीकन डेवलपमेंट बैंक (AFRICAN DEVELOPMENT BANK; http://www.afdb.org)

• कॉमनवेल्थ सेक्रेटेरिएट (COMMONWEALTH SECRETARIAT; http://www.thecommonwealth.org/)

• यूनाइटेड नेशंस डेवेलपमेंट प्रोग्राम (UNITED NATIONS DEVELOPMENT PROGRAMME; http://www.undp.org/)

• यूनाइटेड नेशंस एनवायरनमेंट प्रोग्राम (UNITED NATIONS ENVIRONMENT PROGRAMME; http://www.unep.org/)

• यूनाइटेड नेशंस ह्यूमन सेटलमेंट प्रोग्राम (UNITED NATIONS HUMAN SETTLEMENTS PROGRAMME; http://www.unhabitat.org/)

• यूनाइटेड नेशंस इंस्टिट्यूट फॉर ट्रेनिंग एंड रिसर्च (UNITED NATIONS INSTITUTE FOR TRAINING AND RESEARCH; http://www.unitar.org/)

• यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज सेण्टर (UNESCO – WORLD HERITAGE CENTRE; http://whc.unesco.org/)

• यू एन इ सी इ (UNECE; http://www.unece.org/)

• फ़ूड एंड एग्रीकल्चरल आर्गेनाइजेशन ऑफ़ द यूनाइटेड नेशंस (FOOD AND AGRICULTURAL ORGANIZATION OF THE UNITED NATIONS; http://www.fao.org/)


संयुक्त राष्ट्र संघ के एक अन्य उपक्रम “क्लीन कूकिंग अलायन्स” (Clean Cooking Alliance) ने भी “स्वयं बनें गोपाल” समूह को अपना पार्टनर (Partner) नियुक्त किया है ! संयुक्त राष्ट्र संघ के इस उपक्रम की वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.cleancookingalliance.org/partners/item/999/3349

आज पूरे विश्व में लगभग 300 करोड़ लोगों को साफ़ सुथरे तरीके से अपना भोजन तैयार करने की सुविधा उपलब्ध नहीं है जिसकी वजह से अधिकाँश लोग कूड़ा कचरा, अपशिष्ट व ऐसे पदार्थों को ईधन के तौर पर इस्तेमाल करके अपना भोजन तैयार करने को मजबूर हैं जो उनके लिए और पर्यावरण के लिए भी अत्यन्त हानिकारक है और इसी विश्वव्यापी समस्या के निदान हेतु संयुक्त राष्ट्र संघ ने “क्लीन कूकिंग अलायन्स” का एक विशाल प्रारूप तय किया है !

“क्लीन कूकिंग अलायन्स” की चेयर (अध्यक्ष) श्रीमती हिलेरी क्लिंटन (Mrs. Hillary Clinton) हैं जो कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति श्री बिल क्लिंटन की पत्नी और डेमक्रेटिक पार्टी की राष्ट्रपति पद की पूर्व उम्मीदवार हैं ! श्रीमती हिलेरी क्लिंटन के अतिरिक्त “क्लीन कूकिंग अलायन्स” की लीडरशिप कौंसिल में खुद संयुक्त राष्ट्र संघ के सबसे बड़े अधिकारी अर्थात सेक्रेटरी जनरल श्री एंटोनिओ गुटेरेश (Secretary General Mr. António Guterres) जैसे कई बेहद गणमान्य व्यक्तित्व शामिल हैं ! “क्लीन कूकिंग अलायन्स” की लीडरशिप कौंसिल का परिचय देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.cleancookingalliance.org/about/our-team/

“क्लीन कूकिंग अलायन्स” ने अपने अभियान के उद्देश्य को अधिक से अधिक आम लोगों के बीच पहुंचाने के लिए विभिन्न क्षेत्रों की विश्व प्रसिद्ध हस्तियों को नियुक्त किया है जिनमें हॉलीवुड की विश्वप्रसिद्ध अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स (Julia Roberts), म्यूजिशियन रॉकी डाउनी (Rocky Dawuni) आदि सम्मिलित हैं और चूंकि “क्लीन कूकिंग अलायन्स” भोजन से संबन्धित अभियान है इसलिए इसने कुछ विश्व प्रसिद्ध शेफ (Chef) को भी अपने से जोड़ा हुआ है, इन सभी प्रमुख हस्तियों का परिचय देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.cleancookingalliance.org/about/champions/

“स्वयं बने गोपाल” समूह “संयुक्त राष्ट्र संघ” की संस्था “यूनेस्को” (UNESCO) के उपक्रम “ग्लोबल अलायन्स फॉर पार्टनरशिप एंड इनफार्मेशन लिटरेसी” (Global Alliance for Partnerships on Media and Information Literacy; GAPMIL) का भी पार्टनर है ! इस उपक्रम के बारे में अधिक जानकारी के लिए, कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- http://www.unesco.org/new/en/communication-and-information/media-development/media-literacy/global-alliance-for-partnerships-on-media-and-information-literacy/

यूनेस्को (UNESCO; www.unesco.org) ने 24 अक्टूबर से 31 अक्टूबर 2019 के बीच में पूरे विश्व में आयोजित होने वाले “ग्लोबल मीडिया एंड इनफार्मेशन लिटरेसी वीक” (Global Media and Information Literacy Week) से संबन्धित गतिविधियों/कार्यक्रमों में से जिन लगभग 200 संस्थाओं का अपनी वेबसाइट पर प्रकाशन स्वीकृत किया है उनमें “स्वयं बनें गोपाल” समूह भी है, जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें (और ओपेन होने वाले पेज में नीचे जाकर इंडिया (India) की केटेगरी में “Make Yourself Gopal” पर क्लिक करें)- https://en.unesco.org/commemorations/globalmilweek/2019/aroundtheworld

“स्वयं बनें गोपाल” समूह, विश्व प्रसिद्ध नेटवर्क “रिजेनेरेशन इंटरनेशनल” (Regeneration International) का भी पार्टनर (Partner) है ! यह नेटवर्क मुख्यतः कृषि में क्रांतिकारी सुधार करके विश्व में भूख, पर्यावरण, सामाजिक व आर्थिक समस्याओं का निराकरण करने में सक्षम संस्थाओं का समूह है ! “स्वयं बनें गोपाल” समूह के अतिरिक्त इस नेटवर्क के कुछ अन्य पार्टनर्स हैं- “एनवायर्नमेंटल एजुकेशन मीडिया प्रोजेक्ट” (Environmental Education Media Project; http://eempc.org/partners-sponsors/), “मिलेनियम इंस्टिट्यूट” (Millennium Institute; https://www.millennium-institute.org/partners), “यूनाइटेड नेशन्स फ़ूड एंड एग्रीकल्चरल आर्गेनाइजेशन- इटली” (UN Food and Agriculture Organization-Italy; http://www.fao.org/family-farming/home/en/) आदि ! इस नेटवर्क की वेबसाइट में “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://regenerationinternational.org/our-network/

United Nations FAO IAEA ICAO IFAD ILO IMO IMF ITU UNESCO UPU WBG WIPO WMO UNWTO UNODC WHO UNHCR newyork headquarters geneva head office WFP UNIDO UNOCHA UNOOSA UNODAहॉलीवुड के विश्वप्रसिद्ध हीरो लियोनार्डो डीकैप्रियो (Leonardo DiCaprio; जो कि टाईटेनिक मूवी के मुख्य अभिनेता थे) की पर्यावरणीय संस्था “अर्थ अलायन्स” (Earth Alliance) ने भी “स्वयं बनें गोपाल” समूह के कार्यो की प्रशंसा करते हुए धन्यवाद दिया है और अपना आभार भी प्रकट किया है !

“अर्थ अलायन्स” संस्था की वेबसाइट का लिंक, लियोनार्डो डीकैप्रियो के फेसबुक पेज पर दिया गया है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक को क्लिक करें- https://www.facebook.com/LeonardoDiCaprio/?ref=br_rs

“अर्थ अलायन्स” ने “स्वयं बनें गोपाल” समूह के बारे में लिखा है कि- “We are grateful for your passion, and encourage you to continue to support our shared goal of a more sustainable planet” अर्थात- हम आपके जोश के लिए आपके आभारी हैं, तथा चिरस्थायी धरती से सम्बन्धित हमारे और आपके एक जैसे उद्देश्य की लगातार सहायता करने के लिए हम आपकी सराहना भी करते हैं !

अभी हाल में ही लियोनार्डो डीकैप्रियो ने भारत के विश्वप्रसिद्ध संत श्री जग्गी वासुदेव जी (संस्थापक ईशा फाउंडेशन) के पर्यावरणीय अभियान “कावेरी कॉलिंग” का भी सपोर्ट किया था (श्री जग्गी वासुदेव जी “संयुक्त राष्ट्र संघ” के समाज निर्माण के कार्यों में भी काफी सक्रीय रहतें है) !

लियोनार्डो डीकैप्रियो पिछले कई वर्षों से पर्यावरण को बचाने के अपने विश्वस्तरीय अभियान में लगे हुए हैं और उनके इस अभियान से सम्बन्धित कई कार्यक्रमों को नेशनल टेलीविज़न चैनल्स व यू ट्यूब पर भी देखा जा सकता है, जिनमें से कुछ वीडियोज व फेसबुक के लिंक्स इस प्रकार हैं-

(https://www.facebook.com/LeonardoDiCaprio/?ref=br_rs)

(https://www.youtube.com/watch?v=akdL5HB5LAA)

(https://www.youtube.com/watch?v=6FzsYiiIa4c&t=179s)

(https://www.youtube.com/watch?v=vTyLSr_VCcg)

अमेरिकन सरकार (USA Government) की संस्था “यू एस ऐड” (USAID; https://www.usaid.gov/) ने भी “स्वयं बनें गोपाल” समूह के कार्यों की सराहना की है ! “यू एस ऐड” के सीनियर पार्टनरशिप एडवाइजर (Senior Partnerships Advisor) द्वारा “स्वयं बनें गोपाल” समूह को कहा गया है कि- “Thank you also for your efforts to make the world a better place” अर्थात- विश्व को एक बेहतर स्थान बनाने वाले आपके कार्यों के लिए आपको धन्यवाद है” !

जल के सरंक्षण से सम्बन्धित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के कार्य विश्वप्रसिद्ध “वाटर एक्शन हब” (Water Action Hub) नाम के उपक्रम की वेबसाइट पर भी प्रकाशित है ! “वाटर एक्शन हब” का निर्माण “सी इ ओ वाटर मैंडेट” द्वारा हुआ है जो कि “संयुक्त राष्ट्र ग्लोबल कॉम्पैक्ट” {United Nations Global Compact (CEO Water Mandate)} का उपक्रम है ! अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें- https://wateractionhub.org/organizations/741/d/svyam-bane-gopal/ !

संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था “फ़ूड एंड एग्रीकल्चरल आर्गेनाइजेशन” ने “वर्ल्ड स्वायेल डे” (World Soil Day; विश्व मृदा दिवस) 5 दिसम्बर 2019 को “स्वयं बनें गोपाल” समूह के प्रोजेक्ट “सेव आवर प्लेनेट” (Save Our Planet) को अपनी विश्वप्रसिद्ध वेबसाइट पर प्रकाशित किया है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें (और ओपेन होने वाले पेज में प्रदर्शित वर्ल्ड मैप में इण्डिया में लखनऊ लोकेशन पर क्लिक करें)- http://www.fao.org/world-soil-day/worldwide-events/en/

संयुक्त राष्ट्र संघ की इस संस्था ने “वर्ल्ड स्वायेल डे” पर इस वर्ष अपनी वेबसाइट पर लगभग 100 देशों के 464 प्रोजेक्ट्स/इवेंट्स को ही प्रकाशित किया है जिनसे सम्बन्धित सोशल मीडिया पोस्ट्स को अब तक संयुक्त राष्ट्र संघ के आंकड़ों के अनुसार 40,00,00,000 (40 करोड़) से भी अधिक पाठक देख चुकें है !

हमारे इस अभियान को “वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ डे” (World Wildlife Day; विश्व वन्यजीव दिवस, 3 March 2020) पर संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा समर्थित “साइट्स सेक्रेटेरिएट” (CITES Secretariat) की वेबसाइट पर भी प्रकाशित किया गया है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.wildlifeday.org/content/events

हमारा यह अभियान “संयुक्त राष्ट्र संघ” की जल सम्बन्धित वेबसाइट पर “विश्व जल दिवस” (World Water Day; 22 March 2020) पर भी प्रकाशित किया गया है, जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.worldwaterday.org/event/save-our-planet/

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के प्रधान स्वयं सेवक (अध्यक्ष) श्री परिमल पराशर जी (Mr. Parimal Parashar) “संयुक्त राष्ट्र संघ” के विश्वव्यापी उपक्रम “आई पी बी इ एस” (IPBES; The Intergovernmental Science-Policy Platform on Biodiversity and Ecosystem Services) के “स्टेक होल्डर” (Stake Holder) हैं ! विस्तृत जानकारी के लिए कृपया देखें- https://www.ipbes.net/users/parimal-parashar) !

{श्री परिमल पराशर जी एक 37 वर्षीय भारतीय नागरिक है जिन्होंने इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट की शिक्षा के पश्चात् कई मध्यम उद्योगों से लेकर विश्व की सर्वोच्च स्तर की कम्पनीज के साथ कार्य किया किन्तु अंततः उन्होंने मानवता धर्म को ही अपने जीवन के अंतिम मार्ग के रूप में चुना और स्थापना की “स्वयं बनें गोपाल” समूह की}

तथा “स्वयं बनें गोपाल” समूह के प्रधान स्वयं सेवक (अध्यक्ष) “एल ई डी एस जी पी” संगठन (LEDS GP; Low Emission Development Strategies Global Partnership; http://ledsgp.org/) के मेम्बर भी हैं ! विश्व के कई देशों की सरकार व विश्व व्यापी संस्थाएं भी इस “एल ई डी एस जी पी” संगठन से “मेम्बर” के तौर पर जुड़ी हुईं हैं, जैसे- यू एस डिपार्टमेंट ऑफ़ स्टेट (US Department of State; https://www.state.gov/), यू के मिनिस्टरी ऑफ़ एनवायरनमेंट (UK Ministry of Environment; https://www.gov.uk/government/organisations/department-for-environment-food-rural-affairs), ऑस्ट्रेलिया डिपार्टमेंट ऑफ़ क्लाइमेट चेंज (Australia Department of Climate Change; http://www.environment.gov.au/climate-change), यूरोपियन कमीशन (European Commission; https://ec.europa.eu/info/index_en), इजराइल मिनिस्टरी ऑफ़ एनवायर्नमेंटल प्रोटेक्शन (Israel Ministry of Environmental Protection; http://www.sviva.gov.il/english/Pages/HomePage.aspx), वर्ल्ड बैंक (World Bank; https://www.worldbank.org/), यू एन डेवलपमेंट प्रोग्राम (UN Development Programme; https://www.undp.org/content/undp/en/home/) आदि !

संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्थाओं जैसे “यू एन क्लाइमेट चेंज सेक्रेटेरिएट” (UN Climate Change secretariat), “यू एन एनवायरनमेंट” (UN Environment) व कॉमनवेल्थ सेक्रेटेरिएट (Commonwealth Secretariat) की पार्टनरशिप से बनाया गया है- “द लॉ एंड क्लाइमेट चेंज टूल किट” (The Law and Climate Change Toolkit; https://climatelawtoolkit.org/) जो कि एक अति महत्वपूर्ण ऑनलाइन ओपेन डाटाबेस (online and open database) है,और उसमें में श्री परिमल पराशर जी “पालिसी मेकर” (Policy Maker; नीति निर्माता) भी हैं !

उपर्युक्त वर्णित संस्थाओं के अतिरिक्त “स्वयं बनें गोपाल” समूह, विश्वप्रसिद्ध संस्था “वालंटियर ग्रुप्स अलायन्स” (Volunteer Groups Alliance) का भी मेम्बर (Member; सदस्य) है !

United Nations FAO IAEA ICAO IFAD ILO IMO IMF ITU UNESCO UPU WBG WIPO WMO UNWTO UNODC WHO UNHCR newyork headquarters geneva head office WFP UNIDO UNOCHA UNOOSA UNODA“वालंटियर ग्रुप्स अलायन्स” के फोरम की स्थापना आज से 55 वर्ष पूर्व सन 1964 में हुई थी और उस समय इसका नेतृत्व “कौंसिल ऑफ़ यूरोप” (Council of Europe; यूरोपीय परिषद; https://www.coe.int/en/web/portal/home) करती थी (यूरोपीय परिषद एक सरकारी संस्था है जिसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पूरे यूरोप में कानून व अन्य मानवीय मूल्यों की व्यवस्था सदा बनी रहे ! यूरोप के 47 देशों की सरकार इस “कौंसिल ऑफ़ यूरोप” से सदस्य के तौर पर जुड़ी हुई हैं) !

वर्तमान में “वालंटियर ग्रुप्स अलायन्स” संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था “यूनाइटेड नेशन्स वालंटियर्स” (United Nations Volunteers) द्वारा समर्थित है ! संयुक्त राष्ट्र संघ व “कौंसिल ऑफ़ यूरोप” की नजर में बेहद प्रतिष्ठित माने जाने वाले “वालंटियर ग्रुप्स अलायन्स” ने वर्तमान में दुनिया के अलग – अलग हिस्सों से सिर्फ 64 स्वयं सेवी संस्थाओं को ही अपना “मेम्बर” बनाया हुआ है जिनमें भारतीय मूल से “स्वयं बनें गोपाल” ही है ! “वालंटियर ग्रुप्स अलायन्स” की वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें (और ओपेन होने वाले पेज में “Members” कैटेगरी पर क्लिक करें)- https://forum-ids.org/about/vga/

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के अतिरिक्त “वालंटियर ग्रुप्स अलायन्स” के कुछ अन्य मेम्बर्स (Members) का परिचय इस प्रकार हैं-

• “यूनाइटेड नेशन्स वालंटियर्स” [(United Nations Volunteers; https://www.unv.org/) संयुक्त राष्ट्र संघ की यह संस्था “वालंटियर ग्रुप्स अलायन्स” की खुद एक मेम्बर भी है]

• पीस कॉर्प्स [(Peace Corps; https://www.peacecorps.gov/) यह अमेरिकन सरकार (USA Government) की एक सामाजिक सुख शान्ति उत्प्रेरित करने वाली संस्था है जिसका डायरेक्टर, अमेरिकन प्रेसिडेंट द्वारा चुना जाता है]

• सऊदी ग्रीन बिल्डिंग फोरम [(Saudi Green Building Forum; http://www.sgbf.sa/) यह एक सामजिक पुनर्निर्माण की संस्था है जिसके चेयरमैन सऊदी अरबिया देश के शाही परिवार के प्रिंस खालिद बिन हैं]

• इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ़ रेड क्रॉस एंड रेड क्रेसेंट सोसाइटीज [(International Federation of Red Cross and Red Crescent Societies; https://media.ifrc.org/ifrc) जेनेवा (स्विट्ज़रलैंड) आधारित इस संस्था को विश्व का सबसे बड़ा मानवीय नेटवर्क माना जाता है जो 7 मानवीय मूल्यों पर टिका है]

• ब्रिटिश कोलंबिया कौंसिल फॉर इंटरनेशनल कोऑपरेशन [(British Columbia Council for International Cooperation; https://www.bccic.ca/) यह कनाडा आधारित एक विश्वप्रसिद्ध स्वयंसेवी संस्था है]

• वालंटियरिंग विक्टोरिया [(Volunteering Victoria; https://www.volunteeringvictoria.org.au/) यह मेलबर्न (ऑस्ट्रेलिया) आधारित एक बेहद प्रसिद्ध परोपकारी संगठन है जिससे कई हजार स्वयं सेवक जुड़े हुए हैं]

“स्वयं बनें गोपाल” समूह, संयुक्त राष्ट्र संघ के उपक्रम “मेजर ग्रुप ऑफ़ चिल्ड्रेन एंड यूथ टू यू एन एनवायरनमेंट” जिसे “ग्लोबल कोन्ष्टित्युएंसी ऑफ़ यूथ फॉर एनवायरनमेंट” के नाम से भी जाना जाता है (“Major Group of Children and Youth to UN Environment”; UNEP-MGCY, which is also known as “Global Constituency of Youth for Environment”; GCYE) का भी मेम्बर (Member; सदस्य) है ! इसकी वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें – https://www.youthenvironment.org/member-organisations

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के अतिरिक्त “मेजर ग्रुप ऑफ़ चिल्ड्रेन एंड यूथ टू यू एन एनवायरनमेंट” के कुछ अन्य मेम्बर्स (Members) हैं- “कॉमनवेल्थ यूथ क्लाइमेट चेंज नेटवर्क” (Commonwealth Youth Climate Change Network;
https://thecommonwealth.org/commonwealth-youth-climate-change-network), “सिविक्स” (CIVICUS; https://www.civicus.org/), “सस्टेनेबल ओशेन अलायन्स” (Sustainable Ocean Alliance; https://www.soalliance.org/), “वर्ल्ड डिस्ट्रीब्यूशन फेडरेशन” (World Distribution Federation; http://www.w-df.org/main#) आदि !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह, “नमाति” (Namati) उपक्रम का भी मेम्बर (Member; सदस्य) है ! यह उपक्रम विश्व में पक्षपात रहित न्याय की स्थापना के लिए कार्यरत है और यह उपक्रम विश्व की कई बड़ी संस्थाओं जैसे- “यू के ऐड” (UK Aid; https://www.ukaiddirect.org/; जो कि इंग्लैंड सरकार के इंटरनेशनल डिपार्टमेंट द्वारा चलित है), “द ब्यूरो ऑफ़ डेमोक्रेसी, ह्यूमन राइट्स एंड लेबर” (The Bureau of Democracy, Human Rights, and Labor of US Department of States; https://www.state.gov/bureaus-offices/under-secretary-for-civilian-security-democracy-and-human-rights/bureau-of-democracy-human-rights-and-labor/; जो कि अमेरिकन सरकार के “यू एस डिपार्टमेंट ऑफ़ स्टेट्स” द्वारा चलित है) द्वारा पोषित है ! इसकी वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें – https://namati.org/network/organization/svyam-bane-gopal/

आपदा प्रबन्धन के क्षेत्र में पूरे विश्व में सबसे बड़े माने जाने वाले नेटवर्क “ग्लोबल नेटवर्क ऑफ़ सिविल सोसाइटी आर्गेनाइजेशन्स फॉर डिजास्टर रिडक्शन” (Global Network of Civil Society Organisations for Disaster Reduction; GNDR) का भी सदस्य है “स्वयं बनें गोपाल” समूह ! इस नेटवर्क को समर्थन देते हैं- “यूरोपियन कमीशन” (European Commission, https://ec.europa.eu/info/index_en) “यू एस ऐड” (USAID; https://www.usaid.gov/), “यू के ऐड” UK Aid; https://www.ukaiddirect.org/), ऑस्ट्रेलियन ऐड (Australian Aid; https://www.dfat.gov.au/aid/Pages/australias-aid-program), “स्विस एजेंसी फॉर डेवलपमेंट एंड कोऑपरेशन (Swiss Agency For Development And Cooperation; https://www.eda.admin.ch/sdc) आदि ! हमारी संस्था का विवरण इस नेटवर्क की वेबसाइट में देखने के लिए, कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://community.gndr.org/s/account/0013Y00002baKWTQA2/svyam-bane-gopal?language=en_GB

“संयुक्त राष्ट्र संघ” की संस्था “यू एन हैबिटैट” (U N HABITAT; https://new.unhabitat.org/) ने भी “स्वयं बनें गोपाल” समूह के बारे में अपनी विश्वप्रसिद्ध वेबसाइट पर प्रकाशित किया है ! “वर्ल्ड सिटीज डे” (World Cities Day) पर मात्र जिन लगभग 50 गतिविधियों/कार्यक्रमों को “यू एन हैबिटैट” ने अपनी विश्व प्रसिद्ध वेबसाइट पर प्रकाशित किया है उनमें “स्वयं बनें गोपाल” द्वारा चलाया गया अभियान “हू वी आर” (Who We Are) का भी नाम है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://urbanoctober.unhabitat.org/event/who-we-are

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के फाइलेंथ्रोपिक मूवमेंट “व्हू वी आर” (Who We Are) को संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था “यू एन वाटर” (U N WATER) ने “वर्ल्ड टॉयलेट डे” (World Toilet Day; विश्व शौचालय दिवस) 19 Nov 2019 पर अपनी विश्वप्रसिद्ध वेबसाइट पर प्रकाशित किया है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.worldtoiletday.info/event/who-we-are/

समाज के विभिन्न आयामों के लिए बहुउपयोगी हमारे अभियान “व्हू वी आर” (Who We Are) को संयुक्त राष्ट्र संघ की एक अन्य संस्था “यू एन वीमेन” (U N WOMEN) के उपक्रम “एमपावर वीमेन” (Empower Women) ने भी अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया है ! “एमपावर वीमेन” महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए कार्य करती है और पूरे विश्व में (खासकर महिलाओं में) बेहद प्रसिद्ध है !

“एमपावर वीमेन” ने पिछले 7 वर्षों में मात्र जिन 568 गतिवधियों/इवेंट्स का प्रकाशन अपनी वेबसाइट पर स्वीकृत किया है उसमें से एक आपकी अपनी संस्था “स्वयं बनें गोपाल” समूह की भी है, जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.empowerwomen.org/en/community/events-opportunities/2019/07/who-we-are

हमारे इस अभियान को एक अन्य विश्वविख्यात महिला सशक्तिकरण संस्था “सेण्टर फॉर विमेंस ग्लोबल लीडरशिप” (Center for Women’s Global Leadership) ने भी अपने द्वारा चलाए अभियान “ग्लोबल 16 डेज कैंपेन” (GLOBAL 16 DAYS CAMPAIGN) की वेबसाइट पर प्रकाशित किया है !

“सेण्टर फॉर विमेंस ग्लोबल लीडरशिप” द्वारा यह अभियान 16 दिनों के लिए हर वर्ष 25 नवम्बर (जो कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस है) से 10 दिसम्बर (अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस) तक पूरे विश्व में चलाया जाता है ! “सेण्टर फॉर विमेंस ग्लोबल लीडरशिप” का मुख्यालय “न्यू जर्सी” अमेरिका में है ! “ग्लोबल 16 डेज कैंपेन” की वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह के इस अभियान को देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://16dayscampaign.org/event/who-we-are/

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के प्रधान स्वयं सेवक (अध्यक्ष) श्री परिमल पराशर जी भी “एशियन डेवलपमेंट बैंक” से एक सलाहकार (Consultant) के तौर पर जुड़ चुकें हें और साथ ही साथ “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान भी “एशियन डेवलपमेंट बैंक” (www.adb.org) से एक सलाहकार संस्थान (Consulting Firm) के तौर पर जुड़ चुका है !

“एशियन डेवलपमेंट बैंक” लगभग 60 साल पुराना ऐसा बैंक है जो एशिया के विभिन्न देशों की सरकारों के माध्यम से आम जनमानस की भलाई के लिए विभिन्न परियोजनाओं की सहायता करता है ! इस बैंक का हेड ऑफिस फिलिपिन्स देश की राजधानी मनीला में स्थित है ! “एशियन डेवलपमेंट बैंक” से भारत समेत 68 अन्य देशों की सरकार सदस्य (Member) के तौर पर जुड़ी हुई हैं और इस बैंक ने वर्ष 2018 में लगभग 35 बिलियन यू एस डॉलर (अर्थात लगभग ढाई लाख करोड़ भारतीय रूपये) के विभिन्न सामाजिक कल्याण के कार्यों का एशिया के विभिन्न देशों में क्रियान्वन किया था !

हम आपको यह भी बताना चाहेंगे कि “संयुक्त राष्ट्र संघ” ने भ्रष्टाचार उन्मूलन, मानवाधिकार, श्रम अधिकार व पर्यावरण सुरक्षा के अपने विश्वस्तरीय अभियान में “स्वयं बनें गोपाल” समूह को भी अपना सहभागी बना लिया है ! “यू एन ग्लोबल कॉम्पैक्ट” की वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.unglobalcompact.org/participation/report/cop/create-and-submit/detail/432537

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के अतिरिक्त भारत देश की 340 अन्य आर्गेनाइजेशन्स (Organisations) भी “यू एन ग्लोबल कॉम्पैक्ट” के अभियान से जुड़ी हुईं हैं जिनमें भारत की लगभग सभी प्रसिद्ध अन्तर्राष्ट्रीय आर्गेनाइजेशन्स हैं, जैसे- इनफ़ोसिस (Infosys Ltd), अडानी पॉवर (Adani Power Ltd), एच सी एल टेक्नोलॉजीज (HCL Technologies Ltd.), डॉक्टर रेड्डीज लेबोरेटरीज लिमिटेड (Dr. Reddy’s Laboratories Ltd.), पी वी आर (PVR Ltd), विप्रो (Wipro Ltd), वेदांता (Vedanta Ltd.), टी सी एस (Tata Consultancy Services), हिंदुस्तान यूनिलीवर (Hindustan Unilever Limited), ओ एन जी सी (Oil and Natural Gas Corporation), स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड (Steel Authority of India Ltd), टाटा मोटर्स (Tata Motors Ltd.), भेल (Bharat Heavy Electricals Limited – BHEL), एन टी पी सी (NTPC Ltd), हेल्पेज इंडिया (HELPAGE INDIA), डाबर (Dabur India Limited), सैप इंडिया (SAP India Pvt Ltd), हैवेल्स इंडिया (HAVELLS INDIA LIMITED), हिंदुस्तान पेट्रोलियम (Hindustan Petroleum Corp. Ltd) आदि !

“यू एन ग्लोबल कॉम्पैक्ट” ने “स्वयं बनें गोपाल” समेत अपने से जुड़ी कुछ अन्य आर्गेनाइजेशन्स को अपना “लोगो” (चिन्ह; Logo) इस्तेमाल करने का विशेषाधिकार भी दिया है !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के स्वास्थ्य सम्बन्धित अभियान को “यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज डे” (Universal Health Coverage Day) 12 दिसम्बर पर भी प्रकाशित किया गया है ! “यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज डे” संयुक्त राष्ट्र संघ के ऐतिहासिक व सामूहिक स्वास्थ्य अभियान का परम प्रसिद्ध उत्सव है जिससे पूरे विश्व में स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य करने वाले लगभग सभी एक्सपर्ट्स व प्रोफेशनल्स भलीभांति परिचित है ! “यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज डे” की वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://universalhealthcoverageday.org/blog/2019/12/12/svyam-bane-gopal/

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के स्वास्थ्य सम्बन्धित अभियान को विश्वप्रसिद्ध संस्था “इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन” (The International Diabetes Federation) ने भी “वर्ल्ड डायबिटीज डे” (World Diabetes Day, विश्व मधुमेह दिवस) 14 नवम्बर 2019 पर अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया है !

“इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन” लगभग 70 वर्ष पुरानी संस्था है जिससे 170 देशों की 230 संस्थाएं जुड़ी हुईं हैं ! इसकी वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह का विवरण देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें (और ओपेन होने वाले पेज में प्रदर्शित वर्ल्ड मैप में इण्डिया में लखनऊ लोकेशन पर क्लिक करें)- https://www.idf.org/wdd-events/

तथा “स्वयं बनें गोपाल” समूह का आर्गेनाइजेशनल प्रोफाइल कई अन्य संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्थाओं द्वारा स्वीकृत हुआ है, जैसे- “यूनाइटेड नेशंस बिज़नेस एक्शन हब” (United Nations Business Action Hub), “डब्लू एस एस सी सी” (WSSCC ; Water Supply and Sanitation Collaborative Council), “यू एन डी इ एफ” (UNDEF; United Nations Democracy Fund), “ग्लोबल डेव हब” (Global Dev Hub), “यू एन जी एम” (UNGM; United Nations Global Marketplace) आदि !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के स्वास्थ्य सम्बन्धित अभियान को “एस डी जी इम्पैक्ट एवार्ड्स” (SDG Impact Awards) द्वारा भी प्रकाशित किया है ! “एस डी जी इम्पैक्ट एवार्ड्स” संयुक्त राष्ट्र संघ के “सस्टेनेबल डेवेलपमेंट गोल्स” (United Nations Sustainable Development Goals) का समर्थन करता है और यह “यू एन 2020” (UN2020) द्वारा प्रायोजित है ! “एस डी जी इम्पैक्ट एवार्ड्स” की वेबसाइट पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह के इस अभियान को देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.sdgimpactawards.org/projects/svyam-bane-gopal/

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के प्रधान स्वयं सेवक (अध्यक्ष) श्री परिमल पराशर जी को “सी आई वी आई सी यू एस” (www.civicus.org) संगठन ने भी अपने मेम्बर (सदस्य) के तौर पर जोड़ लिया हैं ! यह संगठन पूरे विश्व के सिविल सोसाइटीज व वालंटियर्स (स्वयं सेवी संस्थाओं व स्वयं सेवकों) का 25 वर्षों से भी ज्यादा पुराना संगठन है ! इस संगठन की हेड ऑफिस जोहान्सबर्ग में स्थित है और 175 देशों में स्थित वे प्रसिद्द संस्थाएं व स्वयं सेवक इससे मेम्बर (सदस्य) के तौर पर जुड़े हुए हैं जो अपने अद्भुत सेवा कार्यो के लिए प्रसिद्द हैं !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के पर्यावरण से सम्बन्धित प्रोजेक्ट “सेव आवर प्लेनेट (Save Our Planet)” के कार्यों से प्रभावित होकर “संयुक्त राष्ट्र संघ” के पर्यावरणीय विभाग (United Nations Environment; www.worldenvironmentday.global) द्वारा, हमारे प्रधान स्वयं सेवक (अध्यक्ष) को “वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे हीरो” (World Environment Day Hero) चुना गया था ! जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें – https://www.svyambanegopal.com/wp-content/uploads/2019/05/World-Environment-Day-Hero-Parimal-Parashar-certificate-by-United-Nations-Environment.pdf !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के अध्यक्ष श्री परिमल पराशर जी संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था “यूनाइटेड नेशन्स वालंटियर्स” और “यूनाइटेड नेशन्स ऑनलाइन वालंटियरिंग” से भी एक स्वयं सेवक के तौर पर जुड़े हुए हैं ! तथा वे “संयुक्त राष्ट्र संघ” की कई देशों में होने वाली कांफ्रेंस व मीटिंग्स में सम्मिलित होने के लिए रजिस्टर्ड भी हो चुकें हैं !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के सेवा कार्यों की, कई विश्व स्तरीय संस्थाओं के विभागों (जिसमें से कई “संयुक्त राष्ट्र संघ” के हैं) ने सराहना की है, जैसे- “वर्ल्ड ट्रेड आर्गेनाइजेशन” (World Trade Organization; www.wto.org) के “इनफार्मेशन एंड एक्सटर्नल रिलेशन्स विभाग” (Information and External Relations Division) द्वारा, “द बी टीम” (THE B TEAM; http://www.bteam.org) के “ह्यूमन रिसोर्स डिपार्टमेंट” द्वारा, “यू एन ऍफ़ सी सी सी” (United Nations Framework Convention on Climate Change; www.unfccc.int) के “रिसोर्स मोबलाईजेशन एंड पार्टनरशिप टीम” द्वारा, “डब्ल्यू डब्ल्यू ऍफ़” (WWF; World Wildlife Fund; https://www.worldwildlife.org) द्वारा, “फ़ूड एंड एग्रीकल्चरल आर्गेनाइजेशन” (Food And Agriculture Organization; www.fao.org) के “सिविल सोसाइटी टीम” (Civil Society Team) द्वारा, “ह्यूमन सिक्यूरिटी यूनिट” (HUMAN SECURITY UNIT; https://www.un.org/humansecurity/human-security-unit/), “यूनोप्स” (UNOPS; United Nations Office for Project Services; www.unops.org) के “एथिक्स एंड कंप्लायंस ऑफिसर” (Ethics and Compliance Officer) द्वारा, “यूनाइटेड नेशंस ग्लोबल कॉम्पैक्ट” (“United Nations Global Compact” ; www.unglobalcompact.org) द्वारा, “यू एन वाटर टेक्निकल एडवाइजरी यूनिट” (UN-Water Technical Advisory Unit; https://www.unwater.org/) द्वारा, “यू एन फाउंडेशन” (UN Foundation; https://unfoundation.org/) द्वारा, “यूनाइटेड नेशंस एनवायरनमेंट” ( www.worldenvironmentday.global) द्वारा “जार्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी” (George Washington University; https://www.gwu.edu/) द्वारा, “वन ड्राप” (One Drop; https://www.onedrop.org/en/) द्वारा, “चैरिटी वाटर” (Charity Water; https://my.charitywater.org/) द्वारा, आदि (कृपया विस्तृत जानकारी के लिये, “स्वयं बनें गोपाल” समूह के लेखो को पढ़ें) !

“स्वयं बनें गोपाल” संस्था के बारे में और विस्तार से जानने के लिए कृपया इस वेबसाइट के आर्टिकल्स को पढ़ें ! वैसे गूगल एनलिटिक्स के आंकड़ों के अनुसार “स्वयं बनें गोपाल” समूह की इस वेबसाइट के पाठकों की संख्या विश्व के 174 देशों तक में फ़ैल चुकी है, जबकि पूर्व में यह 169 देशों तक में थी और अगर शहरों की बात करें तो यह पूर्व के 4311 शहरों के आंकड़े से बढ़कर 4601 तक पहुँच गयी है !

treatment in hindi diagnosis ayurveda herbal yoga pranayama asana jadi buti naturopathy medicines causes symptoms hiv 1 2 spread cure prevention yogasana veda mantra tantra yantraइन शहरों में विश्व के सभी बड़े शहरों (जैसे – वाशिंगटन, अबू धाबी, मास्को, सैन फ्रांसिस्को, मियामी, दुबई, लॉस एंजिलिस, बैंकाक, इस्तांबुल, न्यूयॉर्क, जेद्दाह, सिडनी, दोहा, औस्टिन, जोहान्सबर्ग, लन्दन, शिकागो, मस्कट, बीजिंग, ह्यूस्टन, नैरोबी, बोस्टन, शारजाह, अटलांटा, सिंगापुर, डरहम, फिलाडेल्फिया, टोरंटो, ब्रिस्बेन, हॉन्ग कॉन्ग, पर्थ, बर्लिन, ऑक्लैण्ड, रोम, पेरिस, डबलिन, शंघाई, मिलान, सिओल, कंसास सिटी, सेंट पीटर्सबर्ग, कैम्ब्रिज, बेवर्ली हिल्स, कोलंबिया, म्यूनिख, मक्का, होनोलुलू, नई दिल्ली, वेनकुअर, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, लखनऊ आदि आदि) से लेकर छोटे शहरों (जैसे- भागलपुर, समस्तीपुर, रतलाम, कोल्हापुर, बलिया, लुधियाना आदि आदि) तक “स्वयं बनें गोपाल” समूह के पाठक गण मौजूद हैं !

इस वेबसाइट पर विभिन्न सर्च इंजन्स (जैसे गूगल, बिंग आदि) से पहुचने वाले, लाखों नए पाठकों के अतिरिक्त फेसबुक सोशल मीडिया से जुड़ने वाले आदरणीय मित्रों की संख्या भी 2,75,000 से अधिक हो चुकी है (नोट- अगर आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह की वेबसाइट के नियमित पाठक हैं लेकिन इसके फेसबुक पेज से नहीं जुड़े हैं, तो कृपया अभी जुड़ें) !

वर्तमान में “स्वयं बनें गोपाल” की वेबसाइट में विभिन्न जीवनोपयोगी महत्वपूर्ण विषयों पर आधारित 1000 से भी अधिक आर्टिकल्स प्रकाशित हैं ! अभी “स्वयं बनें गोपाल” समूह के अधिकाँश लेख हिंदी भाषा में प्रकाशित हैं और कुछ ही आर्टिकल्स इंग्लिश भाषा में प्रकाशित हैं लेकिन भविष्य में हम सभी लेखों को इंग्लिश के साथ – साथ, फ्रेंच व स्पेनिश भाषा (French & Spanish languages) में भी प्रकाशित करेंगे !

इस वेबसाइट के आर्टिकल्स में वर्णित जानकारियां इतनी ज्यादा दुर्लभ व फायदेमंद होतीं हैं कि कई विशिष्ट व उच्च हस्तियाँ अक्सर इस वेबसाइट में वर्णित जानकारियों का रेफ़रन्स देतें रहतें हैं {जैसे- 2016 में हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा प्रकाशित पुस्तक “योग शिक्षा” के प्रकाशन में, भारत के जिन प्रसिद्ध योग संस्थानों/प्रयासों (जिनमें- श्री श्री रवि शंकर का आर्ट ऑफ़ लिविंग, श्री बी.के. एस. अयंगर का इलस्ट्रेटेड लाइट ऑन योगा, श्री जग्गी वासुदेव का ईशा योग आदि सम्मिलित हैं) द्वारा योग सामग्री प्राप्त की गयी है उनमें “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान का भी नाम है ! इस पुस्तक का ऑन लाइन वर्जन पढ़ने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://rmsahimachal.nic.in/Docs/Final%20Yoga%20Module%2021-11-2016.pdf} !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह की वेबसाइट पर दी गयी जानकारियों (हमारी राष्ट्र भाषा हिंदी से सम्बन्धित जानकारियों) को “ताजिक नेशनल यूनिवर्सिटी” (Tajik National University) के लिए भी प्रयोग किया गया है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.tnu.tj/DisserPhD/6D.KOA-022/YunusiA/YunusiA.pdf
यह 70 वर्ष पुरानी यूनिवर्सिटी ताजिकिस्तान देश की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी है जिसमें 23 हजार स्टूडेंट्स अध्ययन करतें हैं और यह राजधानी दुशान्बे में स्थित है !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह की वेबसाइट की जानकारियों को विश्व प्रसिद्ध स्वास्थ्य वेबसाइट “सिम्प्टोमा” (Symptoma) भी अपने मरीजों के लिए प्रयोग करती है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://www.symptoma.in/hi/ddx/back-pain+cough+headache).
वास्तव में “सिम्प्टोमा” को पूरे विश्व में सबसे ज्यादा मरीजों व डॉक्टर्स द्वारा लक्षणों की खोजबीन के लिए इस्तेमाल की जाने वाली वेबसाइट मानी जाती है ! इस वेबसाइट के संस्थापक को “यूरोपियन संसद” में (2017 में) और “जर्मन संसद” में (2019 में) भाषण देने के लिए आमंत्रित किया जा चुका है !

हमारी वेबसाइट का वर्णन अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक “ट्रेंड्स इन लिंगविस्टिक स्टडीज एंड मोनोग्राफ्स” (Trends in Linguistics Studies and Monographs) में भी किया गया है जिसे देखने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- https://books.google.co.in/books?id=HItuDwAAQBAJ&pg=PA277&lpg=PA277&dq=%22svyambanegopal%22&source=bl&ots=82yOJCvN78&sig=ACfU3U2zQKOubS9zIS3TvD-L1c7HpOmGGQ&hl=en&sa=X&ved=2ahUKEwjX0vz2-67oAhUt8HMBHWzSCbM4FBDoATAIegQIChAB#v=onepage&q&f=false

यह पुस्तक “जर्मन नेशनल लाइब्रेरी” (German National Library; Deutsche National Bibliothek) द्वारा प्रकाशित की गयी है और इसमें हिंदी भाषा के अध्ययन से सम्बन्धित उस इंटरनेशनल कांफ्रेंस की जानकारियां भी हैं जिसका आयोजन पेरिस शहर में भारत सरकार के विदेश मंत्रालय व फ़्रांस स्थित भारतीय दूतावास ने किया था !

सारांशतः हम यही बताना चाहेंगे कि “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान एक सामूहिक प्रयास है, मानवता पूर्ण विचारों के अधिक से अधिक प्रचार प्रसार के लिए, जिससे पूरी मानव जाति का चहुँमुखी विकास सुनिश्चित हो सके !

जैसे “श्री गोपाल” का पूरा जीवन दूसरों के दुःख हरने में बीता उसी तरह, उन्ही परम आदरणीय श्री गोपाल के सर्व हित व सर्व सेवा के आदर्शों को अपना परम लक्ष्य मानते हुए, “स्वयं बनें गोपाल” समूह का भी यही पूर्ण प्रयास रहता है कि कैसे इस निराशा से पीड़ित समाज को शांत, सौम्य और सुखी बनाने में अधिक से अधिक सहायक हो सके !

अतः “स्वयं बनें गोपाल” ऐसे ही उत्साही और मेहनती लोगो का समूह है जो अपने स्टेटस और क्वालिफिकेशन को तब तक हाई नहीं, व्यर्थ मानते है जब तक उनकी पढ़ाई, उनका बिज़नेस किसी भूखे के पेट में खाना ना डाल सके या निरीह जीवो की सेवा ना कर सके !

ऐसे काम करने से तुरंत अपने मन में सुख मिलता है इसलिए हर अच्छा आदमी अपनी जिंदगी में ऐसे अच्छे काम जरूर करना चाहता है पर वास्तविकता में रोजमर्रा के कामो में ही उलझ कर आदमी की जिंदगी का एक एक दिन बहुत तेजी से बीतता चला जाता है और अन्त समय अपनी मृत्यु शय्या पर सोच – सोच कर दुखी होता है कि उसने एक मानव शरीर पाकर भी सिर्फ जानवरो की तरह अपना पूरा जीवन अपने और अपने परिवार के खाना, पीना, बच्चे पैदा करना और घर सजाने में ही बिता दिया !

पर उस समय दुखी होने से कोई लाभ नहीं होता क्योकि जीवन के दीपक में तेल ख़त्म हो चुका होता है !

treatment in hindi diagnosis ayurveda herbal yoga pranayama asana jadi buti naturopathy medicines causes symptoms hiv 1 2 spread cure prevention yogasana veda mantra tantra yantraनिष्कर्षतः “स्वयं बनें गोपाल” उन्ही दूरदर्शी लोगो का समूह है जो अपनी मृत्यु शय्या पर विलाप नहीं हर्षित होना चाहते है कि, हाँ, हमने अपना जीवन सिर्फ अपने लिए ही नहीं, बल्कि दूसरो के लिए भी जीया है !

आज के समय में निरीह, गरीब, परेशान बहुत हैं लेकिन उनकी मदद करने वाले बहुत ही थोड़े से ! अतः सर्वत्र फैली हुई ऐसी हृदय विदारक स्थिति में “स्वयं बनें गोपाल” समूह पूरे आदर के साथ अनुरोध और आवाहन करता है, विश्व के सभी नागरिकों से कि, वे अपने अंदर के “गोपाल” को जगायें और, “स्वयं बनें गोपाल” !

“गोपाल” वो होता जिसका अपनी “गो” अर्थात “इन्द्रियों” (अर्थात स्वार्थी मानसिकता) पर नियन्त्रण होता है और ऐसा ही परोपकारी व्यक्ति, बिना अपने किसी फायदे के, सिर्फ दूसरों की भलाई के लिए हर उचित प्रयास कर सकता है !

“गोपाल” वो भी होता जो “गो” (अर्थात भारतीय देशी गाय माता) को साक्षात देवी का रूप मानकर, बड़े आदर से उनका पालन पोषण करता है क्योकि सारे वेद पुराण में गाय माता का दर्जा भगवान के ही समकक्ष ही बताया गया है !

indian cow urine krishna gomata radha braj vrindavan gomutra गोमूत्र भारतीय देशी गाय माता की नस्लइसलिए गाय माता को पूरे विश्व की माता (अर्थात “जगत माता”) बताते हुए कहा गया है कि अकेले गोबर व गोमूत्र (Indian Desi breeds cow Gomutra or urine and Dung) के प्रयोग से ही खेती की पैदावार इतनी ज्यादा निश्चित बढ़ाई जा सकती है कि पूरे विश्व में कभी भी, किसी भी प्राणी को भूख की असहनीय अग्नि में जलने की नौबत ही ना आने पाए और साथ ही साथ शुद्ध देशी नस्ल की गाय माता का दूध व मूत्र (Cow milk & Gomutr) लगभग हर बिमारी में बहुत ही फायदा है !

अतः “स्वयं बनें गोपाल” अति विनम्रता के साथ बारम्बार, सबसे यही निवेदन करता है कि, जो पूरे विश्व में जहां कहीं भी है, वो वहीँ पर रहकर अधिक से अधिक परपीड़ा शमनार्थ निरन्तर प्रयास करता रहे और साथ ही साथ पूरे मानव जगत से भुखमरी व बिमारी के स्थायी निदान के लिए अति आवश्यक “जगत माता” स्वरुप गाय माता की भुला दी गयी दिव्य महिमा के पुनरुत्थान में सहायक भी हो सके !

अतः यदि आपका मन भी निसहाय, लाचार और निराश्रित लोगों को देख व्यथित व बेचैन हो उठता है तो कृपया आप हमारे इस प्रयास से अवश्य जुड़े !

अंततः “स्वयं बनें गोपाल” समूह पूरे विश्व से सादर प्रार्थना करता है योग के साथ साथ पूरी तरह से शाकाहार अपनाने की, क्योंकि शाकाहार ही सदाचार की वो प्रथम सीढ़ी है जिससे हृदय में एक स्थायी प्रसन्नता का अवतरण संभव हो पाता है और यही स्थायी प्रसन्नता ही सभी तरह की उदिग्नता को शांत कर सभी अपराधिक मानसिक प्रवृत्तियों का नाश कर सकती है ताकि एक सौ प्रतिशत अपराध मुक्त समाज का निर्माण संभव हो सके !

जिसका एक बड़ा उदाहरण यह भी है कि चाहे कितना भी बड़ा अपराधी क्यों ना हो, अगर उसे नियमित रूप से लम्बे समय तक सात्विक खाना (जैसे- दाल, चावल, रोटी, सब्जी, देशी घी आदि) खिलाया जाए और नियमित योग भी कराया जाए तो यह असम्भव है कि वह भविष्य में कोई दुर्दान्त अपराध कर पाने की हिम्मत जुटा सके क्योंकि योग व शाकाहार के सम्मिलित अभ्यास से आत्मिक बल इतना ज्यादा मजबूत हो जाता है कि व्यक्ति कभी भी अपराध के रास्ते पर जा ही नहीं सकता जबकि वहीँ दूसरी तरफ किसी शांत सज्जन आदमी को भी अगर रोज तामसिक खाना (जैसे मांस, मछली, अंडा, शराब, बियर आदि) नियमित खिलाया जाए तो बहुत संभव है कि वह सज्जन व्यक्ति भी, कभी भी जाने अनजाने कोई ऐसा जघन्य पाप (जैसे- हत्या, बुरी तरह मारपीट करना, बलात्कार आदि) कर दे जो वो पहले कभी सोच भी नहीं सकता था ! इसलिए परम आदरणीय हिन्दू धर्म का यह कथन “जैसा अन्न वैसा मन” एकदम सही है !

इसके अतिरिक्त निर्दोष जानवरों की जब हत्या होती है तो उनके दिल से भयंकर श्राप निकलता है जो उन्हें मारने वाले कसाईयों और उनकी लाशों के मांस खाने वाले लोगों दोनों का लगता है जिसकी वजह से ऐसे लोगों की जिंदगी में आये दिन ऐसी समस्याएं (जैसे कठिन बीमारियाँ, एक्सीडेंट, कर्जा, गरीबी, अपमान आदि किसी भी रूप में) पैदा होती रहतीं हैं जों उन्हें खून के आंसू रुलाती हैं ! जबकि शाकाहारी के जीवन में, किसी मांसाहारी की तुलना में बहुत ज्यादा सुख शान्ति प्रसन्नता निश्चित तौर पर बनी रहती है ! इसलिए मांसाहार करना तुरंत छोड़ देना चाहिए !

खुद भी शाकाहार करिए और दूसरों को भी शाकाहार अपनाने के लिए प्रेरित करिए क्योंकि अगर आपकी प्रेरणा से कभी किसी एक निर्दोष जानवर की हत्या होने से बच गयी तो इसका महा पुण्य आपको जरूर मिलेगा जो आपके इस लोक व परलोक में बहुत काम आएगा !

(नोट- अगर मांस, मछली या अंडा आदि खाने का बार बार मन करता हो तो कृपया नीचे दिए गए आर्टिकल के लिंक को क्लिक कर पढ़ें और उसमें बताये गए बेहद आसान तरीके को मात्र 5 मिनट सुबह व रात में करने से, ना केवल मांस खाने की आदत बल्कि अन्य सभी तरह की बुरी आदतों से मात्र 40 दिनों में ही छुटकारा निश्चित मिलने लगता है और साथ ही साथ सभी तरह की बीमारियों व सभी समस्याओं का भी नाश धीरे धीरे होने लगता है और इतना ही नहीं बल्कि सभी उचित मनोकामनायें भी उचित समय आने पर निश्चित पूरी होकर ही रहती है ! इस आर्टिकल को पढने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- सभी बिमारियों, सभी मनोकामनाओं व सभी समस्याओं का निश्चित उपाय है ये )

धन्यवाद (Thanks & Regards),

संपर्क पता (Contact Address)- “स्वदेश चेतना” न्यूज़ पेपर बिल्डिंग, नियर सुशांत गोल्फ सिटी, अर्जुनगंज, लखनऊ, उत्तर प्रदेश, भारतवर्ष (“Swadesh Chetna” News Paper Building, near Sushant Golf City, Arjunganj, Lucknow, Uttar Pradesh, India).

सम्पर्क ईमेल (Contact Mail)– svyambanegopal[at]gmail[dot]com

फेसबुक पेज (facebook Page)- https://www.facebook.com/Svyam-Bane-Gopal-580427808717105/

ट्विटर (twitter)- https://twitter.com/svyambanegopal

यूट्यूब चैनल (YouTube Channel)- https://www.youtube.com/channel/UC1-L38VCSKf9UeR0IXD8dkA

Click Here To View ‘About Us / Contact Us’ in English

कृपया हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, लुप्त होते हुए दुर्लभ ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी प्रकार के उपायों व जानकारियों को किसी भी प्रकार से प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)