राष्ट्र भाषा हिंदी के प्रेमियों का सतत प्रयास हुआ कामयाब, पहली बार संयुक्त राष्ट्र संघ के बहुभाषावाद प्रस्ताव में हिंदी का उल्लेख

आप सभी आदरणीय पाठकों को प्रणाम,

विश्व की तीसरी सबसे ज्यादा बोले जाने वाली भाषा होने के बावजूद भी, हिन्दी भाषियों को वर्षों का इंतजार करना पड़ा इस सम्मान को पाने के लिए कि अब हिंदी (Hindi Language) को भी संयुक्त राष्ट्र संघ की जनरल असेंबली (United Nations General Assembly) के कामकाज में जगह मिलेगी। जनरल असेंबली ने 10 जून 2022 को इस दिशा में एक उल्लेखनीय पहल करते हुए “बहुभाषावाद” (multilingualism) पर भारत की ओर से पेश किए गए प्रस्ताव को पारित कर दिया (जिसके बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए, कृपया मीडिया में प्रकाशित इस खबर को पढ़ें- संयुक्त राष्ट्र के कामकाज में ‘हिंदी भाषा’ को मिली जगह) !

वास्तव में हिंदी भाषा के खोये हुए सम्मान को वापस दिलाने के लिए, वर्षों से कई महानुभावो ने विश्व स्तर पर काफी प्रयास किया है ! अभी हाल में ही “स्वयं बनें गोपाल” समूह के प्रधान स्वयं सेवक व अध्यक्ष श्री परिमल पराशर जी भी बहुभाषावाद (multilingualism), स्वास्थ्य, शिक्षा व समाज कल्याण पर आयोजित विश्वस्तरीय दो दिवसीय (3 व 4 मई 2022) कार्यक्रम में आमंत्रित थे, जिसमें भाग लिया था संयुक्त राष्ट्र संघ के कई उच्च स्तरीय अधिकारियों, संघीय देशों के हाई लेवल डेलीगेट्स, शिक्षा – स्वास्थ्य के क्षेत्र की प्रसिद्ध हस्तियां और सिविल सोसाइटी लीडर्स आदि ने (“The Study Group on Language and the United Nations”; https://www.languageandtheun.org/events.html) ! इस कार्यक्रम के प्रायोजक “स्प्रिंगर नेचर” (https://www.springernature.com/in) जैसे विश्व के सर्वश्रेष्ठ रिसर्च प्रकाशक माने जाने वाली संस्थाएं थी !

उपर्युक्त संदर्भ के अतिरिक्त हम “स्वयं बनें गोपाल” समूह से संबंधित कुछ अन्य विश्व निर्माण में सहायक कार्यक्रमों की जानकारी देना चाहेंगे ! संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था “यू. एन. ग्लोबल कॉम्पैक्ट” (https://www.unglobalcompact.org/) व विश्व प्रसिद्ध आई. टी. कंपनी “एसेंचर” (Accenture; https://www.accenture.com/sg-en) द्वारा 26 मई 2022 को आयोजित एशिया – पैसिफिक के विकासीय मुद्दे पर कार्यक्रम (“CEO perspectives from Asia Pacific”) में भी श्री परिमल जी आमंत्रित थे (इस कार्यक्रम के मॉडरेटर मिस्टर “जुर्गेन कोप्पेन्स” थे जो कि एसेंचर कंपनी के साउथ ईस्ट एशिया के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं) !

अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च 2022) पर महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था “यू. एन. इ. पी.” (UNEP; https://www.unep.org/) द्वारा आयोजित कार्यक्रम के अलावा, 13 मई 2022 को संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था (Office of the Special Representative of the Secretary-General on Violence against Children; https://violenceagainstchildren.un.org/) द्वारा बच्चों की सुरक्षा हेतु आयोजित कार्यक्रम में भी आमंत्रित थे परिमल जी !

17 मई 2022 को विश्व दूरसंचार दिवस (World Telecommunication and Information Society Day) पर संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था “आई. टी. यू.” (International Telecommunication Union; https://www.itu.int/en/Pages/default.aspx) आयोजित कार्यक्रम में भी परिमल जी आमंत्रित थे !

जय हो परम आदरणीय गौ माता की !
वन्दे मातरम् !

“स्वयं बनें गोपाल” समूह, “संयुक्त राष्ट्र संघ” के विभिन्न विश्वस्तरीय उपक्रमों से पार्टनर, मेंबर व स्टेकहोल्डर आदि के तौर पर भी जुड़ चुका है जिनके बारे में जानने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें- वसुधैव कुटुंबकम्

कृपया हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ऐप (App) को इंस्टाल करने के लिए यहाँ क्लिक करें


डिस्क्लेमर (अस्वीकरण से संबन्धित आवश्यक सूचना)- विभिन्न स्रोतों व अनुभवों से प्राप्त यथासम्भव सही व उपयोगी जानकारियों के आधार पर लिखे गए विभिन्न लेखकों/एक्सपर्ट्स के निजी विचार ही “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट/फेसबुक पेज/ट्विटर पेज/यूट्यूब चैनल आदि पर विभिन्न लेखों/कहानियों/कविताओं/पोस्ट्स/विडियोज़ आदि के तौर पर प्रकाशित हैं, लेकिन “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट, इस वेबसाइट/फेसबुक पेज/ट्विटर पेज/यूट्यूब चैनल आदि के द्वारा, और किसी भी अन्य माध्यम के द्वारा, दी गयी किसी भी तरह की जानकारी की सत्यता, प्रमाणिकता व उपयोगिता का किसी भी प्रकार से दावा, पुष्टि व समर्थन नहीं करतें हैं, इसलिए कृपया इन जानकारियों को किसी भी तरह से प्रयोग में लाने से पहले, प्रत्यक्ष रूप से मिलकर, उन सम्बन्धित जानकारियों के दूसरे एक्सपर्ट्स से भी परामर्श अवश्य ले लें, क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं ! अतः किसी को भी, “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट/फेसबुक पेज/ट्विटर पेज/यूट्यूब चैनल आदि के द्वारा, और इससे जुड़े हुए किसी भी लेखक/एक्सपर्ट के द्वारा, और किसी भी अन्य माध्यम के द्वारा, प्राप्त हुई किसी भी प्रकार की जानकारी को प्रयोग में लाने से हुई, किसी भी तरह की हानि व समस्या के लिए “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट जिम्मेदार नहीं होंगे ! धन्यवाद !