स्वयं बने गोपाल

कई महान आश्चर्यों को अपने में समेटा है पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर

वैसे तो उड़ीसा के पुरी मंदिर को कलियुग का साक्षात मोक्षदायिनी तीर्थ कहा गया है और जहा साक्षात जगन्नाथ भगवान कृष्ण विराजते हो उस स्थल पर अनगिनत दृश्य – अदृश्य आश्चर्य होंगे जिनके बारे...

जानिये बारिश के पानी के औषधीय गुण

बारिश के पानी का कोई चिकित्सकीय लाभ भी हो सकता है ऐसा बहुत से लोगो को बिलकुल नहीं पता। पर हां सावन के महीने की शुरू की चार पांच बारिश के पानी को छोड़कर,...

धर्म पिता के धर्म पुत्र का धर्म

पांड़ु पुत्र युधिष्ठर के बारे में चर्चा करते ही लोग उनके जुए में सर्वस्व हारने की बात याद करते है पर ये भूल जाते है की युधिष्ठर जी से बड़ा धर्मात्मा त्यागी बलिदानी मानव,...

मृत गाय माता का पुर्नजन्म

संत अपनी योग विभूतियों को जगजाहिर नहीं करते लेकिन जरुरत पड़ने पर कृपा करने से पीछे भी नहीं हटते। मिथिला के बनगाँव के श्री कारी खाँ ने स्वामी जी को दूध पीने के लिए...

मानव शरीर के रहस्यमय रस

हारमोन्स जन्य विचित्रताओं में कुछ आश्चर्य से भर देती हैं। आमस्टर-माइजे निवासी जान मिल्के 124 वर्ष तक जिये। उसने अन्तिम विवाह 80 वर्ष की आयु एक अठारह वर्षीय युवती से किया। इसके बाद उसके...

हैरान करने वाले लाभ, साधारण से दिखने वाले योग के

भारतवर्ष के उच्च स्तर के चिकित्सकों ने अध्ययन के दौरान उन्होंने देखा, कि जिन रोगियों ने लगातार पाँच वर्ष तक योगाभ्यास (Yoga practise) किया, उनमें से मात्र सात प्रतिशत को ही इस दौरान दूसरा...

बड़े बुजुर्गो द्वार दिया गया अनुभवी ज्ञान

– जो कार्य बड़े हथियार से नहीं किये जा सकते वो कार्य आदमी की प्रकृति परखकर करवाए जा सकते हैं। जैसे की अहंकारी के सामने हाथ जोड़ कर, मूर्ख के साथ उसको जैसी इच्छा...

पूरे विश्व के बारह शिवलिंग एक ही स्थान पर, वह भी भगवान श्री राम द्वारा स्थापित

मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार ने भी उस रामपथ को खोजने की शुरूआत की है जो अयोध्या से चित्रकूट होता हुआ दण्डकारण क्षेत्र से पंचवटी होते हुआ रामेश्वरम जाता है ! क्या भगवान श्री राम...

क्यों है महाबली शनि देव के हाथ में दण्ड

शनि देव के कर्मों को लेकर अक्सर लोगो में भ्रम बना रहता है की शनि देव इतने क्रोधी और दुःख देने वाले क्यों है । पर लोगो को यह नहीं समझ में आता की...

एक जीभ चार जबान

वाणी सामान्य अर्थों में वह कही जाती है जो जिह्वा से कही और कानों से सुनी जाये। इसका एक स्वरूप लेखन और वाचन भी हो सकता है। यह स्थूल वाणी है जो विचारों के...

अमेरिका की धर्म सभा में श्री विवेकानंद का आगाज

(श्री विवेकानंद का भाषण सन 1893 में, अमेरिका के शिकागो में)- अमेरिका के बहनो और भाइयों, आपके इस स्नेहपूर्ण और जोरदार स्वागत से मेरा हृदय अपार हर्ष से भर गया है। मैं आपको दुनिया...

कमजोर और बीमार शरीर तुरन्त रिस्टोर व रिफ्रेश होने लगता है ध्यान में

ध्यान की विभिन्न स्थितियों का अनुसंधान कर रहे वैज्ञानिकों ने पाया हैं कि ध्यान (dhyan) की अतल गहराई में प्रविष्ट होने पर साधक के शारीरिक एवं मानसिक क्रिया-कलापों में एकरसता- साम्यता आती है। ऐसी...

हस्त मुद्राऐं और उनके लाभ

ब्रह्म मुद्रा (Brahma mudra) – – रीढ़ की हड्डी और गर्दन सीधी रखते हुए गर्दन को धीरे-धीरे दाईं ओर ले जाएं, कुछ देर रुकें और फिर गर्दन को सीधे बाईं ओर ले जाएं। फिर...

हर कोई जरूर पा सकता है चमत्कारी सिद्धियों के इन सर्व सुलभ प्रारूप को

चाहे व्यक्ति भगवान की भक्ति में कड़ी मेहनत करें या हठ योग में कड़ी मेहनत करे या राज योग में, उसको कुछ दिन बाद अपने शरीर में धीरे – धीरे, अलग – अलग किस्म...

बहुत सीधा और आसान पर बेहद आश्चर्यजनक फायदेमंद

सदैव अचूक फल देने वाला सिद्धांत है कि, अगर आपको आपकी किसी बीमारी में आराम ना मिल रहा हो तो आप तुरन्त ऐसे गरीब लाचार लोगों (जो पैसे की कमी के वजह से अपना...

आखिर क्यों कई शास्त्रज्ञ गौ को ही साक्षात कृष्ण मानते हैं ?

सारे भारत में कहीं भी चले जाइए और सारे तीर्थ स्थानों के देवस्थान देख आइए। आपको किसी मंदिर में केवल श्री विष्णु भगवान मिलेंगे, किसी मंदिर में श्री लक्ष्मी नारायण दो मिलेंगे। किसी में...