कहानी – हिंसा परम धर्म – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

दुनिया में कुछ ऐसे लोग होते हैं, जो किसी के नौकर न होते हुए सबके नौकर होते हैं, जिन्हें कुछ अपना काम न होने पर भी सिर उठाने की फ़ुर्सत नहीं होती। जामिद इसी...

कहानी – गुंडा (लेखक – जयशंकर प्रसाद)

वह पचास वर्ष से ऊपर था। तब भी युवकों से अधिक बलिष्ठ और दृढ़ था। चमड़े पर झुर्रियाँ नहीं पड़ी थीं। वर्षा की झड़ी में, पूस की रातों की छाया में, कड़कती हुई जेठ...

कहानी – मानसरोवर – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

हाय बचपन ! तेरी याद नहीं भूलती ! वह कच्चा, टूटा घर, वह पुवाल का बिछौना; वह नंगे बदन, नंगे पाँव खेतों में घूमना; आम के पेड़ों पर चढ़ना , सारी बातें आँखों के...

कहानी – इस्तीफा – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

दफ्तर का बाबू एक बेजबान जीव है। मजदूरों को आँखें दिखाओ, तो वह त्योरियॉँ बदल कर खड़ा हो जायकाह। कुली को एक डाँट बताओं, तो सिर से बोझ फेंक कर अपनी राह लेगा। किसी...

हर दिन कितने खतरों और बीमारियो से बचा सकता है सही तरीके से पहना हुआ जनेऊ

जनेऊ एक ऐसा दिव्य धागा है जो विधि विधान से पहना जाय तो आपको कितनी किस्म की अनजान बाधाओं और रोगों से रोज रोज बचा लेता है | मल-मूत्र विसर्जन के पूर्व जनेऊ को...

कहानी – रूप की छाया (लेखक – जयशंकर प्रसाद)

काशी के घाटों की सौध-श्रेणी जाह्नवी के पश्चिम तट पर धवल शैलमाला-सी खड़ी है। उनके पीछे दिवाकर छिप चुके। सीढिय़ों पर विभिन्न वेष-भूषावाले भारत के प्रत्येक प्रान्त के लोग टहल रहे हैं। कीर्तन, कथा...

कहानी – एक्ट्रेस – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

रंगमंच का परदा गिर गया। तारा देवी ने शकुंतला का पार्ट खेलकर दर्शकों को मुग्ध कर दिया था। जिस वक्त वह शकुंतला के रुप में राजा दुष्यंत के सम्मुख खड़ी ग्लानि, वेदना, और तिरस्कार...

कहानी – ब्रह्मर्षि (लेखक – जयशंकर प्रसाद)

नवीन कोमल किसलयों से लदे वृक्षों से हरा-भरा तपोवन वास्तव में शान्ति-निकेतन का मनोहर आकार धारण किये हुए है, चञ्चल पवन कुसुमसौरभ से दिगन्त को परिपूर्ण कर रहा है; किन्तु, आनन्दमय वशिष्ठ भगवान् अपने...

कहानी – अग्नि-समाधि – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

साधु-संतों के सत्संग से बुरे भी अच्छे हो जाते हैं, किन्तु पयाग का दुर्भाग्य था, कि उस पर सत्संग का उल्टा ही असर हुआ। उसे गाँजे, चरस और भंग का चस्का पड़ गया, जिसका...

भ्रष्टाचार का कैंसर, कहीं हमारी पहचान तो नहीं बन रहा ?

विश्व गुरु कहलाने वाला हमारा देश आज भ्रष्टाचार से बुरी तरह से जूझ रहा है ! कुछ चन्द लोगों को छोड़ कर पूरा तंत्र ऊपर से नीचे तक भ्रष्ट हो चुका है ! ज्यादातर...

कहानी – पाप की पराजय (लेखक – जयशंकर प्रसाद)

घने हरे कानन के हृदय में पहाड़ी नदी झिर-झिर करती बह रही है। गाँव से दूर, बन्दूक लिये हुए शिकारी के वेश में, घनश्याम दूर बैठा है। एक निरीह शशक मारकर प्रसन्नता से पतली-पतली...

कहानी – पिसनहारी का कुआँ – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

गोमती ने मृत्यु-शय्या पर पड़े हुए चौधरी विनायकसिंह से कहा -चौधरी, मेरे जीवन की यही लालसा थी। चौधरी ने गम्भीर हो कर कहा -इसकी कुछ चिंता न करो काकी; तुम्हारी लालसा भगवान् पूरी करेंगे।...

कहानी – प्रतिमा (लेखक – जयशंकर प्रसाद)

जब अनेक प्रार्थना करने पर यहाँ तक कि अपनी समस्त उपासना और भक्ति का प्रतिदान माँगने पर भी ‘कुञ्जबिहारी’ की प्रतिमा न पिघली, कोमल प्राणों पर दया न आयी, आँसुओं के अघ्र्य देने पर...

कहानी – लांछन – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

मुंशी श्यामकिशोर के द्वार पर मुन्नू मेहतर ने झाड़ू लगायी, गुसलखाना धो-धो कर साफ किया और तब द्वार पर आ कर गृहिणी से बोला – माँ जी, देख लीजिए, सब साफ कर दिया। आज...

कहानी – बेड़ी (लेखक – जयशंकर प्रसाद)

”बाबूजी, एक पैसा!” मैं सुनकर चौंक पड़ा, कितनी कारुणिक आवाज थी। देखा तो एक 9-10 बरस का लडक़ा अन्धे की लाठी पकड़े खड़ा था। मैंने कहा-सूरदास, यह तुमको कहाँ से मिल गया?   अन्धे...

कहानी – आसुँओं की होली – (लेखक – मुंशी प्रेमचंद)

नामों को बिगाड़ने की प्रथा न-जाने कब चली और कहाँ शुरू हुई। इस संसारव्यापी रोग का पता लगाये तो ऐतिहासिक संसार में अवश्य ही अपना नाम छोड़ जाए। पंडित जी का नाम तो श्रीविलास...