Category: आपबीती सच्चे अनुभव

गायत्री मन्त्र की सत्य चमत्कारी घटनाये – 7 (डॉक्टरी बिलों से छुटकारा)

पं. राधेश्याम शर्मा पोस्ट मास्टर दीक्षितपुरा लिखते हैं कि जब से मैंने गायत्री माता की शरण ली, तब से मेरा जीवन उत्तरोत्तर उन्नतशील दृष्टिïगोचर होता है। पहले की अपेक्षा मुझे अपने स्वभाव में पर्याप्त...

गायत्री मन्त्र की सत्य चमत्कारी घटनाये – 6 (गायत्री द्वारा प्राण रक्षा)

प्रभूदयाल शर्मा, संपादक सनादय-जीवन लिखते हैं कि मेरे बड़े पुत्र की स्त्री को कई वर्ष तक एक प्रेतात्मा लग गई थी। उससे उसे बड़ा कष्ट होता था। बार-बार बेहोश हो जाती थी। उसे कभी...

गायत्री मन्त्र की सत्य चमत्कारी घटनाये – 5 (मृतक को जीवन दिया)

पं० बालचरण मिश्र, नसरुल्लाह गंज, लिखते हैं कि मेरे पिता जो इटावा जिले के निवासी थे श्री गायत्री के पक्के उपासक थे। प्रात: काल 4 बजे उठकर शौच क्रिया स्नान आदि के बाद सन्ध्या...

गायत्री मन्त्र की सत्य चमत्कारी घटनाये – 4 (पागलपन ठीक हुआ)

श्री शोभाराम गाप, शंकरपुर, लिखते हैं कि हमारा भतीजा राम किशोर बड़े उत्साही स्वभाव का था। सब कामों में आगे रहता था। साथियों को पहलवानी करने का शौक हुआ तो वह भी अखाडें जाने...

गायत्री मन्त्र की सत्य चमत्कारी घटनाये -3 (स्वप्न दोष से छुटकारा)

श्री कैलाश चन्द्र आर्य, खुसरूपर, लिखते हैं कि मुझे स्वप्न दोष की बीमारी थी। कुछ ही दिनों में बीमारी बिना दवा के ठीक हो गई। मैं नित्य सोते वक्त हाथ-पैर धो लेता था। गायत्री...

गायत्री मन्त्र की सत्य चमत्कारी घटनाये -2 (रक्त विकार की शुद्घि)

श्री प्रहद चन्द गोयल, भाखरी, लिखते हैं कि मेरे लड़के चि. लालचन्द का शरीर 16 वर्ष की आयु तक बिल्कुल स्वस्थ रहा उसमें कोई रोग या खराबी न थी, पर इसके बाद उसे चर्म...

गायत्री मन्त्र की सत्य चमत्कारी घटनाये -1 (कठिन पेट के रोगो से मुक्ति)

श्री हरमानभाई पटेल, सदनपुरा, लिखते हैं कि गायत्री माता द्वारा उपार्जित शक्ति का मैंने प्रथम बार उपयोग किया और वह बहुत ही सफल रहा। मेरे बड़े भाई डाहभाई के पेट में कुछ दिन पूर्व...