सिर्फ तीन दिनों में ही कफ बनना निश्चित कम करने वाला योगासन

· November 11, 2017

कोई कफ का चाहे कितना भी पुराना मरीज क्यों ना हो, इस योगासन को करने से, मात्र तीन दिनों में ही उसके शरीर में कफ का बनना कम होने लगता है और इस आसन को नियमित करने से कफ से सम्बंधित लगभग सभी बिमारियों से हमेशा के लिए मुक्ति भी पा सकता है (Cough treatment by Yoga Asana Pranayama)!

इस योगासन से ना केवल कफ बल्कि शरीर की अन्य सैकड़ों बिमारियों में बहुत ही ज्यादा फायदा मिलता है ! सबसे बड़े फायदों में से एक है कि इसके नियमित अभ्यास से चेहरे की त्वचा पर गजब का निखार, तेज व चमक पैदा होने लगती है ! इसके अलावा बालों को सफ़ेदपन और गंजापन भी मिटने लगता है, आँखों की रौशनी बढ़ने लगती है, दांत व मसूढ़े भी मजबूत बनतें हैं, कान दर्द व कान के बहने में लाभ मिलता है, हृदय की ताकत बढती है, पेनक्रियाज (अग्नाशय) की कार्य क्षमता बढाकर इन्सुलिन का स्राव बढ़ाता है जिससे डायबिटिज के मरीजों का शूगर लेवल सामान्य रहने में बहुत मदद मिलती है, पाचन शक्ति मजबूत होती है और कब्ज, गैस व् बवासीर से भी मुक्ति मिलती है, साइनस, टोंसिल, थायराइड, पुराना नजला जुखाम, खांसी आदि समस्याओं में भी अप्रत्याशित आराम पहुँचता है ! यौन शक्ति में भी जबरदस्त इजाफा होता है, शीघ्र पतन व यौनांग की शिथिलता से मुक्ति मिलती है और वीर्य की स्तम्भन शक्ति, शुक्राणुओं की संख्या व गतिशीलता बढ़ती है ! मासिक धर्म सम्बन्धी रोग दूर होतें हैं ! पेट की चर्बी कम होती है ! रीढ़ की हड्डी व पीठ मजबूत एवं निरोगी बनतें हैं ! मानसिक एकाग्रता व याद्दाश्त में आश्चर्यजनक वृद्धि होती है और सभी तरह के सिर दर्द व माईग्रेन का हमेशा के लिए खात्मा होता है, इसके अतिरिक्त सभी तरह के तनाव, डिप्रेशन, दुःख, अवसाद का भी निश्चित नाश होकर मन में काफी शांति व ताजगी महसूस होती है !

वैसे तो यह योगासन करने में बहुत आसान है पर इस योगासन का अभ्यास अर्थात करने का समय धीरे धीरे बढ़ाना चाहिए खासकर हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को (गर्भवती स्त्रियां इसका अभ्यास ना करें) !

इस योगासन का नाम है,- “योग मुद्रासन (The Psychic Union Pose)” और यह बार बार का आजमाया हुआ अनुभूत नुस्खा है कि इस योगासन को करने से बड़े से बड़े कफ के मरीज को भी आराम निश्चित मिलने लगता है !

आराम जल्दी मिलेगा या देर में ; यह इस पर निर्भर करता है कि कौन कफ की बीमारी से किस हद तक पीड़ित है और कौन इस योगासन को कितनी देर तक रोज करता है पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह एक बात के लिए बार बार अपने आदरणीय पाठकों को सावधान करता रहता है कि, जल्दी फायदा पाने के चक्कर में किसी भी योगासन, प्राणायाम या अन्य किसी भी एक्सरसाईज को पहले ही दिन बहुत ज्यादा मात्रा में नहीं कर लेना चाहिए अन्यथा लाभ की जगह हानि होने की भी संभावना रहती है अतः योग मुद्रा को अपनी उम्र व शारीरिक मजबूती के आधार पर पहले दिन कम से कम 2 मिनट से लेकर अधिकतम 10 मिनट तक करें तो बेहतर है, और फिर अगले एक से तीन महीनों में धीरे धीरे इसका अभ्यास बढ़ाते हुए प्रतिदिन आधा घंटा तक पहुचाएं, तो क्या मजाल कि आपके चेहरे पर थोड़ी सी भी झुर्री या बुढापे का कोई अन्य चिन्ह, जल्दी दिख जाए !

इस योगासन का चित्र ऊपर दर्शाया गया है और इसे करने के लिए सर्वप्रथम समतल जमींन पर सूती चद्दर या भेड़ के बाल से बना कम्बल बिछा कर पद्मासन में बैठे !

पद्मासन वही आसन होता है जिसमें बाएं पैर के पंजे को दाई जांघ पर रखना होता है और दायें पैर को बायीं जांघ पर रखना होता है !

पूरी कोशिश करें पद्मासन में ही बैठने की, लेकिन अगर किसी कारण वश पद्मासन में बैठना संभव ना हो पाए तो सुखासन अर्थात साधारण पालथी मारकर ही बैठ जाएँ !

फिर दोनों हाथ पीठ के पीछे ले जाकर, बाए हाथ की उँगलियों से दाहिने हाथ की कलाई पकड़ लें !

फिर इसके बाद सांस बाहर निकालते हुए, धीरे धीरे कमर के ऊपर का हिस्सा, सामने की ओर इतना झुकाएं कि माथा जमीन को छूने लगे (जिनकी तोंद निकली हो उन्हें पहले दिन माथे को जमीन से छूने में दिक्कत हो सकती है, पर धीरे धीरे कुछ दिनों बाद उनका भी माथा आसानी से जमीन छूने लगेगा) !

इसी स्थिति में कम से कम 2 मिनट और अधिक से अधिक ऊपर वर्णित समय अनुसार रुके रहें ! इसी स्थिति में रुके हुए आप धीरे धीरे सांस ले व छोड़ भी सकतें हैं !

फिर जब समय पूरा हो जाए तो धीरे धीरे सांस अंदर लेते हुए कमर के ऊपर का शरीर, ऊपर उठायें और फिर हाथों का बंधन छोड़कर वापस नार्मल स्थिति में आ जाएँ !

यह हुआ, योग मुद्रा करने का तरीका !

कोई भी योगासन सुबह खाली पेट करने से सबसे ज्यादा फायदा मिलता है ! अगर सुबह पानी या चाय पिया हो तो एक से डेढ़ घंटे बाद इस आसन को करना चाहिए पर कुछ ठोस सामान खाया हो तो कम से कम 4 घंटे बाद ही इस आसन को कर सकतें हैं ! इस आसन को करने के आधे घंटे बाद ही कुछ खाना या पीना चाहिए पर अगर बहुत प्यास लगे तो बीच में भी या करने के तुरंत बाद सिर्फ एक दो घूँट पानी पीया जा सकता है !

योग मुद्रा का पूरा लाभ प्राप्त करने के लिए इस आसन को करने के तुरंत बाद इसके विपरीत आसन अर्थात भुजंगासन व शलभासन को कम से कम 2 – 2 मिनट कर लेना चाहिए !

भुजंगासन व शलभासन के चित्र यहाँ दिए गएँ हैं और इन्हें करने की विस्तृत विधि जानने के लिए कृपया, ठीक नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें-

जानिये हर योगासन को करने की विधि

जानिये हर प्राणायाम को करने की विधि

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, सत्य व लुप्त होते हुए ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी प्रकार के उपायों व जानकारियों को किसी भी प्रकार से प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)





ये भी पढ़ें :-



[ajax_load_more preloaded="true" preloaded_amount="3" images_loaded="true"posts_per_page="3" pause="true" pause_override="true" max_pages="3"css_classes="infinite-scroll"]