ज्योतिष के अनुसार क्या कारण व निवारण हो सकता है मोटापा का

अब घर बैठे हुए ही अपनी कठिन शारीरिक, मानसिक, आर्थिक समस्याओं के लिए तुरंत पाईये ऑनलाइन/टेलीफोनिक समाधान विश्वप्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह के बेहद अनुभवी एक्सपर्ट्स द्वारा, इसी लिंक पर क्लिक करके



मोटापा घटाने के लिए अगर हम आध्यत्मिक उपायों को देखे तो वेरी सायिंटीफिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मोटापा होना या ना होना तय करता है, मानव की जन्म कुंडली के अनुसार बृहस्पति ग्रह की स्थिति पर !

मतलब आसान भाषा में कहें तो अगर कुंडली में बृहस्पति ग्रह से सम्बन्धित समस्या हो तो मानव जल्दी मोटापा का शिकार हो सकता है !

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बृहस्पति ग्रह का मुख्यतः वास होता है गुरु (मार्गदर्शक) में इसलिए जिन्होंने अपने पूर्व के किसी जन्म में, अपने गुरु को बहुत दुखी या परेशान किया होता है उनके इस जन्म की कुंडली में बृहस्पति ग्रह की स्थिति समस्याकारक हो सकती है !

उदाहरण के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह एक ऐसे सज्जन को जानता था जिनका वजन बढ़ने लगता था अगर वो बिना किसी एक्सरसाइज के खाने पीने में लापरवाही करें ! उन सज्जन को ये तो पता था कि उनकी कुंडली में बृहस्पति ग्रह कमजोर है, लेकिन ग्रह कमजोर क्यों है ये उन्हें बाद में संतपुरुषो की कृपा से पता चला था !

संतपुरुषों द्वारा उन सज्जन को पता चला था कि पूर्व के किसी जन्म में वे सज्जन मोक्ष प्राप्त करने के लिए, अपने खूब कमाई देने वाले रोजगार और अपनी पतिव्रता पत्नी को युवावस्था में ही छोड़कर, सन्यासी बनकर घर से बहुत दूर जंगल में तपस्या करने चले गये थे !

उस समय उन्हें सन्यास ना लेने के लिए उनकी पत्नी और गुरु ने बहुत समझाया था, लेकिन वे नहीं माने और अंततः चले गये थे ! जिसकी वजह से उनकी पत्नी और गुरु को बहुत दुःख हुआ था !

उनके गुरु ने उन सज्जन को समझाया था कि तुमने शादी की है इसलिए तुम्हारा पहला कर्तव्य है अपने परिवार के पालन पोषण के साथ – साथ गरीबो की सहायता के लिए धन कमाओ और धन कमाने के बाद जो थोड़ा – बहुत समय बचे, सिर्फ उसी में ईश्वर की आराधना करोगे तब भी मोक्ष जरूर मिल जायेगा क्योकि गृहस्थ धर्म किसी मामले में सन्यास धर्म से कम महत्वपूर्ण नही होता है !

लेकिन उन सज्जन को लगा कि धन जैसी तुच्छ, नाशवान व मायावी चीज के लिए मै अपने जीवन के कीमती दिन क्यों नष्ट करू इसलिए मुझे तुरंत परम सुख यानी मोक्ष प्राप्ती की तलाश में निकल जाना चाहिए और उन्होंने किया भी वही, यानी सबको रोता – दुखी छोड़कर सन्यासी बन गये और फिर कभी लौटकर वापस नही आये !

पुराने जमाने में गुरु लोग अपने शिष्यों को पुत्र के समान प्यार करते थे इसलिए उन सज्जन के चले जाने से उनके गुरु को भी अथाह दुःख हुआ जिसका नतीजा था कि उन सज्जन के इस जन्म में कुंडली में बृहस्पति ग्रह की स्थिति कमजोर थी !

इतना ही नहीं उन सज्जन को ना तो उस जन्म में मोक्ष मिला और ना ही वे आगामी जन्मों में अपनी उच्च विद्वता के बाद भी कोई ख़ास धनार्जन कर पाए (यानी “ना राम मिले ना माया”) क्योकि उन्होंने पिछले जन्म में ईमानदारीपूर्वक आते हुए धन की भी अवेहलना की थी और साथ ही साथ अपने गुरु व पत्नी के भीषण दुखों को अनदेखा करके, ईश्वर को खुश करने चले थे !

हालांकि वर्तमान जन्म में उन सज्जन ने कई जरूरतमंदों की उचित सहायता करके अपनी उन गलतियों का प्रायश्चित कर लिया है ! वास्तव में देखा जाए तो यह कोई चमत्कार नही, बल्कि एक सीधा सा सिद्धांत है कि “जैसा करोगे वैसा आज नहीं तो कल भुगतोगे ही” क्योकि बिना भोगे किसी भी हाल में छुटकारा नही मिलने वाला है (हालांकि अपवाद स्वरुप कुछ बेहद परोपकारी किस्म के ऐसे स्त्री – पुरुष भी होते हैं जो सिर्फ इसलिए ही जन्म लेते है ताकि वे दूसरों के अधिक से अधिक कष्टों को स्वेच्छा से अपना बनाकर दूसरों को सुखी कर सकें; जैसे श्री गौतम बुद्ध) !

खैर दुनिया के सभी आदमी – औरतों की कुंडली में कोई ना कोई ग्रह हमेशा कमजोर तो होता ही है ! और हर समस्या का कोई ना कोई समाधान होता ही है !

इसलिए अगर किसी की कुंडली में बृहस्पति ग्रह की स्थिति ठीक ना हों तो वह भी अपने वर्तमान जन्म के गुरु को प्रसन्न करके, अपने बृहस्पति ग्रह को मजबूत कर सकता है !

लेकिन इसमें सबसे बड़ी समस्या ये है कि आजकल सही गुरु मिलते कहा हैं ! इसलिए सही गुरु की तलाश में व्यर्थ समय बर्बाद करने की बजाय अपनी जन्मदाता माँ को ही अपना गुरु मानकर, रोज सुबह उठते ही उनके पैर छूने का अति पवित्र काम करना शुरू कर देना चाहिए (अगर माता जीवित ना हो या साथ में ना रहती हों तो उनका मानसिक रूप से ध्यान करके पैर छूना चाहिए) !

लगभग हर आध्यात्मिक पुस्तकों में लिखा गया है किसी भी मानव की सबसे पहली और सबसे बड़ी गुरु उसकी माँ ही होती है इसलिए माँ चाहे जैसी भी हो, हमेशा कोशिश यही करना चाहिए कि माँ को कभी भी दुख ना पहुचें !

इस बात को तो कई मॉडर्न लीजेंड्स ने भी स्वीकारा है कि जिसके ऊपर माँ का आशीर्वाद है उसका कभी क्या कोई बिगाड़ सकता है ! यहाँ तक कि खुद भगवान गणेश जी को भी गणाधिपति का सम्मानित पद, केवल अपने माता – पिता की आदरपूर्वक परिक्रमा करने मात्र से प्राप्त हो गया था !

इसलिए माँ चाहे अपनी जन्मदात्री हो या गौमाता हों या भारत माता हर हाल में पूज्यनीय हैं !

जल्द ही हम मोटापा घटाने के लिए साइड इफेक्ट्स रहित (निरापद) अन्य उपचार पद्धतियों (जैसे- होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक आदि) के बारे प्रकाशित करेंगे !

क्या आपने मोटापा घटाने के इस आसान तरीके को भी आजमाया है

बिना किसी विशेष परहेज व दवा के, तेजी से मोटापा घटाने का आश्चर्यजनक तरीका

राक्षसी भूख है मोटापा घटाने में सबसे बड़ी दुश्मन

संयुक्त राष्ट्र संघ व अन्य विश्वप्रसिद्ध संस्थाओं के सहयोग द्वारा निर्मित विश्व यातायात सम्बन्धित रिपोर्ट में भारत के राष्ट्रीय केन्द्रीय प्रतिनिधि की भूमिका निभायी हमारे स्वयं सेवक ने

संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था यूनेस्को के मीडिया ग्रुप का भी मेम्बर बना “स्वयं बनें गोपाल” समूह

संयुक्त राष्ट्र संघ के कई नए विश्वप्रसिद्ध उपक्रमों का पार्टनर व मेम्बर बना “स्वयं बनें गोपाल” समूह

आइये जुड़िये फ्रांस सरकार, संयुक्त राष्ट्र संघ व “स्वयं बनें गोपाल” समूह आदि द्वारा संचालित इंटरनेशनल चिल्ड्रेन फिल्म फेस्टिवल से

संयुक्त राष्ट्र संघ के दूसरे उपक्रम ने भी “स्वयं बनें गोपाल” समूह को अपना पार्टनर बनाया

संयुक्त राष्ट्र संघ के उपक्रम ने अपना पार्टनर बनाया “स्वयं बनें गोपाल” समूह को

यूनेस्को, यू एन हैबिटेट, एशियन डेवलपमेंट बैंक, यू एन ग्लोबल कॉम्पैक्ट, सिविकस, वर्ल्ड बैंक, आई एम ऍफ़, यू एन वाटर, यू एन फाउंडेशन और “स्वयं बनें गोपाल”

जिन विश्वव्यापी संस्थाओं ने कई देशों की सरकार को अपना “मेम्बर” चुना, उन्ही संस्थाओं ने अब हमारे स्वयं सेवक को भी अपना “मेम्बर” व “स्टेक होल्डर” चुना

“संयुक्त राष्ट्र संघ” (United Nations) के उपक्रम ने “स्वयं बनें गोपाल” समूह के उल्लेखनीय कार्यों को अपनी विश्वप्रसिद्ध वेबसाइट पर प्रकाशित किया

“संयुक्त राष्ट्र संघ” (United Nations) द्वारा “स्वयं बनें गोपाल” समूह के स्वयंसेवक को “वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे हीरो” चुना गया

“स्वयं बनें गोपाल” समूह के स्वयं सेवक सम्मिलित होंगे “संयुक्त राष्ट्र संघ” (United Nations) की मीटिंग्स व कांफेरेंसेस में

राष्ट्रपति ट्रम्प की सूर्यप्रकाश को शरीर के अंदर डालने की थ्योरी काल्पनिक नहीं, सत्य है जिसका प्रबल समाधान है “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा डेढ़ माह पूर्व प्रकाशित लेख

नोवेल कोरोना वायरस (Novel Corona Virus; COVID-19) में लाभकारी हो सकतें है ये उपाय

कृपया हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ऐप (App) को इंस्टाल करने के लिए यहाँ क्लिक करें


डिस्क्लेमर (अस्वीकरण से संबन्धित आवश्यक सूचना)- विभिन्न स्रोतों व अनुभवों से प्राप्त यथासम्भव सही व उपयोगी जानकारियों के आधार पर लिखे गए विभिन्न लेखकों/एक्सपर्ट्स के निजी विचार ही “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट पर विभिन्न लेखों/कहानियों/कविताओं आदि के तौर पर प्रकाशित हैं, लेकिन “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट, इस वेबसाइट के द्वारा और किसी भी अन्य माध्यम के द्वारा, दी गयी किसी भी जानकारी की सत्यता, प्रमाणिकता व उपयोगिता का किसी भी प्रकार से दावा, पुष्टि व समर्थन नहीं करतें हैं, इसलिए कृपया इन जानकारियों को किसी भी तरह से प्रयोग में लाने से पहले, प्रत्यक्ष रूप से मिलकर, उन सम्बन्धित जानकारियों के दूसरे एक्सपर्ट्स से भी परामर्श अवश्य ले लें, क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं ! अतः किसी को भी, “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट के द्वारा और इससे जुड़े हुए किसी भी लेखक/एक्सपर्ट द्वारा, किसी भी माध्यम से प्राप्त हुई, किसी भी प्रकार की जानकारी को प्रयोग में लाने से हुई, किसी भी तरह की हानि व समस्या के लिए “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट जिम्मेदार नहीं होंगे !