श्री मालवीय जी जिन्हें शिव का अवतार मानते थे ऐसे दिगम्बर बाबा श्री हरिहर जी

· February 2, 2017

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, एक्जीबिशन (प्रदर्शनी), प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों व एक्जीबिशन (प्रदर्शनी) आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों व एक्जीबिशन (प्रदर्शनी) आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

भारत भूमि का पृथ्वी पर अपना एक विशिष्ट स्थान है क्योंकि यहाँ एक से बढ़कर एक दिव्य तीर्थ स्थल हैं (जैसे – हिमालय, वृन्दावन, जगन्नाथपुरी, अयोध्या, विन्ध्याचल, द्वारिका, रामेश्वरम, काशी आदि) और इन सभी तीर्थ स्थलों को और ज्यादा सुशोभित करतें हैं, वहां वास करने वाले दिव्य साधू, सन्यासी, योगी, महात्मा आदि !

इसमें से कुछ परम आदरणीय साधू महात्मा ऐसे होतें है जिन्होंने अपने कई जन्मों की अथक साधना से ना केवल ईश्वर का साक्षात् दर्शन पाने का महासौभाग्य प्राप्त कर लिया होता है बल्कि ईश्वर से वरदान में कोई नश्वर भौतिक सुख (जैसे धन दौलत आदि) मांगने की बजाय ईश्वर का ही शाश्वत सानिध्य मांग लिया होता है जिसकी वजह से ईश्वर उन्हें वरदान देने के तुरंत बाद से ही हर समय उन दिव्य योगियों के पास ही अदृश्य रूप में खुद सदैव वास करतें रहतें हैं जिन्हें सिर्फ वे ईश्वर दर्शन प्राप्त योगी ही देख व महसूस कर पातें हैं !

ऐसे ईश्वर का शाश्वत सानिध्य प्राप्त योगी, वास्तव में अपने इष्ट ईश्वर के ही साक्षात् रूप हो जातें हैं इसलिए ऐसे योगियों का आशीर्वाद और सेवा का फल वैसे ही मिलता है जैसा स्वयं ईश्वर की कृपा प्राप्त होने से होता है !

ऐसे ही ईश्वर दर्शन प्राप्त एक साधू थे बाबा श्री हरिहर जी, जो काशी में अस्सी घाट पर गंगा जी के किनारे हमेशा दिगम्बर रूप में रहा करते थे !

बड़े बड़े राजा, महाराजा, विद्वान, अमीर गरीब सभी उनके दर्शन करने नित्य आया करते थे ! श्री महामना मालवीय जी (madan mohan malviya founder of banaras hindu university) तो उन्हें साक्षात् भगवान् शंकर का ही चलता फिरता रूप मानते थे !

श्री बाबा हरिहर जी ने गंगा जी में खड़े होकर भगवान सूर्य की ओर मुह करके कई वर्षों तक बेहद कठिन तपस्या की थी जिसके फलस्वरूप उन्हें आत्मसाक्षात्कार हुआ था !

श्री बाबा हरिहर जी ने अपने पास आने वाले हजारों भक्तों को, सूर्य की पूजा, भगवान् की तरह करना सिखाया था !

बाबा जी अपने पास आने वाले अधिकाँश भक्तों को कहते थे कि सिर्फ दो बेहद आसान काम करने से तुम्हारा कल्याण निश्चित होगा !

जिसमें से पहला काम है कि रोज नहाने के बाद भगवान सूर्य को प्रेम से जल देकर प्रणाम करना और जल देते समय भगवान सूर्य से प्रार्थना करना कि हे प्रत्यक्ष भगवान कृपया मेरी सभी गलतियों के लिए मुझे माफ़ करते हुए कृपया मेरा कल्याण करिए !

और दूसरा काम है कम से कम 1 माला “राम” नाम का रोज जप करना !

श्री बाबा हरिहर जी का कहना है कि इस उपाय को नियमित करने से व्यक्ति का अन्तःकरण शुद्ध होने लगता है और जैसे जैसे मन जितना ज्यादा पवित्र होने लगता है वैसे वैसे वह व्यक्ति उतना ज्यादा पात्र होने लगता है ईश्वरीय कृपा प्राप्त करने का ! ऐसा शुद्ध हृदय का व्यक्ति अपनी सभी भौतिक व आध्यात्मिक जिम्मेदारियों व कर्तव्यों को बिना आलस्य किये हुए एकदम नियम से और ईमानदारी से निभाने लगता है !

ईश्वरीय कृपा के अंतर्गत केवल सुख ही सुख नहीं मिलते बल्कि कई कठिन कष्ट भी मिलतें हैं लेकिन उन कष्टों के पीछे भी ईश्वर की कोई दूरगामी कृपा छुपी रहती है जो उस कष्ट के बीत जाने के बाद ही पता चल पाती है !

(आजकल के महानगरों में अपार्टमेन्ट में रहने वालों को भगवान् सूर्य को जल देने में समस्या आती है कि उनके द्वारा दिया गया जल बालकनी से देने से नीचे किसी दूसरे व्यक्ति पर गिरने की संभावना बनी रहती है अतः इस समस्या का सबसे बढियां उपाय है कि बालकनी में लोटे से जल देते समय, नीचे गमला रख देना चाहिए जिससे जल गमले में उगे पौधे की सिचाई के काम आ जाए और यदि गमले में तुलसी जी का पौधा लगा हो तो सर्वोत्तम है |

अगर बालकनी से भगवान् सूर्य नहीं दिखाई देतें हों तो उस समय मन में भगवान् सूर्य से प्रार्थना करनी चाहिए कि हे सर्वव्यापी प्रत्यक्ष भगवान् सूर्य, मै अपनी असमर्थता की वजह से आपका इस समय प्रत्यक्ष दर्शन नहीं कर पा रहां हूँ इसलिए आप इस समय चाहे जिस भी दिशा में हों, कृपया मेरे द्वारा अर्पण किये जाने वाले इस जल स्वीकार करें) |


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से



ये भी पढ़ें :-