विभिन्न कैंसर पैदा करने वाली शराब, बियर, शैम्पेन आदि की लत से कैसे पायें छुटकारा

· February 7, 2017

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, एक्जीबिशन (प्रदर्शनी), प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों व एक्जीबिशन (प्रदर्शनी) आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों व एक्जीबिशन (प्रदर्शनी) आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

हर नशा करने वाला जानता है कि नशा करने से एक ना एक दिन उसे कोई घातक रोग लग सकता है पर वो यह सोचकर अपने दिल को झूठी दिलासा देता रहता है कि अगर नशे से कोई बीमारी होनी ही है तो सबसे पहले उन लोगों को होगी जो उससे ज्यादा मात्रा में और उससे ज्यादा दिन पहले से नशा कर रहें हैं पर यह सिद्धांत इस दुनिया में हमेशा लागू नहीं होता है क्योंकि यहाँ ऐसे भी केसेस देखें गएँ हैं जब 10 – 15 साल तक शराब पीने वाले को कोई गंभीर बीमारी होते नहीं देखा गया है जबकि कुछ ऐसे लोगों को कैंसर हो गया जिन्होंने सिर्फ कुछ दिनों तक ही शराब का सेवन किया था !

कुल मिलाकर निष्कर्ष तौर पर यही कहा जा सकता है कि जब तक किस्मत मेहरबान है तब तक गलत काम करने पर भी कोई विशेष बुरा परिणाम नहीं झेलना पड़ता है पर जैसे ही किस्मत का साथ ख़त्म, वैसे ही रोग इतनी तेज रफ़्तार से आक्रमण करता है कि अच्छा खासा मजबूत दिखने वाला आदमी भी चारो खाना चित्त होकर हॉस्पिटल के बिस्तर पर पहुच जाता है !

इसलिए चाहे एन्जॉय करने की इच्छा हो या अपने काम के तनाव को कुछ देर भुलाने की इच्छा हो, किसी भी हाल में शराब, बियर, वाइन, व्हिस्की, रम, शैम्पेन आदि किसी भी एल्कोहलिक प्रोडक्ट को बिल्कुल भी हाथ लगाने की जरूरत नहीं है, थोड़ी सी मात्रा में भी एल्कोहल का सेवन नुकसान है इसलिए यह कहना कि रोज थोड़ी मात्रा में एल्कोहल लेना नुकसान नहीं फायदा है, विशुद्ध मूर्खता है और शराब कम्पनियों द्वारा फैलाई गई अफवाह है !

जो व्यक्ति एल्कोहल लेतें हैं वे ना केवल सिर्फ अपना जीवन दांव पर लगातें हैं बल्कि अपने पूरे परिवार अर्थात पत्नी, बच्चे, मातापिता आदि सभी लोगों के लिए भविष्य में मुसीबत खड़ी करतें हैं, क्योंकि उनके द्वारा बार बार शराब या बियर पीने पर अगर उन्हें कैंसर हो गया तो ना सिर्फ उन्हें बल्कि पूरे परिवार को सदमा लगता है !

इसलिए किसी भी शराबी के फैमिली मेंबर्स को उस शराबी के खिलाफ तुरंत एक जुट हो जाना चाहिए और हर वो प्रयास करना चाहिए जिससे वो व्यक्ति शराब पीना छोड़ दे | एक शुरूआती प्रयास के तौर पर उस व्यक्ति की शराब पीने की लत की शिकायत उन व्यक्तियों से करना चाहिए जिनके आगे वह व्यक्ति बिल्कुल भी नहीं चाहता कि उसकी शराब पीने वाली आदत की पोल खुले (जैसे कोई व्यक्ति अपने पत्नी के सामने शराब पीता हो पर अपने माँ बाप से छुपाता हो तो उसकी पत्नी को तुरंत अपने पति की इस गन्दी आदत के बारे में अपने सास ससुर से बताना चाहिए, इससे पहले कि उसके पति को कैंसर या हार्ट लीवर किडनी (cancer, heart, liver, kidney diseases) आदि की कोई गंभीर समस्या हो जाए |

कुछ तो ऐसे पक्के नशेड़ी हो जातें हैं कि उन्हें कैंसर भी हो जाए तब भी वे सबसे झूठ ही बोलतें रहतें हैं कि मैंने तो कभी शराब को हाथ भी नही लगाया था, इसलिए ऐसे घोर कलियुगी माहौल में अभिवावकों को खुद अपनी संतानों पर पैनी नजर लगातार रखनी चाहिए कि कहीं उनकी संतान अकेजनल ड्रिंकर से वीकेंड ड्रिंकर और फिर अंततः डेली ड्रिंकर में ना तब्दील हो जाए !

आईये सबसे पहले जानतें हैं शराब/बियर/शैम्पेन आदि से होने वाली कुछ मुख्य हानियाँ (alcohol side effect in hindi) –

– नियमित शराब के सेवन से लीवर में एल्कोहलिक हेपेटाईटिस (alcoholic hepatitis) हो सकता है मतलब लिवर बुरी तरह से बर्बाद हो सकता है !

– शरीर के उत्सर्जन तंत्र (जिसका काम होता है शरीर के मल मूत्रमार्ग द्वारा अवांछित पदार्थो को बाहर निकालना) को बहुत प्रभावित करता है ! एल्कोहल के नियमित सेवन से अग्न्याशय ग्रंथि में जहरीले पदार्थ बनते है जिसकी वजह से उसके काम करने के तरीके में बदलाव आ सकता है !

– महिलाओं में शराब की वजह से होने वाला लीवर को नुकसान आदमियों की तुलना में अधिक माना जाता है ! एल्कोहल का सेवन महिला और पुरुष दोनों को अलग तरह से प्रभावित करता है और इसी वजह से देखा गया है कि महिलाओं के लिए कम मात्रा में एल्कोहल भी ज्यादा नुकसानदायक होता है !

– अल्कोहल का प्रभाव हमारे शरीर पर जल्दी ही दिखाई देने लगता है क्योंकि यह हमारे शरीर के सभी भागों तक पहुँच सकता है जिसकी वजह से हमारे स्नायुतंत्र पर इसका असर होता है जिससे किसी से बात करने, खड़े रहने में दिक्कत होती है !

– लम्बे समय तक शराब के सेवन से कई तरह की परमानेंट दिमागी समस्याएं हो सकती है जैसे मतिभ्रम (dementia) !

– लम्बे समय तक एल्कोहल पीने से यह थायीमीन (thiamine vitamin B1) की कमी का कारण बनता है जिसकी वजह से आँखों की कमजोरी व आँखों की मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है !

– एल्कोहल पूरे पाचन तंत्र पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है जिससे खाए गए भोजन से पर्याप्त पोषक तत्व शरीर को नहीं मिल पाते हैं !

– एल्कोहल किडनी को बुरी तरह डेमेज करती है जिसकी वजह से कम उम्र में ही डायलिसिस की नौबत आ सकती है !

– एल्कोहल अनेक तरह के हृदय रोग जैसे – अनियमित धड़कन, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक (high blood pressure, Stroke , Heart attack, heart failure) आदि की संभावना को जन्म देता है !

– यौन क्षमता पर भी एल्कोहल का बहुत बुरा असर होता है ! जब कोई आदमी पुराना पियक्कड़ (chronic drinker) हो तो उसके साथ यौन क्षमता से जुडी गंभीर समस्या भी अक्सर देखी गयी और महिलाओं में उनके मासिक धर्मं की अनियमितता और साथ ही बाँझ होने का खतरा भी बढ़ जाता है !

– महिलाओं की कई समस्याएं जैसे – गर्भपात, गर्भ से जुड़ी अन्य समस्याएं व स्तन कैंसर (miscarriage, premature delivery, stillbirth, breast cancer) की वजह भी एल्कोहल हो सकता है !

– अस्थिक्षय (osteoporosis) जो एक हड्डियों से जुड़ा रोग है जिसमे हड्डी का क्षरण हो जाता है उसका एक कारण एल्कोहल का नियमित पीना भी हो सकता है !

– एल्कोहल शरीर के पूरे इम्यून सिस्टम (रोग प्रतिरोधक क्षमता) को कमजोर कर सकता है !

– एल्कोहल के नियमित लम्बे सेवन से शरीर में अजीब अजीब लक्षण उभरने लग सकतें हैं जो किसी भी तरह के कैंसर की शुरुआत हो सकतें हैं ! यदि अक्सर शराब/बियर आदि पीने वालों को मल/मूत्र से खून गिरे या त्वचा पर विचित्र तरह के चक्कते, ट्यूमर (फोड़ा) आदि उभरे तो तुरंत किसी योग्य चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिए !

नशे की लत छुड़वाने के लिए कुछ योग, आसनों और प्राणायामों (yog, asana, pranayama, yogasana, pranayamas) को करने से बहुत अच्छा लाभ मिलता है !

ये योग, आसन व प्राणायाम (yoga, asan, pranayama) हैं – गोमुखासन (gomukhasana in hindi), सूर्य नमस्कार (surya namaskar steps, surya yoga), महामुद्रा (maha mudra kriya benefits), योगमुद्रासन (yoga mudra asana), वज्रासन (vajrasana yoga), कपालभाति प्राणायाम (kapalbhati pranayama in hindi), अनुलोम विलोम प्राणायाम (anulom vilom pranayam benefits) | इन सभी यौगिक क्रियाओं को कम से 2 मिनट से 10 मिनट तक रोज करने से धीरे धीरे कोई भी नशा करने की इच्छा निश्चित समाप्त होने लगती है !

इन योगासनों के अलावा शराब या कोई भी अन्य नशे की लत छुड़वाने का एक बहुत जबरदस्त आध्यात्मिक उपाय भी इस लेख के नीचे दिया गया है जिसे कोई भी आजमा कर निश्चित लाभ पा सकता है | इस तरीके की सबसे बड़ी खास बात है कि इस तरीके को खुद नशेड़ी आदमी (जिसकी खुद करने की इच्छा ना हो) के अलावा कोई उसका परिचित व्यक्ति भी, उस नशेड़ी की लत छुड़वाने के लिए कर सकता है |

“स्वयं बनें गोपाल” समूह से भी अक्सर कई अभिवावक विभिन्न माध्यम से अपने घर के सदस्य की नशे की लत छुड़वाने का कोई तरीका पूछते रहतें हैं और हमारे बताये गए तरीकों से उन्हें आश्चर्य जनक लाभ भी मिला है इसलिए हम इन तरीकों को अक्सर पुनः प्रकाशित करतें रहतें हैं |

आप भी इन तरीकों को अधिक से अधिक सोशल मीडिया पर शेयर करने का सेवा धर्म करें जिससे हो सकता है कि नशे की वजह से तबाही के कागार पर पहुच गया कोई परिवार, फिर से नार्मल खुशहाल जिंदगी जी सके !

झगड़ालू, बदतमीज स्वभाव बदलने और नशे की लत छुड़ाने का सबसे आसान तरीका

जानिये हर योगासन को करने की विधि

जानिये हर प्राणायाम को करने की विधि


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से



ये भी पढ़ें :-