दूर से दिखने में है सुंदर स्त्री पर वास्तव में है खून पीने वाली डायन

· December 17, 2016

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, एक्जीबिशन (प्रदर्शनी), प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों व एक्जीबिशन (प्रदर्शनी) आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों व एक्जीबिशन (प्रदर्शनी) आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

यह स्त्री हर मानव को दिखती है और सर्वप्रथम दूर से अपने पास बुलाती है और जो जो मानव उस स्त्री के आकर्षण में फसकर उसके पास पहुंच जातें हैं उन्हें उनका विवेक तुरंत चेतावनी देने लगता है कि अरे यह उपर से सुन्दर दिखने वाली स्त्री वास्तव में अन्दर से एक खून पीने वाली डायन है लेकिन पता नहीं उन मानवों का विवेक कमजोर होता है या उस डायन का सम्मोहन तेज होता है कि अधिकांश मानव उस डायन की असलियत जानने के बावजूद भी उससे दूर नहीं जा पाते हैं और फिर वो डायन उन मानवों को तब तक अपने इशारों पर नचाती है जब तक उनका शरीर बूढ़ा, कमजोर होकर मर नहीं जाता है !

परन्तु जो बुद्धिमान मानव, उस सुन्दर स्त्री को दूर से ही देखकर पहचान जाते हैं कि, अरे यह तो शरीर का सत्यानाश करने वाली डायन है इसलिए उससे दूर ही रहते हैं तो काफी समय पश्चात् वह डायन वाकई में हमेशा के लिए एक सुन्दर स्त्री में परिवर्तित होकर उन बुद्धिमान मानवों की गुलाम बन जाती हैं इसके अलावा उन मानवों को बहुत सी चमत्कारी शक्तियां भी प्रदान करती है !

अब सभी पाठकों के मन में यह जानने की उत्सुकता हो रही होगी कि आखिर वो सुन्दर स्त्री है कौन ?

वास्तव में यह एक महत्वपूर्ण योग दर्शन है जिसका बहुत सुन्दर व बहुत विस्तृत वर्णन है हमारे अनंत वर्ष पुराने वेरी साइंटिफिक हिन्दू सनातन धर्म में !

इस योग दर्शन में चीजों को आसानी से समझने के लिए सुंदर स्त्री व डायन को एक सिंबल (प्रतीक) की तरह इस्तेमाल किया गया है !

दूर से सुंदर पर पास से डायन दिखने वाली यह स्त्री, कोई और नहीं बल्कि हर मानवों में स्थित उनकी अपनी चित्त वृत्तियाँ होतीं है !

अब यह चित्त वृत्तियाँ क्या होती हैं ?

यह चित्त की वृत्तियाँ ही वो बल होती हैं जो किसी सांसारिक नश्वर वस्तु में आकर्षण पैदा करती हैं !

यहाँ बहुत ध्यान से समझने वाली बात है कि, कभी किसी वस्तु में आकर्षण नहीं होता है, बल्कि हमारी चित्त वृत्तियाँ ही उन सभी वस्तुओं में आकर्षण या बहुत आकर्षण पैदा करती हैं !

इसके कई प्रमाण हैं जैसे किसी आदमी को सिगरेट पीना बहुत पसंद होता है तो किसी आदमी को सिगरेट बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो पाता है !

किसी को तम्बाखू चबाना बहुत पसंद है तो किसी को आश्चर्य होता है कि कैसे कोई तम्बाखू जैसी कसैली और खतरनाक चीज हमेशा चबा सकता है !

किसी को अधिक से अधिक पैसा सिर्फ अपने और अपने परिवार पर ही खर्च करना बहुत अच्छा लगता तो किसी को दूसरे गरीब व जरूरतमंदों को भी बाँटनें में अच्छा लगता है !

सारांश यही है कि हर मानव को जिन जिन नश्वर सांसारिक वस्तुओं में आकर्षण महसूस होता है, वह सिर्फ और सिर्फ उनकी चित्त की वृत्तियों की वजह से ही होता है, ना कि उन सांसारिक वस्तुओं में खुद का कोई अपना आकर्षण होता है !

यह चित्त वृत्तियाँ ही अलग अलग व्यक्तियों को उनके उनके अलग अलग प्रारब्ध के हिसाब से अलग अलग सांसारिक वस्तुओं की तरफ आकर्षित करती हैं अब यह अलग अलग व्यक्ति के आत्मबल की मजबूती पर निर्भर करता है कि वह उन नश्वर वस्तुओं की तरफ आकर्षित होगा या नहीं !

पतंजलि ऋषि ने तो इन चित्त वृत्तियों के निरोध (नियंत्रण) को ही सभी तरह के योग का मुख्य उद्देश्य बताया है अपने इस योग सूत्र के माध्यम से “योगस्य चित्तवृत्ति निरोधः” |

कोई निर्बल आत्मबल का व्यक्ति अगर एक बार अपनी चित्त वृत्ति के लुभावने आकर्षण में फसकर उसका हर आदेश मानना शुरू कर देता है तो फिर धीरे धीरे वह व्यक्ति चित्त वृत्ति के खतरनाक रूप का मात्र गुलाम बन कर ही रह जाता है और ज्यादातर केसेस में यह गुलामी तभी टूट पाती है जब कोई घातक शारीरिक क्षति (जैसे – कैंसर आदि बीमारी लगना) या सामाजिक क्षति हो जाती है या किसी सन्त/ग्रन्थ के सम्पर्क से व्यक्ति का विवेक मजबूत होने लगता है !

इसके विपरीत जब कोई मजबूत आत्मबल का आदमी अपनी चित्त वृत्तियों के बार बार बुलाने वाले लुभावने आकर्षणों में नहीं फसता है तो वही चित्त वृत्तियाँ अपना खतरनाक रूप त्यागकर अत्यंत दिव्य रूप में उस योगी की गुलाम बन जाती हैं और इस कलियुगी दुनिया में वो व्यक्ति जितेन्द्रिय बनने की ओर अग्रसर हो जाता है और साथ ही साथ कई दिव्य चमत्कारी सिद्धियाँ भी क्रमशः हस्तगत करता जाता है !


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से



ये भी पढ़ें :-