सावधान, ये आदत महिलाओ को बाँझ बना सकती है

अब घर बैठे हुए ही अपनी कठिन शारीरिक, मानसिक, आर्थिक समस्याओं के लिए तुरंत पाईये ऑनलाइन/टेलीफोनिक समाधान विश्वप्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह के बेहद अनुभवी एक्सपर्ट्स द्वारा, इसी लिंक पर क्लिक करके



12539202649_d0a48cf165_oआजकल कई महिलाओं के अन्दर बाँझपन की समस्या आ रही है, मतलब वो महिलाये कभी भी माँ बन ही नहीं सकती और उनकी इस समस्या का एक बड़ा कारण नियमित मांसाहार करना भी माना जा रहा है !

क्योकी ज्यादातर मांस, मुर्गे या बकरे का होता है जो की नर जानवर होते है और नर हारमोंस वाला मांस कोई मादा यानी औरत रोज रोज खाएगी तो धीरे – धीरे उसके शरीर के अन्दर के हारमोंस का बैलेंस बिगड़ने लग सकता है और यहाँ तक की उस औरत के मादापन यानी औरत के स्वाभाविक गुण भी ख़तरे में पड़ सकते है (उसकी कई शारीरिक क्रियाये भी उटपटांग होने लग सकतीं है) !

वैसे तो ओक्सिटोसिन इंजेक्शन वाला मांस खाकर पुरुषों में भी नपुंसकता की बीमारी बहुत तेजी से बढ़ रही है ! बाजार में बिकने वाला अधिकांश मांस, ओक्सिटोसिन के इंजेक्शन से तेजी से बड़े हुए जानवरों का ही होता है !

कम से कम समय में अधिक से अधिक मांस पैदा करने के लिए कई विक्रेता अपने पाले हुए जानवरों को, सरकारी रूप से इललीगल होने के बावजूद चोरी छुपे ओक्सिटोसिन का इंजेक्शन लगाते ही लगाते हैं !

आज के जमाने में तो भ्रष्टाचार इतना ज्यादा बढ़ चुका है कि लोग सस्ती सब्जियों तक को जल्दी बड़ा करने के लिए भी ओक्सिटोसिन का इंजेक्शन लगाने से बाज नहीं आते हैं तो महंगा बिकने वाले मांस के लिए क्यों नहीं ओक्सिटोसिन का इंजेक्शन लगायेंगे !

ओक्सिटोसिन के इंजेक्शन से ना केवल नपुंसकता आती है बल्कि कैंसर, अस्थिक्षय जैसी सैकड़ों घातक बीमारियाँ भी पैदा होती हैं !

महिलाओ या पुरुषों की कैसे भी बाझपन या नपुंसकता की समस्या हो विधिवत कपाल भाति प्राणायाम करने से निश्चित ही ख़त्म हो जाती है |

महिलाओं में अधिकांश दोष मासिक धर्म की गड़बड़ीयों से होता है ! लगभग एक प्रतिशत स्त्रियों में फैलोपियन ट्यूब (fallopian tube) बन्द होने की शिकायत पाई जाती है जिसमें लगभग 50 प्रतिशत स्त्रियों का आप्रेशन होकर एक तरफ का रास्ता खुल जाता है जिससे वे गर्भधारण करने में सक्षम हो जाती हैं। ऑपरेशन के अलावा नियमित कपाल भाति प्राणायाम को करने से भी फैलोपियन ट्यूब (fallopian tube) की समस्या में बहुत लाभ मिलते देखा गया है !

कई ऐसी बाँझ महिलाये जिन्हें अमेरिका, लन्दन के बड़े बड़े डाक्टरों ने यहाँ तक कह दिया था कि वे कभी भी माँ नहीं बन सकती, वे महिलाये भी कपालभाति प्राणायाम (Kapabhaiti Pranayama) का विधिवत अभ्यास करके 1 से 2 साल में, माँ बनते हुए देखी गयी हैं !

हमारे ग्रंथो में कपाल भाति प्राणायाम (Kapabhaiti Pranayam) को इतना ताकतवर बताया गया है कि इसका विधिवत अभ्यास करने पर दुनिया की बड़ी से बड़ी बीमारी का भी नाश 1 से 2 साल में हो जाता है पर एक बात बहुत ध्यान से समझने वाली है कि कपालभाति समेत और भी जितने ताकतवर प्राणायाम, योग व दवाएं है, सब के सब बहुत कमजोर साबित हो जातें हैं, उस दर्द भरे भयंकर श्राप के सामने जो किसी जानवर की हत्या करते समय उसके दिल से निकलता है !

इसलिए मांस खाने वाला आदमी लाख प्राणायाम (Pranayama) कर ले या खूब महंगी महंगी दवाएं खा ले या खूब मन्दिर फ़क़ीर तीरथ कर ले, लेकिन देर सवेर वो फेफड़े, हार्ट, लीवर, किडनी आदि की भयंकर तकलीफ दायक बीमारियों को झेलने से बच नहीं सकता है !

अगर व्यक्ति अपना भला वाकई में चाहता हो तो उसे तुरन्त मांस मछली अंडा और इनसे बनने वाले सारे सामान (जैसे – चाकलेट, केक, नुडल्स, लिपस्टिक आदि) को खाना, लगाना छोड़ दे और भगवान से बार बार माफ़ी मांगकर, साफ सुथरे पवित्र मन से कपालभाती प्राणायाम (Pranayam) का अभ्यास शुरू करे तो निश्चित ही उसकी सारी बीमारियों का नाश होकर ही रहेगा !

कृपया हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ऐप (App) को इंस्टाल करने के लिए यहाँ क्लिक करें


डिस्क्लेमर (अस्वीकरण से संबन्धित आवश्यक सूचना)- विभिन्न स्रोतों व अनुभवों से प्राप्त यथासम्भव सही व उपयोगी जानकारियों के आधार पर लिखे गए विभिन्न लेखकों/एक्सपर्ट्स के निजी विचार ही “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट पर विभिन्न लेखों/कहानियों/कविताओं आदि के तौर पर प्रकाशित हैं, लेकिन “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट, इस वेबसाइट के द्वारा और किसी भी अन्य माध्यम के द्वारा, दी गयी किसी भी जानकारी की सत्यता, प्रमाणिकता व उपयोगिता का किसी भी प्रकार से दावा, पुष्टि व समर्थन नहीं करतें हैं, इसलिए कृपया इन जानकारियों को किसी भी तरह से प्रयोग में लाने से पहले, प्रत्यक्ष रूप से मिलकर, उन सम्बन्धित जानकारियों के दूसरे एक्सपर्ट्स से भी परामर्श अवश्य ले लें, क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं ! अतः किसी को भी, “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट के द्वारा और इससे जुड़े हुए किसी भी लेखक/एक्सपर्ट द्वारा, किसी भी माध्यम से प्राप्त हुई, किसी भी प्रकार की जानकारी को प्रयोग में लाने से हुई, किसी भी तरह की हानि व समस्या के लिए “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट जिम्मेदार नहीं होंगे !