रोग प्रतिरोधक क्षमता की मजबूती और तनाव मुक्ति के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट्स

10556426_1378412745822083_5468065869741677745_nअगर इम्यून सिस्टम कमजोर हो तो शरीर में कोई ना कोई रोग लगा ही रहता है ! यहाँ पर एक्यूप्रेशर के ऐसे पॉइंट्स के बारे में बताया जा रहा है जो पूरे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (acupressure points for immune system) को मजबूत करते हैं !

ये पॉइंट्स वही है जो आपने गाव देहात में बड़े बुजुर्गों को मालिश करते समय विशेष रूप से दबाते हुए देखा होगा ! वास्तव में एक्यूप्रेशर, प्राचीन भारतीय मालिश (मर्दन) विद्या का ही छोटा रूप है !

प्राचीन भारत में आयुर्वेद की ही एक शाखा मर्दन विद्या इतनी उन्नति पर थी कि इससे बड़े बड़े रोगों का इलाज होता था तथा सौन्दर्य वृद्धि के लिए इस विद्या का तो कोई तोड़ ही ना था पर मुगलों और अंग्रेजों के बार बार के हमलों ने भारत के इस प्राचीन ज्ञान का बहुत नाश किया !

बुखार, सर्दी-जुकाम, बदलते मौसम में होने वाली बीमारियां, संक्रमण के कारण होने वाली बीमारियों का बार बार होना दिखाता हैं कि आपका इम्‍यून सिस्‍टम यानी रोग प्रतिरक्षक प्रणाली कमजोर है।

इसे मजबूत करने के लिए, पैरों के पिछले हिस्‍से पर तलवे के ठीक ऊपर स्थिति बिंदु पर दबाव डालिए जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है और इससे दर्द और तनाव को भी दूर करने में मदद मिलती है।

एक्यूप्रेशर पॉइंट्स खाने के तुरन्त बाद नहीं दबाना चाहिए बल्कि कम से कम 1 घंटे बाद दबायें तो बेहतर है ! बुखार ज्यादा हो तो एक्यूप्रेशर के पॉइंट्स नहीं दबाने चाहिए !

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, सत्य व लुप्त होते हुए ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी प्रकार के उपायों व जानकारियों को किसी भी प्रकार से प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)



You may also like...