“यंत्र” रूप मे विराजमान हैं भगवती दुर्गा इस विश्व प्रसिद्ध मन्दिर में

dfgबनारस में अस्सी रोड से कुछ ही दूरी पर आनन्द बाग के पास दुर्गा कुण्ड नाम का अति प्रसिद्ध मन्दिर है। यह आदि शक्ति माँ दुर्गा जी का मंदिर है। वैसे तो यहां हर समय दर्शनार्थियों का आना लगा रहता है पर नवरात्रि व सावन के महीने में तो यहाँ भक्तों की अनगिनत भीड़ रहती है।

इसी मन्दिर के पास राम चरित मानस के रचयिता गोस्वामी तुलसी दास जी द्वारा स्थापित हनुमान जी का विश्व प्रसिद्ध संकटमोचन मंदिर भी है।

शारदीय नवरात्र के चौथे दिन माँ को कुष्माण्डा माता के रूप में पूजा जाता है।

दुर्गा मंदिर काशी के सबसे पुरातन मंदिरो में से एक है। इस मंदिर का उल्लेख ” काशी खंड” में भी मिलता है। लाल पत्थरों से बने अति भव्य इस मंदिर के एक तरफ “दुर्गा कुंड” स्थित है !

लोगों का कहना है इस कुण्ड में पानी पाताल से आता है इसलिए इस कुण्ड का पानी कभी नहीं सूखता है !

kऐसे सैकड़ो अबूझ रहस्य है इस मन्दिर में जिसके बारे में आज के वैज्ञानिक भी मौन हैं !

इस मंदिर मे माँ दुर्गा “यंत्र” रूप मे विराजमान है। इस मंदिर मे बाबा भैरोनाथ, माँ लक्ष्मी जी, माँ सरस्वती जी, एवं माता काली जी भी मूर्ति रूप में स्थित है। यहाँ मांगलिक कार्य एवं मुंडन इत्यादि के लिए भी लोग आते है। मंदिर के अंदर हवन कुंड है, जहाँ रोज हवन होते है।

इस मंदिर में यंत्र रूप में विराजमान माँ दुर्गा का तेज इतना भीषण है की माँ के सामने खड़े होकर दर्शन करने भर से ही कई जन्मों के पाप भस्म होते हैं !

पुराणों के अनुसार दुर्गा मंदिर में माँ दुर्गा की जो मूर्ति स्थापित है वह दुर्गाकुण्ड से प्राप्त हुई थी।

मनोकामना पूर्ति के लिये प्रसिद्ध इस मंदिर में तो पूरे वर्ष भर लोगों की भीड़ लगी रहती है। सावन महिने मे एक माह का बहुत मनमोहक मेला लगता है।

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, सत्य व लुप्त होते हुए ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी प्रकार के उपायों व जानकारियों को किसी भी प्रकार से प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)



You may also like...