फाड़ कर खा जायेंगे कृष्ण तुम्हारी ओर गन्दी निगाह उठाने वालों को

अब घर बैठे हुए ही अपनी कठिन शारीरिक, मानसिक, आर्थिक समस्याओं के लिए तुरंत पाईये ऑनलाइन/टेलीफोनिक समाधान विश्वप्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह के बेहद अनुभवी एक्सपर्ट्स द्वारा, इसी लिंक पर क्लिक करके



download (1)किसी भी हद तक जा सकते है कृष्ण अपने भक्त की रक्षा करने के लिए !

इतिहास गवाह है की एक नहीं हजारों बार ऐसा हुआ है की श्री कृष्ण ने अपने भक्तों की रक्षा के लिए अपने भगवान होने तक की मर्यादा तोड़ दी !

झूठ बोला, अपनी कसम भी तोड़ दी, मरे हुए को जिन्दा करने के लिए यमराज के घर में घुसकर यमराज को धमका कर जबरदस्ती प्राण वापस ले लिया, झूठे कलंक अपमान झेले और कितनी चर्चा की जाय की, यहाँ तक की उन्होंने जिस भक्त की रक्षा की उसी भक्त के मुह से अपशब्द भी सुने वो भी हसते हसते !

ये श्री कृष्ण दया के सागर हैं पर जब बात आती है अपने भक्त के ऊपर संकट की तो ये उसी तरह हिंसक हो जाते हैं जैसे माँ के सामने उसके बेटे पर कोई हमला करता है !

नारद पुराण में श्री कृष्ण का एक नाम “क्रूर” उल्लेखित है जिसका मतलब है की प्रेम के अवतार श्री कृष्ण जब दुष्टों को दंड देने पर उतारू हो जाते हैं तो उनसे बड़ा हिंसक, निर्दयी और पत्थर दिल कोई नहीं होता है !

5 साल के मासूम बच्चे प्रह्लाद पर दुष्ट हिरण्यकश्यपू का अत्याचार देखकर सुन्दर श्री कृष्ण जो महा भयंकर, महा उग्र सिंह में बदल गए की पूरा ब्रह्माण्ड डर से थर थर कांपने लगा और हिरण्यकश्यपू को चीरने फाड़ने के बाद भी उनका गुस्सा शांत ना हुआ तो स्वयं भगवान शिव को आना पड़ा उनको शांत करने के लिए !

कृष्ण शरण में गया भक्त, पूरे विश्व में निर्भय और निश्चिन्त होकर वैसे ही घूमता है जैसे शेर जंगल में घूमता है !

श्री कृष्ण का सदाचारी भक्त पूरी दुनिया में अपराजित है ! उसे कोई भी गलत शक्ति कहीं भी हरा ही नहीं सकती !

इस संसार के युद्ध में जय उसी की है जिसके साथ खड़े है महाबाहु, महाबली, भीषण पराक्रमी, महाभयंकर योद्धा श्री कृष्ण !

कृपया हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ऐप (App) को इंस्टाल करने के लिए यहाँ क्लिक करें


डिस्क्लेमर (अस्वीकरण से संबन्धित आवश्यक सूचना)- विभिन्न स्रोतों व अनुभवों से प्राप्त यथासम्भव सही व उपयोगी जानकारियों के आधार पर लिखे गए विभिन्न लेखकों/एक्सपर्ट्स के निजी विचार ही “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट पर विभिन्न लेखों/कहानियों/कविताओं आदि के तौर पर प्रकाशित हैं, लेकिन “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट, इस वेबसाइट के द्वारा और किसी भी अन्य माध्यम के द्वारा, दी गयी किसी भी जानकारी की सत्यता, प्रमाणिकता व उपयोगिता का किसी भी प्रकार से दावा, पुष्टि व समर्थन नहीं करतें हैं, इसलिए कृपया इन जानकारियों को किसी भी तरह से प्रयोग में लाने से पहले, प्रत्यक्ष रूप से मिलकर, उन सम्बन्धित जानकारियों के दूसरे एक्सपर्ट्स से भी परामर्श अवश्य ले लें, क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं ! अतः किसी को भी, “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट के द्वारा और इससे जुड़े हुए किसी भी लेखक/एक्सपर्ट द्वारा, किसी भी माध्यम से प्राप्त हुई, किसी भी प्रकार की जानकारी को प्रयोग में लाने से हुई, किसी भी तरह की हानि व समस्या के लिए “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट जिम्मेदार नहीं होंगे !