निबंध – अदालत के सामने लिखित बयान (लेखक – गणेशशंकर विद्यार्थी)

· January 2, 2013

download (3)सरकारी रिपोर्टर ने मेरे व्‍याख्‍यान की जो रिपोर्ट की है वह अपूर्ण, गलत और कहीं-कहीं बिल्‍कुल विकृत है। मेरा मतलब यह नहीं है कि रिपोर्टर ने जान-बूझकर महज इसलिए उसमें वे शब्‍द घुसेड़ दिये (जो मैंने नहीं कहे थे) कि जिससे मेरे ऊपर राजद्रोह का मुकदमा चल सके। परंतु यह स्‍पष्‍ट है कि जिस भाषा में मैंने व्‍याख्‍यान दिया था, उस भाषा का उसे बहुत ही कम ज्ञान है और वह मेरी बातों का मतलब समझने तथा उनकी प्रासंगिकता और उपयुक्‍तता जानने में असमर्थ रहा। मेरे सवालों के जवाब में उसने यह मंजूर किया है कि उसने कई संस्‍कृत शब्‍द समझ में न आने के कारण छोड़ दिये। अपनी रिपोर्ट में भी उसने जिन वाक्‍यों और शब्‍दों की रिपोर्ट ठीक समझ कर की है, उनका अर्थ वह नहीं बता सका। वास्‍तव में जिन लोगों को विद्वान वक्‍ताओं और लेखकों द्वारा लिखी तथा बोली जाने वाली हिंदी भाषा का काम चलाऊ ज्ञान भी है, वे तुरंत यह देख लेंगे कि रिपोर्टर ने कई ऐसे शब्‍द लिख दिये हैं जिनका कोई अर्थ ही नहीं और जो वास्‍तव में, क्‍या हिंदी और क्‍या अन्‍य भाषा, किसी में भी नहीं पाये जाते। कई जगहों में उसने ऐसे शब्‍द लिख डाले हैं जिनका प्रसंगानुसार कोई अर्थ नहीं होता। बात यह मालूम होती है कि प्रत्‍यक्षत: दूसरे शब्‍द अटकल से लिख दिये। वास्‍तव में रिपोर्टर ने व्‍याख्‍यान की जैसी रिपोर्ट पेश की है, वह ऐसे संबंधहीन वाक्‍यों का ढेर मात्र है, जो एक दूसरे के साथ मेल नहीं खाते। कई वाक्‍य कुछ ऐसे शब्‍दों का संग्रह मात्र हैं, जिनका कोई भी अर्थ नहीं होता। मैं अच्‍छा वक्‍ता नहीं। न मैं ठीक-ठीक और सिलसिलेवार बोल सकता हूँ। यह बात रिपोर्टर ने स्‍वयं स्‍वीकार की है। रिपोर्टर ने जो कुछ कहा है उसके प्रतिकूल यह भी स्‍पष्‍ट है कि वह बहुत अच्छी तरह से शार्ट-हैंड रिपोर्टिंग नहीं जानता और उसके लिए यह असंभव था कि मुझ-जैसे शीघ्र वक्‍ता के भाषण की पूर्ण रिपोर्ट ले लेता। न केवल मेरे भाषण के कई वाक्‍यों और कई मुख्‍य अंगों की रिपोर्ट ही नहीं की गयी, बल्कि जिन वाक्‍यों की रिपोर्ट की गयी है उनमें से भी महत्‍वपूर्ण शब्‍द और शब्‍द-समूह छोड़ दिये गये हैं और रिपोर्टरों की आम आदत के मुताबिक कहीं-कहीं तो रिपोर्टर ने अपनी अक्‍ल के मुताबिक मेरे वाक्‍यों का मतलब ठीक करने के लिए अपने शब्‍द जोड़ दिये हैं। इसलिए मेरे रिपोर्ट किये हुये भाषण से जो आम असर पड़ता है, वह बहुत ही भ्रमोत्‍पादक है। रिपोर्टर ने शब्‍दों के जिस संग्रह को रिपोर्ट किया है, उसे मेरे भाषण की रिपोर्ट कहना भाषण की विडंबना करना है। असल में रिपोर्ट में मेरे भाषण को संक्षेप में देने की कोशिश की गयी है, सो भी एक ऐसे मनुष्‍य द्वारा जो न तो जल्‍दी-जल्‍दी रिपोर्ट ही ले सकता था और न भाषण को ही समझ सकता था। उदाहरण के लिए, रिपोर्ट में दिये गये नीचे के वाक्‍यों का अर्थ क्‍या हो सकता है?

देश में जितनी शिकायतें है उनको संचालित करने की कोशिश करूँगा।

मित्रों से कहना चाहता हूँ कि असहयोग उनकी सहानुभूति नहीं है।

जब तुम अहिंसा के बल से स्‍वराज्‍य लेना चाहते हो तो अब न कहो कि हम नहीं कर सकते।

उन सारी शिकायतों को जो इस तरह उसके सारे आदमियों को पहुँचती है, सब का मुखालिफ हूँ।

जब माता के बच्‍चे जने तो धुन के साथ यह कह दे।

आज कौंसिल में विरोध है, कल तिजारत में विरोध होगा।

लड़ाई चुप की नहीं है।

मैं माफी चाहता हूँ।

अदालत के जवाबों में मैंने अपने भाषण के कुछ आवश्‍यक वाक्‍यों को जहाँ तक मुझे पता था, वहाँ तक सुधार दिया। मैंने कुछ वाक्‍यों का, जो यद्यपि भद्दी तरह से रिपोर्ट किये गये हैं, परंतु जिनको शायद सरकार ने मेरे खिलाफ राजद्रोह का अभियोग चलाने का आधार माना है, अर्थ कर दिया है। अगर मेरे ऊपर यह आरोप किया गया हो कि मैं मौजूदा नौकरशाही से जरा भी प्रेम नहीं करता, मैं अपने श्रोताओं के मन में उसके काम के प्रति असंतोष उत्‍पन्‍न करना चाहता था और चाहता था उनके मन में वर्तमान शासन प्रणाली को दूर करने की उत्‍कट इच्‍छा उत्‍पन्‍न करना, तो स्‍वीकार करता हूँ कि मैं अपराधी हूँ। मैंने अपने भाषण में कहा था और मैंने उस समय जो भाव प्रकट किया था, उसे मैं आज भी ठीक समझता हूँ। उन तमाम हानिकर प्रभुत्‍वों को हटा देना चाहिये जो लोगों की न्‍यायोचित आकांक्षाओं का दमन करते हैं और उनको बंधनों में जकड़ रखने में मदद देते हैं।

फिर चाहे ऐसा प्रभुत्‍व शासक नौकरशाही का हो या जमींदारों का, धनवानों का हो या ऊँची जातियों का, परंतु अगर मेरे ऊपर यह आरोप है, जैसा कि मालूम होता है कि मैंने लोगों को उपद्रव के लिए उत्‍तेजित किया है तो मैं पूर्णतया उसका प्रतिवाद करता हूँ। सभा में वास्‍तव में जो कुछ हुआ, वह यह है कि मेरे मित्र मंडित गौरीशंकर मिश्र ने जो कांग्रेस के अपरिवर्तनवादी कहे जाने वाले दल के हैं, मेरी राय पर जो कौसिलों के पक्ष में थी, हमला कर दिया। इस संबंध में उन्‍होंने अहिंसा और अप्रतिरोध के सिद्धांत पर जोर दिया। ऐसा मालूम पड़ता था कि उनके निज के विचार में कौंसिल के चुनाव में खड़े होना एक तरह की हिंसा है। गोविंद बिहारी सर्किल इन्‍सपेक्‍टर ने अपने बयान में यह बात कही है कि पंडित गौरीशंकर मिश्र ने कहा कि कौसिलों में जाना हिंसा है। मिश्रजी ने दो घंटे तक लंबा भाषण दिया। उन्‍होंने हिंसा और अहिंसा के ढंग के गुण-अवगुणों की विस्‍तृत सैद्धांतिक विवेचना की। यह महत्‍वपूर्ण बात याद रखनी चाहिये कि इस विवाद में ‘हिंसा’ शब्‍द का प्रयोग हिंदू नीति शास्‍त्र के अनुसार दूसरे को किसी प्रकार का शारीरिक या मानसिक कष्‍ट पहुँचाने के अर्थ में किया गया था। पंडित गौरीशंकर मिश्र ने प्रेम और अहिंसा की दार्शनिक व्‍याख्‍या करते हुए क‍हा कि प्रेम और अहिंसा दार्शनिक अर्थ में स्‍वतंत्रता लेने के लिए की जाने वाली हर तरह की हिंसा के विरुद्ध है। संक्षेप में, उन्‍होंने राजनीति में पूर्ण प्रेम के साथ, किसी भी प्रकार का कष्‍ट पहुँचाने की समस्‍त इच्‍छाओं से मुक्‍त, असहयोग के सिद्धांत का प्रतिपादन किया। अपरिवर्तनवादी होने के कारण उन्‍होंने कौंसिलवादी दल पर यह समझ कर हमला किया मानो उनकी राय में वह दल महात्‍मा गांधी द्वारा प्रतिपादित अहिंसात्‍मक असहयोग के सिद्धांत के विरुद्ध कुछ करने को तैयार था। मैं पंडित गौरीशंकर मिश्र के बाद बोला और मेरे भाषण पढ़ लिया जाय। इसीलिए मैंने अदालत से कहा था कि उनके भाषण की रिपोर्ट भी रिकार्ड में होनी चाहिये थी, परंतु अदालत ने यह बात न मानी। हिंसा और अहिंसा के संबंध में मैने जो कुछ कहा, उसे उस विवाद में एक भाषण स्‍वरूप पढ़ना चाहिये जिसको पंडित गौरीशंकर मिश्र ने शुरू किया। अहिंसात्‍मक असहयोग के प्रति मेरा व्‍यवहार क्‍या है, यह सरकारी रिपोर्ट में दिये गये इस वाक्‍य से पूर्णतया मालूम हो जाता है – मैं नान वायलेंस (अहिंसा) को शुरू से अपनी पालिसी मानता रहा हूँ। धर्म नहीं मानता रहा। मैंने अपने व्‍याख्‍यान में यह दिखाया कि मनसा और कर्मणा, अहिंसा साधारण मनुष्‍यों का सहज स्‍वभाव नहीं है और इसीलिये राजनैतिक संग्राम में उसे अपना साधारण हथियार नहीं बनाया जा सकता। जहाँ मैंने यह कहा है कि मैं लड़ाई का पक्षपाती हूँ, वहाँ स्‍पष्‍टतया मेरा मतलब यह है कि राजनैतिक संग्राम चाहता हूँ, यह जरूरी नहीं कि यह संग्राम प्रेम और अहिंसा के उस संग्राम पर आधारित हो जिसकी व्‍याख्‍या मिश्र जी ने की है। मुझमें और पंडित गौरीशंकर मिश्र में जो सैद्धांतिक-राजनीतिक विवेचना का विवाद हो रहा था, उसी विवाद में अपने सिद्धांत को अधिक स्‍पष्‍ट करने के लिए मैंने यहाँ तक कह डाला कि अगर ब्रिटिश सत्‍ता मेरे सामने प्रतिमा का रूप धारण करके आये तो मैं उसकी उपासना नहीं करूँगा बल्कि उसे खंडित करके प्रवाहित कर दूँगा। इसके बाद दूसरे ही वाक्‍य में मैंने दूसरी अवांछनीय सभाओं को, जैसे जमींदारों, धनवानों और ऊँची जातियों की सभा को जिक्र किया और कहा कि मैं इन सभी को हटा दूँगा। यह सवाल तो उठ ही नहीं सकता कि मैंने लोगों को शारीरिक हिंसा करने के लिए उत्‍तेजित किया, क्‍योंकि मैं कांग्रेसमैन हूँ। मैंने अपने भाषण में भी यह कह दिया था कि यद्यपि मैं अहिंसा को धर्म नहीं मानता तथापि मैं अपनी वर्तमान अवस्‍था में राजनैतिक संग्राम का सर्वोत्‍तम साधन मानता हूँ। परंतु जब मेरे एक मित्र यहाँ तक कह डालते हैं कि कौंसिलों में जाना भी हिंसा है तब मुझे उस धारण की परीक्षा करने के लिए, जिस पर यह सिद्धांत टिका हुआ है, इस प्रकार की अहिंसा के विरुद्ध अपनी आवाज बुलंद करनी पड़ती है। हिंसा, अहिंसा, अप्रतिरोध और राजनैतिक संग्राम, कौंसिलों में जाना अहिंसा सिद्धांत के विरुद्ध है या नहीं इत्‍यादि के संबंध में जो समस्‍त वाद-विवाद हुआ, वह सैद्धांतिक था। मुझमें और पं. गौरीशंकर मिश्र में केवल सिद्धांतों पर ही बहस हुई। लोगों को हिंसा के लिये उत्‍तेजित करने का विचार तो मेरे पास तक नहीं फटक सकता, क्‍योंकि मेरी दृष्टि से इससे अधिक अहमकाना और आत्‍मघातक बात और कोई हो ही नहीं सकती। सरकार की तरफ से सिर्फ देवीदयाल गै़र सरकारी गवाह की तौर पर पेश किया गया है। उसका कहना है कि उसके ऊपर मेरे वयाख्‍यान का यह असर पड़ा कि मैंने लोगों को हिंसा के लिए उत्‍तेजित किया। मैं इस व्‍यक्ति का इतमीनान नहीं करता। मैं अनुभव करता हूँ, मेरे भ्राताओं पर यह असर ह‍रगिज न पड़ना चाहिये था। देवीदयाल की बातों से प्रकट होता है कि वह पुलिस का जीव है। मुकदमों में पुलिस अक्‍सर इससे गवाही दिलाती है। कांग्रेस आफिस के सामने बोर्ड पर कांग्रेस के जो नोटिस लिखे रहते हैं, पुलिस उसकी नकल ले लेती है। उस नकल पर यह दस्‍तखत किया करता है। इसे गोली-बारूद बेचने का लाइसेंस भी मिला हुआ है। इस प्रकार यह एक ऐसा आदमी है जो पुलिस ने मेरे बरखिलाफ अपनी इच्‍छानुकूल बातें कहलाने के लिये पेश किया। मेरी अन्‍तरात्‍मा मुझसे साफ-साफ कहती है कि मेरे मन में लोगों को हिंसा के लिए उत्‍तेजित करने का इरादा न था। परंतु यदि मेरे श्रोताओं में से एक के दिल पर वास्‍तव में यह असर पड़ा है तो मैं हृदय से दु:खी हूँ। अगर मुझे सच-सच यह मालूम हो जाय कि मैंने गलती की तो मैं तुरंत उसे स्‍वीकार कर लूँगा। अगर मेरे कोई वाक्‍य लोगों को हिंसा करने के लिये उत्‍तेजित करने वाले होते तो मैं सहर्ष उन्‍हें वापिस ले लेता, क्‍योंकि मैं कांग्रेस का एक विनम्र परंतु कट्टर सदस्‍य हूँ और लोगों को हिंसा के लिये उत्‍तेजित करना राष्‍ट्रीय महासभा के सिद्धांत के विरुद्ध है।

नि:संदेह मैं लड़ाई का पक्षपाती हूँ और टाल्‍सटाय और महात्‍मा गांधी की पूर्ण अहिंसा को जिस अर्थ में धार्मिक सिद्धांत मानते हैं, उस अर्थ में मैं इस पर विश्‍वास नहीं करता, परंतु मैं सशस्‍त्र क्रांति करने पर किसी को शारीरिक हानि पहुँचाने की हिंसा को भी अपनी वर्तमान अवस्‍था में ठीक नहीं समझता। हमारी वर्तमान व्‍यवस्‍था में तो उसका विचार करना तक मूर्खतापूर्ण और आत्‍मघातक है। मैंने जो कुछ कहा है, वह सब केवल अपनी स्थिति साफ करने के लिये कहा है, किसी को संतुष्‍ट या असंतुष्‍ट करने के लिये नहीं। जहाँ तक राजद्रोह से संबंध है, वहाँ तक मुझे एक शब्‍द भी नहीं कहना। मैं यह जानता हूँ कि हमारे देश में दफा 124-ए का प्रयोग कितनी गैर-जिम्‍मेदारी के साथ किया जाता है। किसी भी सच्‍चे राजनैतिक कार्यकर्ता के लिए क्षण भर के लिये भी यह अनुभव करना असंभव है कि वह इस समग्र धारा की व्‍यापक शब्‍दावली और उसके काम में लाये जाने वाले भाव से बचा हुआ है। मुझे छूट हुए अभी दस महीने नहीं हुए कि मेरी राजनैतिक क्रियाओं को बंद करने का एक अवसर तलाश किया गया। मुझे इस बात पर कोई आश्‍चर्य नहीं। मैं उस नौकरशाही से किसी प्रकार की आशा नहीं रखता, जिसके विरुद्ध हमारा सारा राजनैतिक संग्राम हो रहा है। परमात्‍मा मुझमें इतनी शक्ति दे कि मेरे ऊपर जो कुछ आये मैं प्रसन्‍नतापूर्वक सह लूँ और कठिन से कठिन अवसर पर भी जनता और मातृभूमि की सेवा के आदर्श को न भूलूँ।

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी एवं महा फलदायी "स्वयं बनें गोपाल" प्रक्रिया (जो कि एक अतिदुर्लभ आध्यात्मिक साधना है) का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, नशा एवं कुरीति उन्मूलन, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने गाँव/शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में भारतीय देशी गाय माता से सम्बन्धित कोई व्यवसायिक/रोजगार उपक्रम (जैसे- अमृत स्वरुप सर्वोत्तम औषधि माने जाने वाले, सिर्फ भारतीय देशी गाय माता के दूध व गोमूत्र का विक्रय केंद्र, गोबर गैस प्लांट, गोबर खाद आदि) {या मात्र सेवा केंद्र (जैसे- बूढी बीमार उपेक्षित गाय माता के भोजन, आवास व इलाज हेतु प्रबन्धन)} खोलने में सहायता लेकर साक्षात कृष्ण माता अर्थात गाय माता का अपरम्पार बेशकीमती आशीर्वाद के साथ साथ अच्छी आमदनी भी कमाना, चाहतें हैं तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

जानिये “स्वयं बनें गोपाल” समूह और इसके प्रमुख स्वयं सेवकों के बारे में

धन्यवाद,
(“स्वयं बनें गोपाल” समूह)

हमारा सम्पर्क पता (Our Contact Address)-
“स्वयं बनें गोपाल” समूह,
प्रथम तल, “स्वदेश चेतना” न्यूज़ पेपर कार्यालय भवन (Ground Floor, “Swadesh Chetna” News Paper Building),
समीप चौहान मार्केट, अर्जुनगंज (Near Chauhan Market, Arjunganj),
सुल्तानपुर रोड, लखनऊ (Sultanpur Road, Lucknow),
उत्तर प्रदेश, भारत (Uttar Pradesh, India).

हमारा सम्पर्क फोन नम्बर (Our Contact No)– 91 - 0522 - 4232042, 91 - 07607411304

हमारा ईमेल (Contact Mail)– info@svyambanegopal.com

हमारा फेसबुक (Our facebook Page)- https://www.facebook.com/Svyam-Bane-Gopal-580427808717105/

हमारा ट्विटर (Our twitter)- https://twitter.com/svyambanegopal

आपका नाम *

आपका ईमेल *

विषय

आपका संदेश



ये भी पढ़ें :-



[ajax_load_more preloaded="true" preloaded_amount="3" images_loaded="true"posts_per_page="3" pause="true" pause_override="true" max_pages="3"css_classes="infinite-scroll"]