जब पूरा ब्रह्माण्ड नाच उठा

pt1126यही वो महान रात्रि है जब सबको बाँधने वाला खुद बंध गया, यही वो महान रात्रि है जब अंतहीन अबूझ पहेली ईश्वर एक बहुत सुन्दर रूप में हमें प्राप्त हुआ, आज मौका है जम कर उत्सव मनाने का, आज अवसर है नन्द लाल को प्यार करने का, आज अवसर है गोपाल से सदा सदा के लिए रिश्ता जोड़ने का !

ठीक 12 बजे माँ देवकी के नंदन जन्म लेंगे…..दिल थाम कर बैठिये क्योकि 12 बजे तो समाधिस्थ भोले नाथ समेत पूरा ब्रह्माण्ड नाच उठेगा…..

आनन्द उमंग भयो जय हो लड्डू गोपाल की ! !

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, सत्य व लुप्त होते हुए ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी प्रकार के उपायों व जानकारियों को किसी भी प्रकार से प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)



You may also like...