गैस बनने के कारण और निवारणार्थ एक्यूप्रेशर पॉइंट्स

· December 20, 2015

v267bc98d8c0915c5058119abdea7f8f8वायु या गैस से सम्बंधित समस्या होने पर चित्र में दिए गए पॉइंट (acupressure points for gas) को दबाने पर फायदा मिलता है तथा वायु मुद्रा (तर्जनी उंगली को अंगूठे की जड़ से छूना) लगाने पर भी फायदा मिलता है !

गैस का आकस्मिक अटैक हो तो छोटी इलायची खाने से भी राहत मिलती है !

जब तक पेट में कब्ज है, गैस बनना तय है इसलिए सुबह शौच जाने का समय निश्चित रखना चाहिए और जरूरत महसूस हो तो रात को सोते समय पेट साफ़ करने के लिए दिव्य चूर्ण (श्री बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद का) लिया जा सकता है !

इसके अलावा खाते समय या खाने के बाद 1 घंटे के अन्दर पानी पीने से भी गैस बनती है ! दिन भर लगातार बैठ कर काम करने से भी गैस बनती है ! ज्यादा तेल मसाला का खाना या बाजार का फ़ास्ट फ़ूड खाने से गैस बनती है !

v5313481गन्दा पानी पीने से भी गैस बनती है और बाजार में बिकने वाले मिनरल वाटर्स का भी लम्बा लगातार इस्तेमाल करने से गैस की प्रॉब्लम सुनने को मिलती है ! पाचन शक्ति कमजोर हो तो भी गैस बनती है ! पाचन शक्ति मजबूत बनाने के लिए एक चम्मच मेथी दाना कुछ दिन तक खाते समय खाने से पाचन शक्ति मजबूत बनती है, पर इससे थोड़ा कब्ज होती है !

पेट में कृमि हो तो भी गैस बनती है ! पेट के कृमि समाप्त करने के लिए कुछ दिन तक रात को खाने के बाद 1-2 गोली नीम वटी (श्री बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद का) खाने से सारे कृमि मर जाते हैं ! नीम वटी खाने के 1 घंटा पहले और बाद में दूध या दूध से बना कोई सामान नहीं खाना पीना चाहिए !

गैस की समस्या बढ़ने पर शरीर में विचित्र लक्षण या दर्द पैदा हो सकते हैं ! कई बार सुनने को मिलता है की गैस की वजह से सीने में होने वाले दर्द या बेचैनी को ह्रदय रोग समझ कर लोग ह्रदय का इलाज शुरू कर देते हैं !

रोज रोज गैस झेलने से बढ़िया है की अपनी दिनचर्या में थोड़ा सा परिवर्तन कर के गैस बनने की नौबत ही ना आने दिया जाय !

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, सत्य व लुप्त होते हुए ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी तरह के उपायों व जानकारियों को प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)





ये भी पढ़ें :-



[ajax_load_more preloaded="true" preloaded_amount="3" images_loaded="true"posts_per_page="3" pause="true" pause_override="true" max_pages="3"css_classes="infinite-scroll"]