गंजे सिर पर बाल उगाने और सफ़ेद बालों का काला कर सकने में सक्षम

अब घर बैठे हुए ही अपनी कठिन शारीरिक, मानसिक, आर्थिक समस्याओं के लिए तुरंत पाईये ऑनलाइन/टेलीफोनिक समाधान विश्वप्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह के बेहद अनुभवी एक्सपर्ट्स द्वारा, इसी लिंक पर क्लिक करके



downloadयह निश्चित तौर पर बालों की सभी समस्याओं को समाप्त करने का बहुत ही शक्तिशाली तरीका है !

इसे कुछ महीने लगातार करने से गंजे सिर पर फिर से बाल उगते देखे गएँ हैं और सफ़ेद हो चुके बालों को भी फिर से काला होते देखा गया है (acupressure points for hair growth, acupressure points for hair growth hair fall, acupressure points for hair growth hair problems, acupressure points for hair growth baldness, acupressure points for hair growth white hair) !

गंजापन चाहे किसी बिमारी (जैसे- एलोप्शिया; Alopecia) की वजह से हो या किसी एलोपैथिक दवा, ट्रीटमेंट (कैंसर कीमोथेरेपी; Cancer Chemotherapy) के साइड इफेक्ट्स की वजह से हो या लापरवाही भरी दिनचर्या की वजह से हो या अनुवांशिकी रूप से हो, ये निश्चित चमत्कारी फायदा पहुचाता है !

बाल चाहे कितने भी तेज़ी से झड़ रहे हों या पक कर सफ़ेद हो रहे हों, यह अभ्यास निश्चित फायदा करता ही करता है !

इसे करने के लिए किसी भी तरह की महंगी दवाएं या दुर्लभ जड़ी बूटियों की जरूरत नहीं पड़ती है और ना ही कोई बहुत कठिन अभ्यास या प्रक्रिया करने की जरूरत होती है !

असल में यह एक तरह का एक्यूप्रेशर प्रैक्टिस है जिसे प्रति दिन आपको आपकी समस्या की गम्भीरता के हिसाब से करना है !

मतलब अगर आपके बाल बहुत तेजी से झड़ रहे हों या बहुत तेजी से सफ़ेद हो रहे हों, तो आप इसे प्रतिदिन आधा घंटा करिए और अगर बहुत तेजी की बजाय, सामान्य गति से आपके बाल झड़ या सफ़ेद हो रहे हों तो रोज 5 मिनट इस अभ्यास को करने से भी काम चल जायेगा !

अगर जल्दी रिजल्ट चाहिए तो इसे आप रोज आधा घंटा करिए, पर हाँ, आपको इस अभ्यास को रोज – रोज आधे घंटे से ज्यादा करने की आवश्यकता नही है क्योंकि आधा घंटा से ज्यादा देर तक करने पर भी कोई विशेष या जल्द लाभ मिलते हुए नही देखा गया है और साथ ही साथ अगर इस अभ्यास को रोज – रोज 3 मिनट से कम किया जाय तो भी कोई विशेष लाभ मिलते हुए नही देखा गया है !

इस अभ्यास को नियमित तौर पर करने के अतिरिक्त आपको कुछ और कार्य भी करने होंगे, जैसे – बालों की समस्या होने के सबसे बड़े कारणों से भी अधिक से अधिक दूरी बनानी पड़ेगी नहीं तो इस अभ्यास को करने का कोई विशेष फायदा नहीं मिल पाएगा !

बालों की मुख्य समस्याओं की वजहों में से एक प्रमुख वजह है बाजारों में बिकने वाले अलग – अलग तरह के छोटी बड़ी नामी गिरामी कंपनियों के शैम्पू, क्रीम, हेयर जेल और साबुन आदि का इस्तेमाल !

क्योंकि लगभग अधिकांश कंपनी के शैम्पू और साबुन में बहुत ज्यादा मात्रा में, केमिकल्स का प्रयोग होता है जो की शरीर, त्वचा और बालों के लिए निश्चित तौर पर बहुत नुकसान दायक होता है और लम्बे समय तक इन शैम्पू और साबुन का इस्तेमाल करने पर बालों की समस्या पैदा होना लगभग तय है !

कई बड़ी नामी कंपनीयां बेवकूफ बनाने के लिए टी वी और अखबारों में प्रचार करती हैं की उनकी कंपनी के शैम्पू और साबुन 100 % हर्बल (आयुर्वेदिक) या नेचुरल हैं पर वास्तविकता में ऐसा होता है नहीं क्योंकि इन शैम्पू, क्रीम और साबुन को कई – कई महीने बिना सड़े और ख़राब हुए बाजार में बेचने के लिए, ये भ्रष्ट कंपनियां इनमे प्रिजर्वेटिव और केमिकल मिला देतीं है ! लेकिन आज के इस घोर भ्रष्टाचारी माहौल में भी, पतंजलि जैसी कुछ कम्पनीज अभी भी ऐसी हैं, जिनके प्रोडक्ट्स (साबुन, शैम्पू आदि) पर भरोसा करके इस्तेमाल किया जा सकता है !

वास्तव में सिर के बालों की सफाई के लिए हफ्ते में सिर्फ 1 बार शैम्पू लगाना पर्याप्त होता है, और शरीर के बाकी हिस्सों की त्वचा की सफाई के लिए सप्ताह में सिर्फ 1 बार साबुन लगाना पर्याप्त होता है !

वैसे यहाँ फिर से समझने की जरूरत है कि, भारत में लगभग आज से 50 -60 साल पहले तक कोई भी आदमी औरत शैम्पू साबुन क्रीम आदि का इस्तेमाल ही नहीं करता था तो क्या उनके बाल गंदे रहते थे ?

नहीं, क्योंकि हमारे पूर्वज बालों और शरीर को साफ़ करने के लिए सिर्फ कुदरती चीजों (जैसे- दही, आंवला, रीठा, शिकाकाई, बेसन, मुल्तानी मिटटी आदि) का इस्तेमाल करते थे इसलिए 60 वर्ष की अवस्था में भी उनके बाल काले और त्वचा चमक दार रहती थी !

ये बात सभी लोगों को एकदम अच्छे से समझ लेना चाहिए की अपना ये मानव शरीर किसी भी तरह के केमिकल के इस्तेमाल (चाहे वह शरीर के अन्दर भोजन, दवा जैसे कि एलोपैथिक दवाएं के रूप में हो या शरीर के बाहर शैम्पू, साबुन, क्रीम के रूप में हो) के लिए बना ही नहीं है !

किसी भी केमिकल का किसी भी रूप में इस्तेमाल शरीर पर थोड़ा या ज्यादा बुरा असर निश्चित डालेगा और ये थोड़ा या ज्यादा बुरा असर इस पर निर्भर करता है की आपकी शरीर कितनी मजबूत अवस्था में है या आप इन चीजों के प्रति कितने सेंसिटिव हैं !

बालों को काला रंगने वाली हेयर डाई और तरह तरह के रंग बिरंगे फैशनेबल हेयर कलर्स भी बालों के लिए अति हानि कारक हैं !

दुनिया के साधारण लोग, सिनेमा के हीरो हीरोइन्स के द्वारा टी वी, मैगजींस में आने वाले एडवरटीजमेंट्स से प्रभावित होकर इन चीजों को खरीदने के लिए हमेशा बेताब रहते है पर इन साधारण सीधी सादी जनता को परदे के पीछे की सच्चाई का पता नहीं होता कि ये हीरो हीरोइन्स खुद तो कुदरती जड़ी बूटियों से अपने बाल शरीर की सफाई करते हैं पर पैसे कमाने के खातिर जयादातर हीरो हीरोइन्स दूसरों को केमिकल वाला शैम्पू साबुन बेचने में संकोच नहीं करते !

यहाँ ऊपर लिखे कारणों को इतना डिटेल में इसलिए समझाया गया है क्योंकि जब तक ये कारण बने रहेंगे तब तक दुनिया की कोई भी दवा आपके झड़ते या सफ़ेद होते बालों के इलाज में कोई विशेष करामात नहीं दिखा पायेगी ! लेकिन आप इन कारणों से एकदम दूरी बना लें तो नीचे लिखे अभ्यास से निश्चित तौर पर आप चमत्कारी फायदा उठा सकते हैं !

जो तरीका यहाँ बताया जा रहा है हो सकता है कि उसके बारे में आप पहले से जानते हों, लेकिन आज भी बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्हें ये नही पता कि ये तरीका कितना ज्यादा और कितना जल्दी फायदा कर सकता है !

इस अभ्यास को करने से सालों के झड़ते बालों में 1 हफ्ते में ही रोकथाम देखी गयी है और इतना ही नहीं कुछ ही महीने में गंजे हुए सिर पर फिर से बाल उगते देखे गएँ हैं और सफ़ेद हो चुके बालों को काला होते हुए भी देखा गया है ! बस जरूरत है ऊपर लिखे हुए परहेजों के साथ नियम से इसे प्रतिदिन करने की !

download (1)इस अभ्यास में बस इतना करना होता है कि दोनों हाथों की चारों उँगलियों के नाखूनों के सफ़ेद वाले हिस्सों को आपस में बार बार रगड़ना है (चित्र की तरह) पर ध्यान रहे की अंगूठे आपस में नहीं रगड़ना है क्योंकि अंगूठों को आपस में रगड़ने से कानों और नाक पर भी बाल उगने लगते हैं |

इस अभ्यास को कभी भी किया जा सकता है बस खाने के आधे घंटे पहले और 2 घंटे बाद तक ना करें ! और इसे करते समय नंगी जमीन पर ना बैठें, जमीन पर कुछ बिछाकर ही बैठें !

अगर सिर की खोपड़ी पर रोज सुबह – शाम 5 मिनट सूर्य की रोशनी भी पड़े तो बहुत ही तेज लाभ मिलता है ! सिर पर हफ्ते में दो बार या कम से कम एक बार नारियल तेल जरूर लगाना चाहिए ! नारियल तेल हल्का, बहुत ही ज्यादा लाभकारी और सभी तरह की प्रकृति वाले मानवों के लिए अनुकूल होता है ! नारियल तेल लाभ तभी करेगा जब वह असली हो, लेकिन भारत में वर्षों से शुद्ध नारियल तेल बेचने वाली कई नामी गिरामी कम्पनीज के तेल में मिलावट पकड़ी गयी है, इसलिए पतंजलि का नारियल तेल ही प्रयोग करना श्रेयस्कर होगा !

नहाते समय और सिर पर नारियल तेल लगाते समय अपने हाथों की उँगलियों से सिर की 2 मिनट धीरे – धीरे मालिश करना ना भूलें ! सिर की मालिश कभी भी जोर – जोर से और जल्दी – जल्दी नहीं करनी चाहिए क्योकि इससे कमजोर बाल टूटने लगतें हैं ! हो सके तो रोज किसी भी समय अपने सिर पर 100 बार कंघी फेरें क्योकि यह भी एक तरह का जबरदस्त एक्यूप्रेशर है जिससे एकदम गंजी हो चुकी खोपड़ी पर भी नए – नए बाल पैदा होने में काफी आसानी होती है !

बाल अगर बहुत ज्यादा झड चुके हों तो बेहतर होगा कि आप ऊपर लिखे हुए अभ्यासों को शुरू करने से पहले, एक बार अपना सिर पूरी तरह से मुंडवा लीजिये क्योंकि जब आप ऊपर लिखे हुए अभ्यासों के साथ आपके नए बाल फिर से उगेंगे तो निश्चित रूप से पहले से ज्यादा मजबूत, घने, लम्बे और काले होंगे !

किसी भी तरह का नशा (जैसे- सिगरेट, तम्बाखू, शराब, बियर आदि) करने वालों को इस इलाज से विशेष लाभ नही मिल पाएगा !

कृपया हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे यूट्यूब चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ट्विटर पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

कृपया हमारे ऐप (App) को इंस्टाल करने के लिए यहाँ क्लिक करें


डिस्क्लेमर (अस्वीकरण से संबन्धित आवश्यक सूचना)- विभिन्न स्रोतों व अनुभवों से प्राप्त यथासम्भव सही व उपयोगी जानकारियों के आधार पर लिखे गए विभिन्न लेखकों/एक्सपर्ट्स के निजी विचार ही “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट पर विभिन्न लेखों/कहानियों/कविताओं आदि के तौर पर प्रकाशित हैं, लेकिन “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट, इस वेबसाइट के द्वारा और किसी भी अन्य माध्यम के द्वारा, दी गयी किसी भी जानकारी की सत्यता, प्रमाणिकता व उपयोगिता का किसी भी प्रकार से दावा, पुष्टि व समर्थन नहीं करतें हैं, इसलिए कृपया इन जानकारियों को किसी भी तरह से प्रयोग में लाने से पहले, प्रत्यक्ष रूप से मिलकर, उन सम्बन्धित जानकारियों के दूसरे एक्सपर्ट्स से भी परामर्श अवश्य ले लें, क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं ! अतः किसी को भी, “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट के द्वारा और इससे जुड़े हुए किसी भी लेखक/एक्सपर्ट द्वारा, किसी भी माध्यम से प्राप्त हुई, किसी भी प्रकार की जानकारी को प्रयोग में लाने से हुई, किसी भी तरह की हानि व समस्या के लिए “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान और इससे जुड़े हुए कोई भी लेखक/एक्सपर्ट जिम्मेदार नहीं होंगे !