कविता – सुआ खंड – पदमावत – मलिक मुहम्मद जायसी – (संपादन – रामचंद्र शुक्ल )

· April 7, 2014

RamChandraShukla_243172पदमावति तहँ खेल दुलारी । सुआ मँदिर महँ देखि मजारी॥

कहेसि चलौं जौलहि तन पाँखा । जिउ लै उड़ा ताकि बनडाँखा॥

 

जाइ परा बा खंड जिउ लीन्हें । मिले पंखि, बहु आदर कीन्हें॥

 

आनि धारेन्हि आगे फरि साखा । भुगुति भेंट जौ लहि विधिा राखा॥

 

पाइ भुगुति सुख तेहि मन भयऊ । दुख जो अहा बिसरि सबगयऊ॥

 

ए गुसाइं तू ऐस विधााता । जावत जीव सबन्ह मुकदाता॥

 

पाहन महँ बहिं पतँग बिसारा । जहँ तोहि सुनिर दीन्ह तुइँ चारा॥

 

तौ लगि सोग बिछोह कर, भोजन परा न पेट।

 

पुनि बिसरन भा सुमिरना, जब संपति भै भेंट॥1॥

 

पदमावति पहँ आइ भँडारी । कहेसि मँदिर महँ परी मजारी॥

 

सुआ जो उतर देत रह पूछा । उडिगा, पिंजर न बोलै छूंछा॥

 

रानी सुना सबहिं सुख गयऊ । जनु निसि परी, अस्त दिन भयऊ॥

 

गहने गही चाँद कै करा । ऑंसु गगन जस नखतन्ह भरा॥

 

टूट पाल सरवर बहि लागे । कवँल बूड़, मधाुकर उड़ि भागे॥

 

एहि विधिा ऑंसु नखत होइ चूए । गगन छाँड़ि सरवर महँ ऊए॥

 

चिहुर चुईं मोतिन कै माला । अब सँकेत बाँधाा चहुँ पाला॥

 

उड़ि यह सुअटा कहँ बसा, खोजु सखी सो बासु।

 

दहुँ है धारती की सरग, पौन न पावै तासु॥2॥

 

चहूँ पास समुझावहिं सखी । कहाँ सो अब पाउब, गा पँखी?॥

 

जौ लहि पींजर अहा परेवा । रहा बंदि महँ, कीन्हेसि सेवा॥

 

तेहि बंदि हुति छुटै जो पावा । पुनि फिरि बंदि होइ कित आवा?॥

 

वै उड़ान फर तहियै खाए । जब भा पंखि, पाँख तन आए॥

 

पींजर जेहिक सौंपि तेहि गयउ । जो जाकर सो ताकर भयऊ॥

 

दस दुवार जेहि पींजर माँहा । कैसे बाँच मँजारी पाहाँ॥

 

यह धारती अस केतन लीला । पेट गाढ़ अस, बहुरि न ढीला॥1

 

जहाँ न राति न दिवस है, जहाँ न पौन न पानि।

 

तेहि बन सुअटा चलि बसा, कौन मिलावै आनि॥3॥

 

सुए तहाँ दिन दस कल काटी । आय बियाधा ढुका लेइ टाटी॥

 

पैग पैग भुइँ चापत आवा । पंखिन्ह देखि हिए डर खावा॥

 

देखिय किछु अचरज अनभला । तरिवर एक आवत है चला॥

 

एहि वन रहत गई हम्म आऊ । तरिवर चलत न देखा काऊ॥

 

आज तो तरिवर चल, भल नाहीं । आवहु यह वन छाँड़ि पराहीं॥

 

वै तौ उड़े और वन ताका । पंडित सुआ भूलि मन थाका॥

 

साखा देखि राजु जनु पावा । बैठ निचिंत चला वह आवा॥

 

पाँच बान कर खोंचा, लासा भरे सो पाँच।

 

पाँख भरे तन अरुझा, कित मारे बिनु बाँच॥4॥

 

बँधिागा सुआ करत सुख केली । चूरि पाँख मेलेसि धारि डेली॥

 

तहवाँ बहुत पंखि खरभरहीं । आपु आपु मह रोदन करहीं॥

 

बिखदाना कित होत ऍंगूरा । जेहि भा मरन डहन धारि चूरा॥

 

जौं न होत चारा कै आसा । कित चिरिहार ढुकत लेइ लासा॥

 

यह विष चारै सब बुधिा ठगी । औ भा काल हाथ लेइ लगी॥

 

एहि झूठी माया मन भूला । ज्यों पंखी तैसै तन फूला॥

 

यह मन कठिन मरै नहिं मारा । काल न देख, देख पै चारा॥

 

हम तो बुध्दि गँवावा, विष चारा अस खाइ।

 

तैं सुअटा पंडित होइ, कैसे बाझा आइ॥5॥

 

सुए कहा हमहूँ अस भूले । टूट हिंडोल गरब जेहि झूले॥

 

केरा के वन लीन्ह बसेरा । परा साथ तहँ बैरी केरा॥

 

सुख कुरवारि फरहरी खाना । ओहु विष भा जब ब्याधा तुलाना॥

 

काहेक भोग बिरिछ अस फरा । आड़ लाइ पंखिन्ह कहँ धारा?॥

 

सुखी निचिंत जोरि धान करना । यह न चिंत आगे है मरना॥

 

भूले हमहुँ गरब तेहि माहाँ । सो बिसरा पावा जेहि पाहाँ॥

 

होइ निचिंत बैठे तेहि आड़ा । तब जाना खोंचा हिए गाड़ा॥

 

चरत न खुरुक कीन्ह जिउ, तब रे चरा सुख सोइ॥

 

अब जो फाँद परा गिउ, तब रोए का होइ॥6॥

 

सुनि के उतर ऑंसु पुनि पोंछे । कौन पंखि बाँधाा बुधिा ओछे॥

 

पंखिन्ह जौ बुधिा होइ उजारी । पढ़ा सुआ कित धारै मँजारी॥

 

कित तीतिर वन जीभ उघेला । सो कित हँकरि फाँद गिउ मेला॥

 

तादिन ब्याधा भए जिउलेवा । उठे पाँख भा नाँव परेवा॥

 

भै बियाधिा तिसना सँग खाधाू । सूझै भुगुति, न सूझ बियाधाू॥

 

हमहिं लोभवै मेला चारा । हमहिं गर्बवै चाहै मारा॥

 

हम निचिंत वह आव छिपाना । कौन बियाधाहिं दोष अपाना॥

 

सो औगुन कित कीजिए, जिउ दीजै जेहि काज।

 

अब कहना है किछु नहीं, मस्ट भली पँखिराज॥7॥

 

(1) बनढाँख=ढाक का जंगल, जंगल। अहा=था।

 

(2) पाल=बाँधा, भीटा, किनारा। चिहुर=चिकुर, केश। सँकेत=सँकरा, तंग।

 

(3) हुति=से।

 

(4) ढुका=छिपकर बैठा। आऊ=आयु। काऊ=कभी। खोंचा=चिड़िया फँसाने का बाँस।

 

(5) डेली=डली, झाबा। डहन=डैना, पर। चिरिहार=बहेलिया। ढुकत=छिपता। लगी=लग्गी, बाँस की छड़। फूला=हर्ष और गर्व से इतराया। ऍंगूरा=अंकुर।

 

1. पाठांतर-असुमति, गजपति भूधार कीला।

 

(6) कुरवारि=खोद खोदकर, चोंच मार मारकर, जैसे-धारनी नख चरनन कुरवारति-सूर। बुलाना=आ पहुँचा। जेहि पाहाँ=जिस (ईश्वर) से। गिउ=ग्रीवा, गला।

 

(7)खाधाू=खाद्य।लौभवै=लोभहीने।मस्ट=मौन।

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी एवं महा फलदायी "स्वयं बनें गोपाल" प्रक्रिया (जो कि एक अतिदुर्लभ आध्यात्मिक साधना है) का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, नशा एवं कुरीति उन्मूलन, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने गाँव/शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में भारतीय देशी गाय माता से सम्बन्धित कोई व्यवसायिक/रोजगार उपक्रम (जैसे- अमृत स्वरुप सर्वोत्तम औषधि माने जाने वाले, सिर्फ भारतीय देशी गाय माता के दूध व गोमूत्र का विक्रय केंद्र, गोबर गैस प्लांट, गोबर खाद आदि) {या मात्र सेवा केंद्र (जैसे- बूढी बीमार उपेक्षित गाय माता के भोजन, आवास व इलाज हेतु प्रबन्धन)} खोलने में सहायता लेकर साक्षात कृष्ण माता अर्थात गाय माता का अपरम्पार बेशकीमती आशीर्वाद के साथ साथ अच्छी आमदनी भी कमाना, चाहतें हैं तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

जानिये “स्वयं बनें गोपाल” समूह और इसके प्रमुख स्वयं सेवकों के बारे में

धन्यवाद,
(“स्वयं बनें गोपाल” समूह)

हमारा सम्पर्क पता (Our Contact Address)-
“स्वयं बनें गोपाल” समूह,
प्रथम तल, “स्वदेश चेतना” न्यूज़ पेपर कार्यालय भवन (Ground Floor, “Swadesh Chetna” News Paper Building),
समीप चौहान मार्केट, अर्जुनगंज (Near Chauhan Market, Arjunganj),
सुल्तानपुर रोड, लखनऊ (Sultanpur Road, Lucknow),
उत्तर प्रदेश, भारत (Uttar Pradesh, India).

हमारा सम्पर्क फोन नम्बर (Our Contact No)– 91 - 0522 - 4232042, 91 - 07607411304

हमारा ईमेल (Contact Mail)– info@svyambanegopal.com

हमारा फेसबुक (Our facebook Page)- https://www.facebook.com/Svyam-Bane-Gopal-580427808717105/

हमारा ट्विटर (Our twitter)- https://twitter.com/svyambanegopal

आपका नाम *

आपका ईमेल *

विषय

आपका संदेश



ये भी पढ़ें :-



[ajax_load_more preloaded="true" preloaded_amount="3" images_loaded="true"posts_per_page="3" pause="true" pause_override="true" max_pages="3"css_classes="infinite-scroll"]