कविता – राजा-सुआ संवाद खंड – पदमावत – मलिक मुहम्मद जायसी – (संपादन – रामचंद्र शुक्ल )

· March 29, 2014

RamChandraShukla_243172राजै कहा सत्य कहु सूआ । बिनु सत जस सेंवर कर भूआ॥

होइ मुख रात सत्य के बाता । जहाँ सत्य तहँ धारम सँघाता॥

 

बाँधाो सिहिटि अहै सत केरी । लछिमी अहै सत्य कै चेरी॥

 

सत्य जहाँ साहस सिधिा पावा । औ सतवादी पुरुष कहावा॥

 

सत कहँ सती सँवारै सरा । आगि लाइ चहुँ दिसि सत जरा॥

 

दुइ जग तरा सत्य जेइ राखा । और पियार दइहि सत भाखा॥

 

सो सत छाँड़ि जो धारम बिनासा । भा मतिहीन धारम करि नासा।

 

तुम्ह सयान औ पंडित, असत न भाखहु काउ।

 

सत्य कहहु तुम मोसौं, दहुँ काकर अनियाउ॥1॥

 

सत्य कहत राजा जिउ जाऊ । पै मुख असत न भाखौं काऊ॥

 

हौं सत लेइ निसरेउँ एहि बूते । सिंघलदीप राजघर हूँते॥

 

पदमावति राजा कै बारी । पदुम गंधा ससि विधिा औतारी॥

 

समि मुख, अंग मलयगिरि रानी । कनक सुगंधा दुआदस बानी॥

 

अहैं जो पदमिनि सिंघल माहाँ । सुगँधा रूप सब तिन्हकै छाहाँ॥

 

हीरामन हौं तेहिक परेवा । कंठा फूट करत तेहि सेवा॥

 

औ पाएउँ मानुष कै भाषा । नाहिं त पंखि मूठि भर पाँखा॥

 

जौ लहि जिऔं रात दिन, सँवरौं ओहि कर नावँ।

 

मुख राता, तत हरियर, दुहूँ जगत लेइ जावँ॥2॥

 

हीरामन जो कँवल बखाना । सुनि राजा होइ भँवर भुलाना॥

 

आगे आव, पंखि उजियारा । कहँ सो दीप पतँग कै मारा॥

 

अहा जो कनक सुबासित ठाऊँ । कस न होइ हीरामन नाऊँ॥

 

को राजा, कस दीप उतंगू । जेहि रे सुनत मन भयउ पतंगू॥

 

 

सुनि समुद्र भा चख किलकिला । कवँलहि चहौं भँवर होइ मिला॥

 

कहु सुगंधा कस धानि निरमली । भा अलि संग कि अबहीं कली॥

 

औ कहु तहँ जहँ पदमिनिलोनी । घर घर सब के होइ जो होनी॥

 

सबै बखान तहाँ कर, कहत सो मोसौं आव।

 

चहौं दीप वह देखा, सुनत उठा अस चाव॥3॥

 

का राजा हौं बरनौं तासू । सिंघलदीप आहि कैलासू॥

 

जो गा तहाँ भुलाना सोई । गा जुग बीति न बहुरा कोई॥

 

घर घर पदमिनि छतिसौ जाती । सदा बसंत दिवस औ राती॥

 

जेहि जेहि बरन फूल फुलवारी । तेहि तेहि बरन सुगंधा सो नारी॥

 

गंधा्रबसेन तहाँ बड़ राजा । अछरिन्ह महँ इंद्रासन साजा॥

 

सो पदमावति तेहि कर बारी । जो सब दीप माँह उजियारी॥

 

चहूँ खंड के वर जो ओनाहीं । गरबहि राजा बोलै नाहीं॥

 

उअत सूर जस देखिय, चाँद छपै तेहि धाूप।

 

ऐसै सबै जाहिं छपि, पदमावति के रूप॥4॥

 

सुनि रवि नावँ रतन भा राता । पंडित फेरि उहै कहु बाता॥

 

तैं सुरंग मूरति वह कही । चित महँ लागि चित्रा होइ रही॥

 

जनु होइ सुरुज, आइमन बसी । सब घट पूरि हिये परगसी॥

 

अब हौं सुरुज, चाँद वह छाया । जल बिनु मीन, रकत बिनुकाया॥

 

किरिन करा भा प्रेम ऍंकूरू । जौं ससि सरग, मिलौं होइ सूरू॥

 

सहसौ करा रूप मन भूला । जहँ जहँ दीठ कँवल जनु फूला॥

 

तहाँ भवँर जिउ कँवला गंधाी । भइ ससि राहु केलि रिनि बंधाी॥

 

तीनि लोक चौदह ख्रड, सबै परै मोहिं सूझि।

 

पेम छाँड़ि नहिं लोन किछु, जो देखा मन बूझि॥5॥

 

पेम सुनत मन भूल न राजा । कठिन पेम, सिर देइ तौ छाजा1॥

 

पेम फाँद जो परा न छूटा । जीउ दीन्ह पै फाँद न टूटा॥

 

गिरगिट छंद धारै दुख तेता । खन खन पीत, रात, खन सेता॥

 

जान पुछार जो भा वनबासी । रोंव रोंव परे फँद नगवासी॥

 

पाँखन्ह फिरि फिरि परा सो फाँदू । उड़ि न सकै, अरुझा भा बाँदू॥

 

‘मुयो, मुयो’ अहनिसि चिल्लाई । ओही रोस नागन्ह धौ खाई॥

 

पँडुक, सुआ, कंक बह चीन्हा । जेहिं गिउ परा चाहि जिउ दीन्हा॥

 

 

तीतिर गिउ जो फाँद है, नित्तिा पुकारै दोख॥

 

सो कित हँकरि फाँद गिउ, मेलै कित मारे होइ मोख॥6॥

 

राजै लीन्ह ऊबि कै साँसा । ऐस बोल जिनि बोलु निरासा॥

 

भलेहि पेम है कठिन दुहेला । दुइ जग तरा पेम जेइ खेला॥

 

दुख भीतर जो पेम मधाु राखा । जग नहिं मरन सहै जो चाखा॥

 

जो नहिं सीस पेम पथ लावा । सो प्रिथिमी महँ काहे क आवा॥

 

अब मैं पंथ पेम सिर मेला । पाँव न ठेलु, राखु कै चेला॥

 

पेम बार सो कहै जो देखा । जो न देख का जान बिसेखा॥

 

तौ लगि दुख पीतम नहि भेंटा । मिलै, तौ जाइ जनम दुख मेटा॥

 

जस अनूप, तू बरनेसि, नखसिख बरनु सिंगार।

 

है मोहिं आस मिलै कै, जौं मेरवै करता॥7॥

 

(1) भूआ=सेमल की रूई। मुख रात होइ=सुर्खरू होता है। सरा=चिता।

 

(2) घर हँते=घर से (प्रा. पंचमी विभक्ति ‘हिंतो’)। दुवादस बानी=बारह बानी, चोखा (द्वादश वर्ण अर्थात् द्वादश आदित्य के समान)। कंठा फूट=गले में कंठे की लकीर प्रकट हुई, सयाना हुआ।

 

(3) पतंग कै मारा=जिसने पतंग बनाकर मारा। उतंगू=उत्ताुंग, ऊँचा। किलकिला=जल के ऊपर मछली के लिए मँडराने वाला एक जलपक्षी। होनी=बात, व्यवहार।

 

(4) अछरी=अप्सरा। ओनाहीं=झुकते हैं।

 

(5) करा=कला। लोन=सुंदर।

 

. यह पद एशियाटिक सोसाइटी बंगाल से प्रकाशित पदमावती में है।

 

(6) छंद=रूपरचना। पुछार=मयूर, मोर। नगवासी=नागों का फंदा अर्थात् नागपाश। धौ=धारकर। चीन्हा=चिद्द, लकीर, रेखा।

 

(7) ऊबि कै साँस लीन्ह=लंबी साँस ली। दुहेला=कठिन खेल। पाँव न ठेलु=पैर से न ठुकरा, तिरस्कार न कर। बिसेखा=मर्म।

 

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी एवं महा फलदायी "स्वयं बनें गोपाल" प्रक्रिया (जो कि एक अतिदुर्लभ आध्यात्मिक साधना है) का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, नशा एवं कुरीति उन्मूलन, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने गाँव/शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में भारतीय देशी गाय माता से सम्बन्धित कोई व्यवसायिक/रोजगार उपक्रम (जैसे- अमृत स्वरुप सर्वोत्तम औषधि माने जाने वाले, सिर्फ भारतीय देशी गाय माता के दूध व गोमूत्र का विक्रय केंद्र, गोबर गैस प्लांट, गोबर खाद आदि) {या मात्र सेवा केंद्र (जैसे- बूढी बीमार उपेक्षित गाय माता के भोजन, आवास व इलाज हेतु प्रबन्धन)} खोलने में सहायता लेकर साक्षात कृष्ण माता अर्थात गाय माता का अपरम्पार बेशकीमती आशीर्वाद के साथ साथ अच्छी आमदनी भी कमाना, चाहतें हैं तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

जानिये “स्वयं बनें गोपाल” समूह और इसके प्रमुख स्वयं सेवकों के बारे में

धन्यवाद,
(“स्वयं बनें गोपाल” समूह)

हमारा सम्पर्क पता (Our Contact Address)-
“स्वयं बनें गोपाल” समूह,
प्रथम तल, “स्वदेश चेतना” न्यूज़ पेपर कार्यालय भवन (Ground Floor, “Swadesh Chetna” News Paper Building),
समीप चौहान मार्केट, अर्जुनगंज (Near Chauhan Market, Arjunganj),
सुल्तानपुर रोड, लखनऊ (Sultanpur Road, Lucknow),
उत्तर प्रदेश, भारत (Uttar Pradesh, India).

हमारा सम्पर्क फोन नम्बर (Our Contact No)– 91 - 0522 - 4232042, 91 - 07607411304

हमारा ईमेल (Contact Mail)– info@svyambanegopal.com

हमारा फेसबुक (Our facebook Page)- https://www.facebook.com/Svyam-Bane-Gopal-580427808717105/

हमारा ट्विटर (Our twitter)- https://twitter.com/svyambanegopal

आपका नाम *

आपका ईमेल *

विषय

आपका संदेश



ये भी पढ़ें :-



[ajax_load_more preloaded="true" preloaded_amount="3" images_loaded="true"posts_per_page="3" pause="true" pause_override="true" max_pages="3"css_classes="infinite-scroll"]