कविता – रत्नसेन जन्म खंड – पदमावत – मलिक मुहम्मद जायसी – (संपादन – रामचंद्र शुक्ल )

RamChandraShukla_243172चित्रासेन चितउर गढ़ राजा । कै गढ़ कोट चित्रा सम साजा॥

तेहि कुल रतनसेन उजियारा । धानि जननी जनमा अस बारा॥

 

पंडित गुनि सामुद्रिक देखा । देखि रूप औ लखन बिसेखा॥

 

रतनसेन यह कुल निरमरा । रतन जोति मन माथे परा॥

 

पदुम पदारथ लिखी सो जोरी । चाँद सुरुज जस होइ ऍंजोरी॥

 

जस मालति कहँ भौंर बियोगी । तस ओहि लागि होइ यह जोगी॥

 

सिंघलदीप जाइ यह पावै । सिध्द होइ चितउर लेइ आवै॥

 

मोग भोज जस माना, विक्रम साका कीन्ह।

 

परखि सो रतन पारखी, सबै लखन लिखि दीन्ह॥1॥

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, सत्य व लुप्त होते हुए ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी प्रकार के उपायों व जानकारियों को किसी भी प्रकार से प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)



You may also like...