कविता – रत्नसेन जन्म खंड – पदमावत – मलिक मुहम्मद जायसी – (संपादन – रामचंद्र शुक्ल )

· March 22, 2014

RamChandraShukla_243172चितउरगढ़ कर एक बनिजारा । सिंघलदीप चला बैपारा॥

बाम्हन हुत एक निपट भिखारी । सो पुनि चला चलत बैपारी॥

 

ऋन काहू सन लीन्हेसि काढ़ी । मकु तहँ गए होइ किछु बाढ़ी॥

 

मारग कठिन बहुत दुख भयऊ । नाँघि समुद्र दीप ओहि गयऊ॥

 

देखि हाट किछु सूझ न ओरा । सबै बहुत, किछु दीख न थोरा॥

 

पै सुठि ऊँच बनिज तहँ केरा । धानी पाव, निधानी मुख हेरा॥

 

लाख करोरिन्ह वस्तु बिकाई । सहसन केरि न कोउ ओनाई॥

 

सबहीं लीन्ह बेसाहना, औ घर कीन्ह बहोर।

 

बाम्हन तहवाँ लेइ का? गाँठि साँठि सुठि थोर॥1॥

 

झूरै ठाढ़ हौं, काहे क आवा ? बनिज न मिला, रहा पछितावा॥

 

लाभ जानि आएउँ एहि हाटा । मूर गँवाइ चलेउँ तेहि बाटा॥

 

का मैं मरन सिखावन सिखी । आएउँ मरै, मीचु हति लिखी॥

 

अपने चलत सो कीन्ह कुबानी । लाभ न देख, मूर भै हानी॥

 

का मैं बोआ जनम ओहि भूँजी ? खोइ चलेऊँ घरहू कै पूँजी॥

 

जेहि ब्यौहरिया कर ब्यौहारू । का लेइ देब जौ छेंकिहि बारू॥

 

घर कैसे पैठब मैं छूछे । कौन उतर देबौं तेहि पूछे॥

 

साथि चले, संग बीछुरा, भए बिच समुद पहार।

 

आस निरासा हौं फिरौं, तू विधिा देहि अधाार॥2॥

 

तबहीं ब्याधा सुआ लेइ आवा । कंचन बरन अनूप सुहावा॥

 

बेंचै लाग हाट लै ओही । मोल रतन मानिक जहँ होही॥

 

सुअहिं को पूछ? पतंग मँडारे । चल न दीख आछै मन मारे॥

 

बाम्हन आइ सुआ सौं पूछा । दहुँ, गुनवंत कि निरगुन छूछा?॥

 

कहु परबत्तो! गुन तोहि पाहाँ । गुन न छपाइय हिरदय माहाँ॥

 

हम तुम जाति बराम्हन दोऊ । जातिहि जाति पूछ सब कोऊ॥

 

पंडित हौ तौ सुनावहु बेदू । बिनु पूछे पाइय नहिं भेदू॥

 

हौं बाम्हन औ पंडित, बहु आपन गुन सोइ।

 

पढ़े के आगे जो पढ़ै, दून लाभ तेहि होइ॥3।

 

तब गुन मोहि अहा, हो देवा । जब पिंजर हुत छूट परेवा॥

 

अब गुन कौन जो बँद, जजमाना । घालि मँजूसा बेचै आना॥

 

पंडित होइ सो हाट न चढ़ा । चहौं बिकाय, भूलि गा पढ़ा॥

 

दुइ मारग देखौं एहि हाटा । दई चलावै दहुँ केहि बाटा॥

 

रोवत रकत भयउ मुख राता । तन भा पियर कहौं का बाता?॥

 

राते स्याम कंठ दुइ गीवाँ । तेहिं दुइ फंद डरौं सुठि जीवा॥

 

अब हौं कंठ फंद दुइ चीन्हा । दहुँ ए फंद चाह का कीन्हा?॥

 

पढ़ि गुनि देखा बहुत मैं, है आगे डर सोइ।

 

धाुंधा जगत सब जानि कै, भूलि रहा बुधिा खोइ॥4॥

 

सुनि बाम्हन बिनवा चिरिहारू । करि पंखिन्ह कहँ मया न मारू॥

 

निठुर होइ जिउ बधासि परावा । हत्या केर न तोहि डर आवा॥

 

कहसि पंखि का दोस जनावा । निठुर तेइ जे परमस खावा॥

 

आवहिं रोइ, जात पुनि रोना । तबहुँ न तजहिं भोग सुख सोना॥

 

औ जानहिं तन होइहि नासू । पोखैं माँसु पराये माँसू॥

 

जो न होहिं अस परमँस खाधाू । कित पंखिन्ह कहँ धारै बियाधाू?॥

 

जो ब्याधाा नित पंखिन्ह धारई । सो बेचत मन लोभ न करई॥

 

बाम्हन सुआ बेसाहा, सुनि मति वेद गरंथ।

 

मिला आइ कै साथिन्ह, भा चितउर के पंथ॥5॥

 

तब लगि चित्रासेन सर साजा । रतनसेन चितउर भा राजा॥

 

आइ बात तेहि आगे चली । राजा बनिज आए सिंघली॥

 

हैं गजमोति भरी सब सीपी । और वस्तु बहु सिंघलदीपी॥

 

बाम्हन एक सुआ लेइ आवा । कंचनबरन अनूप सोहावा॥

 

राते स्याम कंठ दुइ काँठा । राते डहन लिखा सब पाठा॥

 

औ दुइ नयन सुहावन राता । राते ठौर अमीरस बाता॥

 

मस्तक टीका, काँधा जनेऊ । कवि बियास, पंडित सहदेऊ॥

 

राजमँदिर मँह चाहिय, अस वह सुआ अमोल॥6॥

 

भै रजाइ जन दस दौराए । बाम्हन सुआ बेगि लेइ आए॥

 

बिप्र असीसि बिनति औधाारा । सुआ जीउ नहिं करौं निनारा।

 

पै यह पेट महा बिसवासी । जेइ सब नाव तपा संन्यासी॥

 

डासन सेज जहाँ किछु नाहीं । भुइँ परि रहै लाइ गिउ बाहीं॥

 

ऑंधार रहै, जो देख न नैना । गूँग रहै, मुख आव न बैना॥

 

बहिर रहै, जो स्रवन न सुना । पै यह पेट न रह निरगुना॥

 

कै कै फेरा नित यह दोखी । बारहिं बार फिरै न सँतोषी॥

 

सो मोहि लेइ मँगावै, लावै भूख पियास।

 

जौ न होत अस बैरी, केहु न केहु कै आस॥7॥

 

सुआ असीस दीन्ह बड़ साजू । बड़ परताप अखंडित राजू॥

 

भागवंत बिधिा बड़ औतारा । जहाँ भाग तहँ रूप जोहारा॥

 

कोइ केहु पास आस कै गौना । जो निरास डिढ़ आसन मौना।

 

कोइ बिन पूछे बोल जो बोला । होइ बोल माटी के मोला॥

 

पढ़ि गुनि जानि वेदमति भेऊ । पूछै बात कहै सहदेऊ॥

 

गुनी न कोई आपु सराहा । जो बिकाइ, गुन कहा सो चाहा॥

 

जौ लगि गुन परगट नहिं होई । तौ लहि मरम न जानै कोई॥

 

चतुरवेद हौं पंडित, हीरामन मोहि नाँव।

 

पदमावति सौं मेरवौं, सेब करौं तेहि ठाँव॥8॥

 

रतनसेन हीरामन चीन्हा । एक लाख बाम्हन कहँ दीन्हा॥

 

विप्र असीसि जो कीन्ह पयाना । सुआ सो राजमँदिर महँ आना॥

 

बरनौं काह सुआ कै भाखा । धानि सो नावँ हीरामन राखा॥

 

जौ बोलै राजा मुख जोवा । जानौ मोतिन हार परोवा॥

 

जौ बोलै तो मानिक मूँगा । नाहिं त मौन बाँधा रह गूँगा॥

 

मनहुँ मारि मुख अमृत मेला । गुरु होइ आप, कीन्ह जग चेला॥

 

सुरुज चाँद कै कथा जो कहेऊ । पेम क कहनि लाइ चित गहेऊ॥

 

जो जो सुनै धाुनै सिर, राजहिं प्रीति अगाहु।

 

अस गुनवंता नाहिं भल, बाउर करिहै काहु॥9॥

 

(1)बनिजारा=वाणिज्य करने वाला, बनिया। मकु=शायद, चाहे; जैसे, गगन मगन मकु मे धाहि मिलई-तुलसी। बहोर=लौटना। साँठि=पूँजी, धान। सुठि=खूब।

 

(2)झूरै=निष्फल, व्यर्थ। कुबानी=कुवाणिज्य, बुरा व्यवसाय। भूँजि बोआ=भूनकर बीज बोया (भूनकर बोने से बीज नहीं जमता।

 

(3) पतंग-मँड़ारे=चिड़ियों के मड़रे में या झावे में। चल=चंचल, हिलता, डोलता।

 

(4)मंजूसा=मंजूषा, डला। कंठ=कंठा, काली लाल लकीर जो तोतों के गले पर होती है। धाुंधा=अंधाकार।

 

(5) परमंस=दूसरे का मांस। खाधाू=खानेवाला।

 

बोल अरथ सौं बोलै, सुनत सीस सब डोल।

 

(6) सर साजा=चिता पर चढ़ा, मर गया।

 

(7) बिसवासी=विश्वासघाती। नाव=नवाता है, नम्र करता है। न रह निरगुना=अपने गुण या क्रिया के बिना नहीं रहता। बारहिं बार=द्वार द्वार

 

(8) डिढ़=दृढ़। मेरवाँ=मिलाऊँ।

 

(9) बाउर=बावला, पागल।

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी एवं महा फलदायी "स्वयं बनें गोपाल" प्रक्रिया (जो कि एक अतिदुर्लभ आध्यात्मिक साधना है) का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने गाँव/शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में भारतीय देशी गाय माता से सम्बन्धित कोई व्यवसायिक/रोजगार उपक्रम (जैसे- अमृत स्वरुप सर्वोत्तम औषधि माने जाने वाले, सिर्फ भारतीय देशी गाय माता के दूध व गोमूत्र का विक्रय केंद्र, गोबर गैस प्लांट, गोबर खाद आदि) {या मात्र सेवा केंद्र (जैसे- बूढी बीमार उपेक्षित गाय माता के भोजन, आवास व इलाज हेतु प्रबन्धन)} खोलने में सहायता लेकर साक्षात कृष्ण माता अर्थात गाय माता का अपरम्पार बेशकीमती आशीर्वाद के साथ साथ अच्छी आमदनी भी कमाना, चाहतें हैं तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

जानिये “स्वयं बनें गोपाल” समूह और इसके प्रमुख स्वयं सेवकों के बारे में

धन्यवाद,
(“स्वयं बनें गोपाल” समूह)

हमारा सम्पर्क पता (Our Contact Address)-
“स्वयं बनें गोपाल” समूह,
प्रथम तल, “स्वदेश चेतना” न्यूज़ पेपर कार्यालय भवन (Ground Floor, “Swadesh Chetna” News Paper Building),
समीप चौहान मार्केट, अर्जुनगंज (Near Chauhan Market, Arjunganj),
सुल्तानपुर रोड, लखनऊ (Sultanpur Road, Lucknow),
उत्तर प्रदेश, भारत (Uttar Pradesh, India).

हमारा सम्पर्क फोन नम्बर (Our Contact No)– 91 - 0522 - 4232042, 91 - 07607411304

हमारा ईमेल (Contact Mail)– info@svyambanegopal.com

हमारा फेसबुक (Our facebook Page)- https://www.facebook.com/Svyam-Bane-Gopal-580427808717105/

हमारा ट्विटर (Our twitter)- https://twitter.com/svyambanegopal

आपका नाम *

आपका ईमेल *

विषय

आपका संदेश



ये भी पढ़ें :-



[ajax_load_more preloaded="true" preloaded_amount="3" images_loaded="true"posts_per_page="3" pause="true" pause_override="true" max_pages="3"css_classes="infinite-scroll"]