कविता – नागमती सुआ संवाद खंड – पदमावत – मलिक मुहम्मद जायसी – (संपादन – रामचंद्र शुक्ल )

· March 20, 2014

RamChandraShukla_243172दिन दस पाँच तहाँ जो भए । राजा कतहुँ अहेरै गए॥

नागमती रुपवंती रानी । सब रनिवास पाट परधाानी॥

 

कै सिँगार कर दरपन लीन्हा । दरसन देखि गरब जिउ कीन्हा॥

 

बोलहु सुआ पियारे नाहाँ । मोर रूप कोइ जग माहाँ॥

 

हँसत सुआ पहँ आइ सो नारी । दीन्ह कसौटी ओपनिवारी॥

 

सुआ बानि कसि कहु कस सोना । सिंघलदीप तोर कस लोना॥

 

कौन रूप तोरी रुपमनी । दहुँ हौं लोनि, कि वै पदमिनी॥

 

जो न कहसि सत सुअटा, तोहि राजा कै आन।

 

है कोई एहि जगत महँ, मोरे रूप समान॥1॥

 

सुमिरि रूप पदमावति केरा । हँसा सुआ, रानी मुख हेरा॥

 

जेहि सरवर महँ हंस न आवा । बगुला तेहि सर हंस कहावा॥

 

दई कीन्ह अस जगत अनूपा । एक एक तें आगरि रूपा॥

 

कै मन गरब न छाजा काहू । चाँद घटा औ लागेउ राहू॥

 

लोनि बिलोनि तहाँ को कहै । लोनी सोइ कंत जेहि चहै॥

 

का पूछहु सिंघल कै नारी । दिनहिं न पूजै निसि ऍंधिायारी॥

 

पुहुप सुवास सो तिन्ह के काया । जहाँ माथ का बरनौं पाया?॥

 

गढ़ी सो सोने सोंधौ, भरी सो रूपै भाग।

 

सुनत रूखि भइ रानी, हिये लोन अस लाग॥2॥

 

जौ यह सुआ मँदिर महँ अहई । कबहुँ बात राजा सौं कहई॥

 

सुनि राजा पुनि होइ वियोगी । छाँड़ै राज, चलै होइ जोगी॥

 

बिख राखिय नहिं, होइ ऍंकूरू । सबद न देइ भोर तमचूरू॥

 

धााय दामिनी बेगि हँकारी । ओहि सौंपा हीये रिस भारी॥

 

देखु, सुआ यह है मँदचाला । भयउ न ताकर जाकर पाला॥

 

मुख कह आन, पेट बस आना । तेहि औगुन दस हाट बिकाना॥

 

पंखि न राखिय होइ कुभाखी । लेइ तहँ मारु जहाँ नहिं साखी॥

 

जेहि दिन कहँ मैं डरति हौं, रैनि छपावौं सूर।

 

लै चह दीन्ह कँवल कहँ, मोकहँ होइ मयूर॥3॥

 

धााय सुआ लेइ मारै गई । समुझि गियान हिये मति भई॥

 

सुआ सो राजा कर बिसरामी । मारि न जाइ चहै जेहि स्वामी॥

 

यह पंडित ख्रडित बैरागू । दोष ताहि जेहि सूझ न आगू॥

 

जो तिरिया के काज न जाना । परै धाोख, पाछे पछिताना॥

 

नागमती नागिन बुधिा ताऊ । सुआ मयूर होइ नहिं काऊ॥

 

जो न कंत के आयसु माहीं । कौन भरोस नारि कै वाहीं॥

 

मकु यह खोज होइ निसि आए । तुरय रोग हरि माथे जाए॥

 

दुइ सो छपाए ना छपै, एक हत्या एक पाप।

 

अंतहि करहिं बिनास लेइ, सेइ साखी देइँ आप॥4॥

 

राखा सुआ, धााय मति साजा । भयउ खोज निसि आयउ राजा॥

 

रानी उतर मान सौं दीन्हा । पंडित सुआ मजारी लीन्हा॥

 

मैं पूछा सिंघल पदमिनी । उत्तार दीन्ह तुम्ह, को नागिनी?॥

 

वह जस दिन, तुम निसि ऍंधिायारी । कहाँ बसंत, करील क बारी॥

 

का तोर पुरुष रैनि कर राऊ । उलू न जान दिवस कर भाऊ॥

 

का वह पंखि कूट मुँह कूटे । अस बड़ बोल जीभ मुख छोटे॥

 

जहर चुवै जो जो कह बाता । अस हतियार लिए मुख राता॥

 

माथे नहिं बैसारिय, जौ सुठि सुआ सलोन।

 

कान टुटैं जेहि पहिरे, का लेइ करब सो सोन॥5॥

 

राजै सुनि वियोग तस माना । जैसे हिय विक्रम पछिताना1॥

 

वह हीरामन पंडित सूआ । जो बोले मुख अमृत चूआ॥

 

पंडित तुम्ह खंडित निरदोखा । पंडित हुतें परै नहिं धाोखा॥

 

पंडित केरि जीभ मुख सूधाी । पंडित बात न कहै बिरूधाी॥

 

पंडित सुमति देइ पथ लावा । जो कुपंथि तेहि पंडित न भावा॥

 

पंडित राता बदन सरेखा । जो हत्यार रुहिर सो देखा॥

 

की परान घट आनहु मती । की चलि होहु सुआ सँग सती॥

 

जिन जानहु के ऑंगुन, मँदिर सोइ सुखराज।

 

आयसु मेटें कंत कर, काकर भा न अकाज॥6॥

 

चाँद जैस धानि उजियरि अही । भा पिउ रोस, गहन अस गही॥

 

परम सोहाग निबारिन पारी । भा दोहाग सेवा जब हारी॥

 

एतनिक दोस विरचि पिउ रूठा । जो पिउ आपन कहै सो झूठा॥

 

ऐसे गरब न भूलै कोई । जेहि डर बहुत पियारी सोई॥

 

रानी आइ धााय के पासा । सुआ मुआ सेवँर कै आसा॥

 

परा प्रीतिकंचन महँ सीसा । बिहरि न मिलै, स्याम पै दीसा॥

 

कहाँ सोनार पास जेहि जाऊँ । देइ सोहाग करै एक ठाऊँ॥

 

मैं पिउ प्रीति भरोसे, गरब कीन्ह जिउ माँह।

 

तेहि रिस हौं परहेली, रूसेउ नागर नाँह॥7॥

 

उतर धााय तब दीन्ह रिसाई । रिस आपुहि, बुधिा औरहि खाई॥

 

मैं जोकहा रिसजिनि करु बाला । को न गयउ एहि रिस कर घाला?॥

 

तू रिसभरी न देखेसि आगू । रिस महँ काकर भयउ सोहागू॥

 

जेहि रिस तेहि रस जोगै न जाई । बिनु रस हरदि होइ पियराई॥

 

बिरसि विरोधा रिसहि पै होई । रिस मारै, तेहि मार न कोई॥

 

जेहि रिस कै मरिए, रस जीजै । सो रस तजि रिस कबहुँ न कीजै॥

 

कंत सोहाग कि पाइय साधाा । पावै सोइ जो ओहि चित बाँधाा॥

 

रहै जो पिय के आयसु, औ बरतै होइ हीन।

 

सोइ चाँद अस निरमल, जनम न होइ मलीन॥8॥

 

जुआ हारि समुझी मन रानी । सुआ दीन्ह राजा कहँ आनी॥

 

मानु पीय! हौ गरब न कीन्हा । कंत तुम्हार मरम मैं लीन्हा॥

 

सेवा करै जो बरहौ मासा । एतनिक औगुन करहु बिनासा॥

 

जौं तुम्ह देइ नाइ कै गीवा । छाँड़हुँ नहिं बिनु मारे जीवा॥

 

मिलतहु महँ जनु अहौ निनारे । तुम्ह सौं अहै ऍंदेस, पियारे॥

 

मैं जानेउँ तुम्ह मोही माहाँ । देखौं ताकि तौ हौ सब पाहाँ॥

 

का रानी, का चेरी कोई । जा कहँ मया करहु भल सोई॥

 

तुम्ह सौं कोइ न जीता, हारे बररुचि भोज।

 

पहिलैं आपु जो खोवै, करै तुम्हार सो खोज॥9॥

 

(1) ओपनिवारी=चमकाने वाली। बानि=वर्ण। कसि=कसौटी पर कसकर। लोनि=लोनी, लावण्यमयी, सुंदरी। आन=शपथ, कसम।

 

(2) सोंधौ=सुगंधा से।

 

(3) तमचूर=ताम्रचूड़, मुर्गा। ‘सबद न देइ…तमचूरू’ अर्थात् मुर्गा कहीं पर्ािंवती रूपी प्रभात की आवाज न दे कि हे राजा उठ! दिन की ओर देख। कवि ऊपर कह चुका है कि ‘दिनहिं न पूजै निसि ऍंधिायारी।’ धााय=दाई, धाात्राी। दामिनी=दासी का नाम। मयूर=मोर। मोर नाग का शत्राु है, नागमती के वाक्य से शुक के शत्राु होने की धवनि निकलती है। ‘कमल’ में पर्ािंवती की धवनि है।

 

(4) बिसरामी=मनोरंजन की वस्तु। खंडित बैरागू=वैराग्य में चूक गया इससे तोते का जन्म पाया। काऊ=कभी। मकु=शायद, कदाचित्। तुरय=तुरग, घोड़ा। ताऊ=तासु, उसकी। हरि=बंदर। तुरय रोग हरि माथे जाए=कहते हैं कि घुड़साल में बंदर रखने से घोड़े निरोग रहते तथा उनका रोग बंदर पर जाता है। सेइ=वे ही, हत्या और पाप ही।

 

(5) कूट=कालकूट, विष। कूटे=कूट-कूटकर भरे हुए। बैसारिय=बैठाइए।

 

1. कहानी है कि राजा विक्रम के यहाँ भी एक हीरामन तोता था। उसने एक दिन राजा को एक फल यह कहकर दिया कि जो इसे खाएगा वह कभी बूढ़ा न होगा। राजा ने वह फल बगीचे में बोने को दिया। जब फल लगा तब माली ने राजा को लाकर दिया। राजा ने रानी को दिया। रानी ने परीक्षा के लिए कुत्तो को थोड़ा दिया। कुत्ताा मर गया। बात यह थी कि बगीचे में उस फल में साँप ने अपना विष डाल दिया था। राजा ने क्रुध्द होकर तोते को मरवा डाला। कुछ दिन पीछे फिर एक फल लगा जिसे मालिन ने रूठकर मरने के लिए खाया। वह बुढ्ढी से जवान हो गई। राजा को यह सुनकर बड़ा पछतावा हुआ।

 

(6) तुम्ह खंडित=तुमने खंडित या नष्ट किया। सुरेख=सज्ञान, चतुर। मती=विचार करके।

 

(7) दोहाग=दुर्भाग्य। बिरचि=अनुरक्त होकर। देइ सोहाग=(क) सौभाग्य, (ख) सोहागा दे। परहेली=अवहेलना की, बेपरवाही की।

 

(8) आगू=आगम, परिणाम। जोगै न जाई=रक्षा नहीं किया जाता।

 

(9) बिरस=अनबन। साधाा=साथ या लालसा मात्रा से। हीन=दीन, नम्र।

(आवश्यक सूचना- विश्व के 169 देशों में स्थित “स्वयं बनें गोपाल” समूह के सभी आदरणीय पाठकों से हमारा अति विनम्रतापूर्वक निवेदन है कि आपके द्वारा पूछे गए योग, आध्यात्म से सम्बन्धित किसी भी लिखित प्रश्न (ईमेल) का उत्तर प्रदान करने के लिए, कृपया हमे कम से कम 6 घंटे से लेकर अधिकतम 72 घंटे (3 दिन) तक का समय प्रदान किया करें क्योंकि कई बार एक साथ इतने ज्यादा प्रश्न हमारे सामने उपस्थित हो जातें हैं कि सभी प्रश्नों का उत्तर तुरंत दे पाना संभव नहीं हो पाता है ! वास्तव में “स्वयं बनें गोपाल” समूह अपने से पूछे जाने वाले हर छोटे से छोटे प्रश्न को भी बेहद गंभीरता से लेता है इसलिए हर प्रश्न का सर्वोत्तम उत्तर प्रदान करने के लिए, हम सर्वोत्तम किस्म के विशेषज्ञों की सलाह लेतें हैं, इसलिए हमें आपको उत्तर देने में कभी कभी थोड़ा विलम्ब हो सकता है, जिसके लिए हमें हार्दिक खेद है ! कृपया नीचे दिए विकल्पों से जुड़कर अपने पूरे जीवन के साथ साथ पूरे समाज का भी करें निश्चित महान कायाकल्प)-

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह से जुड़कर अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में विश्वस्तरीय योग/आध्यात्म सेंटर खोलकर सुख, शान्ति व निरोगता का प्रचार प्रसार करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में योग, प्राणायाम, आध्यात्म, हठयोग (अष्टांग योग) राजयोग, भक्तियोग, कर्मयोग, कुण्डलिनी शक्ति व चक्र जागरण, योग मुद्रा, ध्यान, प्राण उर्जा चिकित्सा (रेकी या डिवाईन हीलिंग), आसन, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर, नेचुरोपैथी एवं महा फलदायी "स्वयं बनें गोपाल" प्रक्रिया (जो कि एक अतिदुर्लभ आध्यात्मिक साधना है) का शिविर, ट्रेनिंग सेशन्स, शैक्षणिक कोर्सेस, सेमीनार्स, वर्क शॉप्स, प्रोग्राम्स (कार्यक्रमों), कांफेरेंसेस आदि का आयोजन करवाकर समाज को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप विश्व प्रसिद्ध “स्वयं बनें गोपाल” समूह से योग, आध्यात्म से सम्बन्धित शैक्षणिक कोर्स करके अपने व दूसरों के जीवन को भी रोगमुक्त बनाना चाहतें हैं, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अब लुप्त हो चुके अति दुर्लभ विज्ञान के प्रारूप {जैसे- प्राचीन गुप्त हिन्दू विमानों के वैज्ञानिक सिद्धांत, ब्रह्मांड के निर्माण व संचालन के अब तक अनसुलझे जटिल रहस्यों का सत्य (जैसे- ब्लैक होल, वाइट होल, डार्क मैटर, बरमूडा ट्रायंगल, इंटर डायमेंशनल मूवमेंट, आदि जैसे हजारो रहस्य), दूसरे ब्रह्मांडों के कल्पना से भी परे आश्चर्यजनक तथ्य, परम रहस्यम एलियंस व यू.ऍफ़.ओ. की दुनिया सच्चाई (जिन्हें जानबूझकर पिछले कई सालों से विश्व की बड़ी विज्ञान संस्थाएं आम जनता से छुपाती आ रही हैं) तथा अन्य ऐसे सैकड़ों सत्य (जैसे- पिरामिड्स की सच्चाई, समय में यात्रा, आदि) के विभिन्न अति रोचक, एकदम अनछुए व बेहद रहस्यमय पहलुओं से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, इन दुर्लभ ज्ञानों से अनभिज्ञ समाज को परिचित करवाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, अति पवित्र व मोक्षदायिनी धार्मिक गाथाएं, प्राचीन हिन्दू धर्म के वेद पुराणों व अन्य ग्रन्थों में वर्णित जीवन की सभी समस्याओं (जैसे- कष्टसाध्य बीमारियों से मुक्त होकर चिर यौवन अवस्था प्राप्त करने का तरीका) के समाधान करने के लिए परम आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी व उपयोगी साधनाएं व ज्ञान आदि से सम्बन्धित नॉलेज ट्रान्सफर सेमीनार (सभा, सम्मेलन, वार्तालाप, शिविर आदि), कार्यक्रमों आदि का आयोजन करवाकर, पूरी तरह से निराश लोगों में फिर से नयी आशा की किरण जगाना चाहते हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) या अपने किसी भी सरकारी या प्राईवेट संस्थान/ऑफिस(कार्यालय) आदि में, एक आदर्श समाज की सेवा योग की असली परिचायक भावना अर्थात “वसुधैव कुटुम्बकम” की अलख ना बुझने देने वाले विभिन्न सौहार्द पूर्ण, देशभक्ति पूर्ण, समाज के चहुमुखी विकास व जागरूकता पूर्ण, पर्यावरण सरंक्षण, शिक्षाप्रद, महिला सशक्तिकरण, अनाथ गरीब व दिव्यांगो के भोजन वस्त्र शिक्षा रोजगार आदि जैसी मूलभूत सुविधाओं के प्रबंधन, मोटिवेशनल (उत्साहवर्धक व प्रेरणास्पद) एवं परोपकार पर आधारित कार्यक्रमों (चैरिटी इवेंट्स, चैरिटी शो व फाईलेन्थ्रोपी इवेंट्स) का आयोजन करवाकर ऐसे वास्तविक परम पुण्य प्रदाता महायज्ञ में अपनी आहुति देना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप “स्वयं बनें गोपाल” समूह द्वारा अपने गाँव/शहर/कॉलोनी(मोहल्ले) में भारतीय देशी गाय माता से सम्बन्धित कोई व्यवसायिक/रोजगार उपक्रम (जैसे- अमृत स्वरुप सर्वोत्तम औषधि माने जाने वाले, सिर्फ भारतीय देशी गाय माता के दूध व गोमूत्र का विक्रय केंद्र, गोबर गैस प्लांट, गोबर खाद आदि) {या मात्र सेवा केंद्र (जैसे- बूढी बीमार उपेक्षित गाय माता के भोजन, आवास व इलाज हेतु प्रबन्धन)} खोलने में सहायता लेकर साक्षात कृष्ण माता अर्थात गाय माता का अपरम्पार बेशकीमती आशीर्वाद के साथ साथ अच्छी आमदनी भी कमाना, चाहतें हैं तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

क्या आप एक संस्था, विशेषज्ञ या व्यक्ति विशेष के तौर पर “स्वयं बनें गोपाल” समूह से औपचारिक, अनौपचारिक या अन्य किसी भी तरह से जुड़कर या हमसे किसी भी तरह का उचित सहयोग, सहायता, सेवा लेकर या देकर, इस समाज की भलाई के लिए किसी भी तरह का ईमानदारी पूर्वक प्रयास करना चाहतें हों, तो कृपया इसी लिंक पर क्लिक करें

जानिये “स्वयं बनें गोपाल” समूह और इसके प्रमुख स्वयं सेवकों के बारे में

धन्यवाद,
(“स्वयं बनें गोपाल” समूह)

हमारा सम्पर्क पता (Our Contact Address)-
“स्वयं बनें गोपाल” समूह,
प्रथम तल, “स्वदेश चेतना” न्यूज़ पेपर कार्यालय भवन (Ground Floor, “Swadesh Chetna” News Paper Building),
समीप चौहान मार्केट, अर्जुनगंज (Near Chauhan Market, Arjunganj),
सुल्तानपुर रोड, लखनऊ (Sultanpur Road, Lucknow),
उत्तर प्रदेश, भारत (Uttar Pradesh, India).

हमारा सम्पर्क फोन नम्बर (Our Contact No)– 91 - 0522 - 4232042, 91 - 07607411304

हमारा ईमेल (Contact Mail)– info@svyambanegopal.com

हमारा फेसबुक (Our facebook Page)- https://www.facebook.com/Svyam-Bane-Gopal-580427808717105/

हमारा ट्विटर (Our twitter)- https://twitter.com/svyambanegopal

आपका नाम *

आपका ईमेल *

विषय

आपका संदेश



ये भी पढ़ें :-



[ajax_load_more preloaded="true" preloaded_amount="3" images_loaded="true"posts_per_page="3" pause="true" pause_override="true" max_pages="3"css_classes="infinite-scroll"]