बिना कोई दवा खाए 1 महिने में मसूढ़े की कई बिमारियों में जबरदस्त आराम

· September 27, 2015

smile-665433_640हमारा आयुर्वेद और योग अनन्त रहस्यों से भरा हुआ है, जिसकी थोड़ी सी जानकारी होने पर भी आदमी इस जगत में अपरम्पार पैसा कमा सकता है !


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से

आज हम बात कर रहें हैं आदमी के मसूढ़ों से सम्बंधित समस्त तकलीफों और बिमारियों की !

आज जिसे देखो वही, किसी ना किसी तरह की मसूढ़े की समस्या से ग्रसित है पर अधिकाँश लोग इन समस्याओं पर तभी ध्यान देतें हैं जब वो समस्या बड़ा रूप पकड़ लेती है !

आज हम आपको ऐसा जबरदस्त नुस्खा बता रहे हैं जिसको बनाने के लिए एक रूपए भी खर्च करने की जरूरत नहीं है और ना ही इस नुस्खे को आजमाने या करने के लिए एक मिनट अलग से समय निकालने की जरूरत है और साथ ही यह इतना ज्यादा फायदेमंद है कि आपके मसूढ़े की कई बड़ी तकलीफों में 1 महीने में ही जबरदस्त आराम पहुचाता है ! 

जिनके दांत मसूढ़े पहले से ठीक हों वो भी इस यौगिक क्रिया का अभ्यास रोज रोज करें तो उन्हें आजीवन कभी मसूढ़ों की प्रॉब्लम नहीं होगी।

इसमें करना सिर्फ इतना होता है कि आदमी जब जब भी शौच (लैट्रिन) के लिए जाये, तो वो पूरे शौच करने के दौरान अपने ऊपरी जबड़े वाले दाँतों को निचले जबड़े वाले दाँतों से सटाकर रखे और इस प्रक्रिया में जीभ ऊपर वाले तालू से नहीं सटना चाहिए |

दातों को ऊपर नीचे सटाने में ध्यान देने वाली बात यह है कि आदमी पहले आगे वालों दातों को ऊपर नीचे सटाने की कोशिश करे और आगे वाले ऊपर नीचे के दांत सटाने में अगर पीछे के ऊपर व नीचे के दांत सही से नहीं सट पा रहे हों तो कोई चिंता की बात नहीं है क्योंकि कुछ दिन बाद पीछे वाले ऊपर व नीचे के दांत भी अपने आप सटने लगेंगे |

शुरू शुरू में शायद ही ऐसा कोई आदमी होगा जिसके पूरे पूरे के ऊपर के दांत और नीचे के दांत एकदम सही सही फिट बैठ जाय, पर जब कोई प्रैक्टिस शुरू करता है तो धीरे धीरे उसके पूरे उपरी जबड़े के दात सही सही नीचले जबड़े पर बैठने लगते हैं |

और इस बात को भी याद रखियेगा कि जीभ ऊपर के तालू से नहीं छूनी चाहिए |

आदमी दिन भर में एक बार या दो बार, जितनी बार भी शौच (लैट्रिन) के लिए जाय उतनी बार इस यौगिक क्रिया का अभ्यास करे तो उसे बहुत जल्द लाभ मिलेगा |

अगर आप शौच के दौरान इस प्रक्रिया को करना अक्सर भूल जातें हों तो, शौच में पॉट के सामने वाली दीवार पर कोई ऐसा संकेत, चिन्ह (जैसे इंग्लिश का अक्षर- T, जो याद दिलाएगा कि आपको Teeth सटाना है, एक छोटे से कागज पर लिख के चिपका दें) बना दें जिससे उस चिन्ह को देखते ही आपको याद आ जाए कि आपको दांत सटाना है ! चिन्ह बनाने का एक फायदा यह भी है कि घर के अन्य सदस्य जो उस टॉयलेट को इस्तेमाल करते हों, वे भी उस चिन्ह को देखकर दांत दबाने वाली इस प्रक्रिया को निभाना नहीं भूलेंगे जिससे उनके भी मसूढ़े मुफ्त में स्वस्थ रहेंगे !

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-