जरा प्यार से हैंडल करना, बहुत जल्दी रोने लगता है

10516629_329813010515491_5874215776336709467_nजी हाँ इसका ये मनमोहक स्वभाव खुद कई, बड़े बड़े ऋषियों ने देखा और आश्चर्य चकित होकर इसके कई अदभुत नाम रखे !

श्री राधा कृष्ण के युगल सहस्त्र नामों में एक नाम है “कम्पी” जिसका अर्थ होता है माँ के हाथ में पीटने के लिए उठा हुआ डंडा देखकर थर थर कांपने वाला !

कोई भी छोटा मासूम बच्चा हो तो वो माँ के हाथ में छड़ी देखकर डरेगा ही, पर मौत जिसको देखकर खुद ही डर से थर थर कांपती हो, ऐसे महा प्रलय स्वरुप परम ब्रह्म जब छोटे बालक के रूप में, माँ की मामूली छड़ी से कांपने लगते हैं और अपनी बड़ी बड़ी आँखों से काजल घुला हुआ मोटी मोटी आंसू की बूँद गिराते हैं तो भगवान शिव भी सम्मोहित हो जाते हैं !

वहीँ दूसरा इसका नाम है “पलायित:” जिसका मतलब है की ये दिन भर इतनी ज्यादा शरारत करता है की माँ की मार से बचने के किये रोज शाम को घर से भाग कर बाहर कहीं छुप जाता था फिर नन्द बाबा आते थे और समझा बुझा कर वापस घर ले जाते थे की चलो माँ नहीं डाटेगी !

वास्तव में इसकी हर लीला इतनी ज्यादा लुभावनी है की केवल उनका दर्शन करना ही कई तपस्वियों की जिंदगी भर की मेहनत का उद्देश्य होता है !

परम सत्ता के इन नामों में उतनी ही ताकत है जितनी राधा, गोपाल, कृष्ण आदि नामों में ! इन अति प्यारे नामों के भी चरित्र का कीर्तन करने से भोग और मोक्ष प्राप्त होता है !

(आवश्यक सूचना – “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान की इस वेबसाइट में प्रकाशित सभी जानकारियों का उद्देश्य, सत्य व लुप्त होते हुए ज्ञान के विभिन्न पहलुओं का जनकल्याण हेतु अधिक से अधिक आम जनमानस में प्रचार व प्रसार करना मात्र है ! अतः “स्वयं बनें गोपाल” संस्थान अपने सभी पाठकों से निवेदन करता है कि इस वेबसाइट में प्रकाशित किसी भी यौगिक, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर तथा अन्य किसी भी प्रकार के उपायों व जानकारियों को किसी भी प्रकार से प्रयोग में लाने से पहले किसी योग्य चिकित्सक, योगाचार्य, एक्यूप्रेशर एक्सपर्ट तथा अन्य सम्बन्धित विषयों के एक्सपर्ट्स से परामर्श अवश्य ले लें क्योंकि हर मानव की शारीरिक सरंचना व परिस्थितियां अलग - अलग हो सकतीं हैं)



You may also like...