भारत के दूरदर्शी थिंक टैंक की लाठी बिना आवाज की

· October 3, 2016

hhjgjgआज से दो साल पहले तक जो अमेरिकी शासन के लोग, भारतियों को अपने से काफी तुच्छ समझ कर, अपने चमचे पाकिस्तान की हर गलती पर भी, भारत को भी सुधरने की नसीहत देते थे, आज उसी अमेरिका में ना जाने क्या हुआ है कि अमेरिकी शासन के लोग समेत आम जनता भी, भारत की ही जबान का जमकर समर्थन करते हुए, पाकिस्तान को एक देश नहीं, बल्कि आतंकवाद पैदा करने की फैक्ट्री साबित करने पर तुले हुए हैं !


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से

और इतना ही नहीं, अमेरिका द्वारा जो पहले जान जान कर अनजान बनने का नाटक करते हुए पाकिस्तान को खूब आर्थिक मदद दी जाती थी, अब उस पर भी गम्भीर प्रश्न उठने लगे हैं !

केवल चीन को छोड़ दिया जाय तो विश्व के बहुत से देश, जिसमे कई कट्टर मुस्लिम देश भी शामिल हैं, उनके रुख अचानक से भारत के पक्ष में क्यों मुड़ रहें हैं जबकि आज से 2 साल पहले तक तो जिसको देखो वही भारत को घुड़की देने से बाज नहीं आता था यहाँ तक कि म्यांमार, श्री लंका जैसे आर्थिक रूप से टूटे हुए देश भी भारत को आँख दिखाने का मौका नहीं छोड़ते थे !

आज पूरे विश्व के स्वभाव में हमारे प्रति आ रही नरमी का एक मात्र कारण है कि, ‘झुकती है दुनिया झुकाने वाला चाहिए’ !

मोदी जी से पहले की सरकार ये काम क्यों नहीं कर पायी, अब ये सबको पता चल चुका है, लेकिन मोदी जी ये काम क्यों कर पा रहें है इसका एक मात्र कारण है कि, मोदी जी धीरे धीरे विश्व के हर देशों को अच्छे से यह समझाने में कामयाब होते जा रहें है कि जितनी जरूरत हमें तुम्हारी है, उससे कम जरूरत तुम्हे हमारी नही है इसलिए अगर तुम्हारी जरूरत, तुम्हारे फायदे में हम तुम्हारा साथ दे रहें हैं तो तुम कैसे हमारी जरूरत, हमारे फायदे में साथ देने से पीछे हट सकते हो !

इस स्तर का जिगर या तो पूर्व प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी में देखने को मिला या तो मोदी जी में, बाकि प्रधानमंत्री क्या कर रहे थे ये आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं !

उड़ी हमले के बाद मोदी जी ने केरल में भाषण दिया कि आओ लड़ना है तो गरीबी से लड़ें, अशिक्षा से लड़ें आदि आदि, जिसे सुनकर कई उत्साही युवा देशभक्तों को निराशा हुई और कुछ के मन में यह विचार भी आया कि क्या मोदीजी भी बाकि लोगों की तरह डरपोक ही हैं जो पाकिस्तान से युद्ध करने में डर रहें है !

इसका उत्तर यही है कि, वास्तव में युद्ध होता क्या है, इसका अंदाजा ड्राइंग रूम में रखे टेलीविज़न से नहीं लग सकता ! युद्ध तो वो दोधारी तलवार है जो दोनों ओर के लोगों को मारती है ! महाभारत में अगर कौरवों का समूल नाश हुआ तो पांडवों की तरफ से भी कई लोग मारे गए जबकि उनके साथ तो स्वयं सत्य स्वरुप श्री कृष्ण खड़े थे !

9089एक युद्ध के कितने तुरंत के और कितने दूरगामी दुष्परिणाम (जैसे – आर्थिकमन्दी, महंगाई, बेरोजगारी, निर्दोषों का रक्तपात आदि) होतें है यह युद्ध भोगी देश की जनता ही समझ सकती है !

महाभारत में पांडवों ने भी युद्ध टालने के लिए हर संभव प्रयास किये थे और अपनी पूरी संपत्ति छोड़कर सिर्फ 5 गावों तक पर समझौता करने को तैयार हो गये थे लेकिन जब इससे भी काम नहीं बना तो ही उन्होंने युद्ध किया था ठीक इसी तरह भारत को जब तक सारे कूटनैतिक प्रयास फेल ना हो जाय तब तक युद्ध शुरू नहीं करना चाहिए !

चीन अपनी महत्वाकांक्षा से भरे कई प्रोजेक्ट, पाकिस्तान और पाकिस्तान अकुपाईड कश्मीर में कई साल से कर रहा है जिसके लिए उसने पाकिस्तान के कई हुक्मरानों को धन, बल के दम पर अपने वश में कर रखा है लेकिन अगर भारत, पाकिस्तान में प्रवेश कर गया तो चीन को कई हजार करोड़ का घाटा हो सकता है इसलिए भी यह चीन की मजबूरी हो चुकी है कि वो भारत का विरोध कर, पाकिस्तान का ही साथ दे !

इसके अलावा तेल और हथियार मार्केट में हुई बड़ी उठापटक के चलते भी कई देशों में रोज नयी दोस्ती, दुश्मनी के समीकरण बन रहें हैं और कुछ देश तो इतनी घटिया सोच पर भी उतर आयें है कि वे विश्व के एक बड़े हिस्से को जानबूझकर युद्ध की आग में झोक देना चाहते हैं !

तो ऐसे कठिन समय में तुरंत ताव में आकर युद्ध शुरू कर देना बुद्धिमानी नहीं होगी जबकि कई सियार देश इसी ताक में बैठे हैं कि कब आपका युद्ध शुरू हो और कब उन्हें उस युद्ध के माहौल में तेल, हथियार आदि बेचकर अपार पैसा कमाने का मौका मिल सके !

एक बुद्धिमान और दूरदर्शी लीडर वही होता है जो अपने को पीड़ा पहुचाने वाली बातों का उत्तर जगजाहिर करके नहीं देता जिससे विरोधियों के मन में हमेशा डर बना रहता है कि ना जाने यह ऊंट किस – किस करवट बैठेगा इसलिए ऐसे लीडर्स की लाठी कब बिना आवाज किये हुए, अत्याचारियों को आकर लग जाती है यह उन्हें चोट का दर्द महसूस होने पर ही पता लग पाता है !

भारत का अनुभवी थिंक टैंक जिसमे मोदी जी, डोभाल जी, सुब्रमणियमस्वामी जी आदि शामिल हैं, उन्हें पता है कि अन्दर से एकदम कंगाल हो चुका पाकिस्तान आज कि डेट में कभी भी आमने सामने की लड़ाई नहीं लड़ेगा जब तक कि कोई दूसरा देश खुल्लम खुल्ला उसके समर्थन में आकर खड़ा ना हो जाय !

पूरी उम्मीद है कि पाकिस्तान फिर से जब भी हमला करेगा वो हमला भी उड़ी, कारगिल, मुम्बई ताज होटल या बनारस संकट मोचन मंदिर की ही तरह, आत्मघाती आतंकवादियों के द्वारा होगा जिससे कम से कम खर्चे में वो भारत की जनता में अधिक से अधिक खौफ पैदा कर सके !

हालाँकि मोदी जी के ईमानदार दबाव की वजह से भारत का ख़ुफ़िया तंत्र दिन रात कोशिश कर रहा है कि ऐसे हमलें भारत में दुबारा बिल्कुल ना होने पाए, लेकिन इतने बड़े देश में कब, कहाँ, कौन से आदमी का ईमान डोल जाय और वो आतंकवादियों का साथ दे दे, अंदाजा लगा पाना आसान नहीं है !

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-