सिर्फ तीन काम, मरते दम तक फिट रहने के लिए

bodybuilder-331670_640अगर जिन्दगी में कोई अनहोनी ना हो तो, ये तीन काम करने से निश्चित ही आदमी मरते दम तक फिट रहता है !

ये तीन काम है रोज सुबह आधा घंटा व्यायाम फिर आधा घंटा कपाल भांति प्राणायाम और दिन भर सकारात्मक सोच !

(1) – व्यायाम में सबसे बढिया हैं की आप तेज चाल से पैदल टहलें या दौड़े और इसके अलावा थोड़ा बहुत दंड बैठक और उठक बैठक भी कर सकते हैं | कुल मिलाकर व्यायाम का असली फायदा तभी मिलता है जब पूरा शरीर पसीना से नहा जाय ! भारतीय देशी कसरतें जैसे दंड बैठक और उठक बैठक आदि कई दिनों तक बहुत ज्यादा मात्रा में कर के छोड़ भी दिया जाय तो कम ही लोगों में कुछ समस्याएं देखी गयीं हैं जबकि इंग्लिश एक्सरसाइज जैसे बेंच प्रेस आदि करने से शरीर पर कई लॉन्ग टर्म और शार्ट टर्म साइड इफेक्ट्स देखे गएँ हैं ! इंग्लिश एक्सरसाइज, देशी एक्सरसाइज की तुलना में जल्दी शरीर में प्रभाव दिखाती है इसलिए आजकल के जल्दबाज युवा जिम जा कर पैसा भी खर्च कर एक्सरसाइज करना ज्यादा पसंद करते हैं पर इंग्लिश एक्सरसाइज का प्रभाव एक्सरसाइज छोड़ने पर जल्दी ख़त्म भी हो जाता है ! देशी एक्सरसाइज का प्रभाव टिकाऊ होता है एक्सरसाइज छोड़ने के बाद भी ! यदि व्यायाम (Yoga Practice) करने से पहले पूरे शरीर की शुद्ध सरसों के तेल से मालिश कर लिया जाय तो सोने पर सुहागा होता है ! रोज मालिश करने से त्वचा में ओज चमक पैदा होती है और मालिश के दौरान कई एक्यूप्रेशर पॉइंट्स अपने आप दबते हैं जिससे कई रोग होने नहीं पाते हैं !

(2) – कपाल भांति प्राणायाम (Kapabhaiti Pranayama) करने की विधि और सावधानियां जाननी हों तो आप इसी वेबसाइट के प्राणायाम सेक्शन में देखें ! कपालभांति प्राणायाम के बारे में सारांश के तौर पर केवल ये जान लीजिये की रोज रोज नियम से कपाल भांति प्राणायाम करने से आदमी के नाभि में स्थित मणिपूरक चक्र जागने लगता है और ये मणिपूरक चक्र इतने रहस्मय रसों का भण्डार है की इन रसों के स्राव से शरीर की कौन सी बीमारी ऐसी हैं जिसका नाश नहीं हो सकता है अर्थात निश्चित ही सारी बिमारियों का नाश होता है ! लेकिन थका डालने वाले और खूब पसीना निकालने वाले कड़े व्यायाम के बिना किये, प्राणायाम (Pranayam) का पूरा लाभ नहीं मिलता है ! इसलिए प्राणायाम के साथ व्यायाम भी बहुत जरूरी है !

(3) – पॉजिटिव थिंकिंग (Positive Thinking) या सकरात्मक सोच तो ये है की आप हर चीज में, हर घटना में आपका मन करे या ना करे तब भी जबरदस्ती ख़ुशी महसूस करिए ! तनाव लेने से कोई समस्या छोटी तो होती है नहीं अलबत्ता शरीर का नाश जरूर होता है ! तनाव लेने से शरीर में जो धीमा जहर पैदा होता है उससे हजार किस्म की बीमारियाँ जन्म लेती हैं और साथ ही एक बात ये भी तय है की अगर आप पूरे दिन किसी न किसी बात को लेकर तनाव में रहतें हैं और ऊपर से हँसते भी नहीं मतलब मनहूस से बने रहते हैं तो ये पक्का जान लीजिये की आपको कभी भी डायबिटिज की बीमारी हो सकती है और अगर पहले से डायबिटिज की बीमारी है तो शूगर का नार्मल लेवल पर मेंटेन रहना मुश्किल है ! इसलिए तनाव जैसी फिजूल चीज को तुरन्त लात मार कर अपनी बेश कीमती जिंदगी से बाहर फेकियें ! पॉजिटिव थिंकिंग ना हो तो प्राणायाम और व्यायाम भी कोई खास कमाल नहीं दिखा पाते हैं ! हालाँकि रोज व्यायाम और प्राणायाम करने से तनाव जरूर कम होता है और सकारात्मक सोच डेवलप करने में बहुत मदद मिलती है ! लेकिन तनाव से पूरी तरह से मुक्ति के लिए आपको अपनी सोच तो बदलनी ही पड़ेगी ! सोच या स्वभाव बदलना आसान काम नहीं होता है ! सोच बदलने में भगवान के किसी नाम (जैसे सीता राम या राधे श्याम आदि) के जप का बहुत अच्छा रिजल्ट देखने को मिलता है ! इसलिए अगर आप अपने स्वाभाव और सोच को बदलने के लिए वाकई गम्भीर हैं तो भगवान के नाम का जप खाली समय में कर के देखें निश्चित चमत्कारी परिणाम मिलेंगे !

इन तीन चीजों को हमेशा याद रखने और पालन करने से व्यक्ति हमेशा छोटे बच्चे की तरह उत्साह, ख़ुशी, फुर्ती और ताजगी महसूस करता है !

परहेज –

– हर मांस खाने वाला आदमी अपने शरीर से अन्दर ही अन्दर, हर समय परेशान रहेगा ही रहेगा क्योंकि उन निर्दोष जीवों का दर्द भरा श्राप और हाय उसे अन्दर से हमेशा बेचैन किये रहेगा !

– अगर आपने कोई लिक्विड (तरल) पिया हो तो कम से कम डेढ़ घंटे बाद और अगर कुछ सॉलिड (ठोस) खाया हो तो 5 घंटे बाद ही प्राणायाम और व्यायाम करना चाहिए नहीं तो नुकसान करेगा !

[ यौन समस्याएं (sex information about sex problems, gupt rog gyan), गुप्त रोग (gupt rog of hidden part), , धातु रोग, रति रोग (private part Venereal Diseases Symptoms) मैथुन रोग, सम्भोग रोग, वीर्य रोग (varieties of sexual diseases like semen, seminal fluid, sperm, nerve, seed, slime, veery, virya, veerya, spermatozoon, spunk, cum related problems), नपुंसकता (impotency, impotence, castrate, eunuch, sexless ,adjective, impotent, neuter) एवं जननांगो से सम्बंधित रोग कई प्रकार के होतें हैं –

जैसे – शीघ्रपतन (early ejaculation or Premature ejaculation ), वीर्य अल्पता या शुक्राणु अल्पता या वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं की कमी या वीर्य की कमी या निल शुक्राणु (sexual debility), वीर्य का पतलापन, शुक्रमेह, धातु गिरना (shukrmeh, dhatu rog), स्वप्न दोष (Night emission, night fall), धातुक्षीनता (Spermatorrhea), लिंग में कड़ापन ना होना या लिंग में उत्थान ना होना (erectile dysfunction, erection, retention, ejaculation), यौन संचारित रोग (sexually transmitted disease, STD), उपदंश (सिफलिस, powerful metastastic or latent Syphilis), सुजाक (गोनोरिया, Gonorrhoea), लिंफोग्रेन्युलोमा बेनेरियम (Lyphogranuloma Vanarium), रतिज व्राणाभ (Chancroid), एड्स या एच आई पॉजिटिव (AIDS or HIV positive), जोश उत्साह की कमी या काम इच्छा की कमी या कामुकता की कमी (lack of sexual desire, sex force, sex feeling), वीर्यवाहक नली सम्बंधित समस्या (Spermatic cord problems), लिंग दोष (defect of penis), शिश्न चर्म रोग (skin disease of penis), वीर्य के दोष (sperm disorder), पौरुषग्रंथि का बढ़ना व सूजन (Enlargment of prostate gland), लिंगोद्रेक (Chordee), लिंग में वृद्धि (Enlargement of the penis), अष्ठीला (Hypertrophy), अण्डकोष का बढ़ना (Hydrocele), अण्डकोष की जलन (Inflammation of the testicles), अण्डकोष की सूजन (Swelling of the testicles), अण्डकोष की खुजली (Itching of the testicles), अण्डकोष के रोग (Testicles problems), बांझपन (Sterility, egg, testicle, acarpous, barren, neuter, Female Infertility), शुक्राणुओं द्वारा स्त्री के डिम्बाणु के निषेचन में समस्या जिससे गर्भ धारण में समस्या, योनि का ढीलापन, श्वेत प्रदर (ल्युकोरिया, likoria, leucorrhoea symptoms treatment), रक्‍त प्रदर आदि महिलाओं के रोग, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओ), ऐंडोमेटरिओसिज़, गर्भाशय फाइब्रॉएड, अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूबज़, कैंडिडा, क्लैमिडिया (chlamydia symptoms and treatments), श्रोणि जलन बीमारी (पीआईडी, Salpingitis, श्रोणि सूजन बीमारी, VTO, यह महिला जननांग अंगों के एक गंभीर संक्रमण है, गर्भाशय में शामिल हैं जो, अंडाशय और फैलोपियन ट्यूब), योनि त्वचा रोग (genital herpes योनि त्वचा रोग काम क्रिया से फैलने वाली बीमारी, यौन संचारित बीमारी एसटीडी है जो कि हर्पिस सिम्प्लेक्स नामक वायरस प्रकार – 1, एच एस वी-1, और टाइप – 2 ,एच एस वी-2 से पैदा होता है) !

उपर्युक्त इलाज दुष्ट वीर्य रोगों में बेहद चमत्कारी रूप से फायदेमंद है जिसे विभिन्न शीर्षकों से खोजा जाता है, जैसे – सेक्स शक्ति को बढ़ाने वाले घरेलू उपाय, यौन-रोग सूज़ाक की बेअसर होती दवाईयां, गुप्त रोगों के लिये नेट पर बिकने वाली दवाईयां, पुरुष के प्रमुख यौन रोग , कारण , लक्षण एवं निवारण, नारी काम-विमुखता, बुझते यौवन में भरें जवानी का जोश, शुक्राणु अल्पता निवारक सरल उपचार, शुक्राणु अल्पता निवारक सरल उपचार, सेक्स विषयक रोचक तथ्य, गर्भ धारण कैसे करें (how to get pregnant), गर्भ धारण कैसे करें, how to get pregnant, नपुसंकता दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय, शीघ्रपतन दूर करने के उपाय, योनि से संबधित कुछ रोग एवं उनका निदान, पुरूषों की सेक्‍स संबंधी समस्‍याएं और उनका उपचार, गर्भधारण करके के लिए तथा बांझपन दूर करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार, गर्भधारण करके के लिए तथा बांझपन दूर करने के लिए जड़ीबूटीयां, प्रेग्‍नेंसी (pregnancy problems) के दौरान होने वाली समस्‍याएं, डिलीवरी (pregnant woman delivery problems) के समय और बाद की समस्‍याएं डिलीवरी आसानी से होने के आयुर्वेदिक टिप्स, मासिक धर्म सम्बंधित परेशानियां, लिंग का छोटापन, लिंग का टेढ़ापन, कैसे बढ़ाए यौन-शक्ति (make love), कैसे बढ़ाए यौन-शक्ति आयुर्वेदिक उपायों से (herbal treatment of increasing seminal power, vitality power), त्वचा को तेल व रुखापन से मुक्त बनाने के हर्बल उपाय ट्रीटमेंट, पुरुषों की हर तरह कमजोरी को जड़ से मिटाने के कुछ आसान आयुर्वेदिक औषधि (herbal treatment or herbal upachar), पतंजलि धातु की दवा, पतंजलि धातु की औषधि, बाबा रामदेव की नपुंसकता की दवा दिव्य यौवनामृत वटी patanjali divya yauvanamrit vati के फायदे, पतंजलि दिव्य यौवनाचूर्ण (Patanjali Youvan Churna Detail and Uses in impotence) ke labh, पतंजलि शिलाजीत कैप्सूल (patanjali shilajit capsule benefits in hindi), पुरुषों की हर तरह कमजोरी को जड़ से मिटाने के कुछ आयुर्वेदिक टिप्स (shighr patan ke ayurvedic tips) , लड़कों की आम समस्या हस्त-मैथुन के दुष्परिणाम व आयुर्वेदिक इलाज (ayurvedik ilaj hast maithun, swapn dosh, napunskta, veery rog), युवकों की आम यौन समस्यायें, धातु दुर्बलता (dhatu durbalta door karne ke upay ) दूर करने के उपाय, धातु दुर्बलता दूर करने के उपाय, नपुसंकता दूर कर मर्दांगनी वापस पाने के उपाय, हर्बल कैप्सूल शिलाजीत (herbal capsule shilajit can give mardana takat, paye shilajit se mardangi vapas) और मर्दाना ताकत पाये, सभी तरह के मासिक रोग (masik rog aur peshab ke rogo ka ayurvedik upachar), सभी तरह के पेशाब रोग, टी कोशिकाओं सेल्स, प्रशिक्षक यौन रोग विशेषज्ञ, गुप्त रोग एवं यौन रोग के संबंध में विस्तृत जानकारी, शेंक्रोआइड, यौन रोगों का इलाज से संबंधित खोज, नपुसंकता का इलाज, धातु रोग का देसी इलाज, आयुर्वेद के उपचार, गुप्त रोगों की जानकारी, गुप्त अंग पर तिल, ह्यूमन पेपिलोमावायरस इन्फेक्शन, gupt rog medicine hindi, गुप्त रोगी, नपुसंकता का इलाज से संबंधित खोज, नपुसंकता की दवा, आक का तेल, मर्दाना कमजोरी का इलाज, नपुसंकता क्या है, नपुसंकता के कारण, लिंग वर्धक यंत्र, नपुसंकता के लक्षण, नामर्दी की दवा, स्तंभन दोष, मर्दाना कमजोरी का इलाज से संबंधित खोज, मर्दाना ताकत बढ़ाने के उपाय, मर्दाना कमजोरी क्या है, मर्दाना ताकत की दवा, शारीरिक कमजोरी दूर करने के उपाय, मर्दानगी की दवा, मर्दाना कमजोरी की दवा, ताकत का खजाना, ताकत की गोली, मर्दाना ताकत को बढाने का रामबाण ईलाज, लिंग को बड़ा लम्बा और मोटा करने के उपाय, मर्दाना कमजोरी का राज, मर्दाना कमजोरी का इलाज के लिए और चित्र, मर्दाना कमजोरी का इलाज के लिए अंग्रेज़ी वेब से चित्र, मर्दाना कमज़ोरी का इलाज इन हिंदी घरेलु नुस्खे, आयुर्वेद यौन शक्ति बढ़ाने के कुछ सरल घरेलू उपाय, धात रोग और लिंग की कमजोरी का अचूक देसी इलाज Dhatu rog, मर्दाना ताकत बढ़ाने वाली दवाएं, Mardana Kamzori ka Ilaj: पाइए मरदाना कमजोरी का इलाज, मर्दाना ताकत बिल्कुल समाप्त हो गयी है तो अपनाएँ ये आयुर्वेदिक दवाएं, यौनांग छोटा होने पर ये है आयुर्वेदिक उपाय, पौरूष शक्ति के उपाय, नपुसंकता का शर्तिया इलाज, शिलाजीत खाये और मर्दाना ताकत पाये, हरपिस प्रोजेनाइटेलिस एवं नन-गोनोकोकल यूरेथ्राइटिस प्रचलित यौन रोग है, पुरूषों के लिंग से मवाद अथवा तरल पदार्थ का स्राव होना, गुप्तांगों (ling, yoni, guptang ke rogo ke liye jadi butiya) पर घाव, फोड़ा-फुंसी होना, लिंग का ना तनना, गुप्तांगों के समीप गिल्टि होना, शरीर पर चकते का होना एवं पेशाब में जलन होना गुप्त रोग अथवा यौन रोग के लक्षण हैं। वहीं महिलाओं में योनि से स्राव होना, गुप्तांगों के आसपास खुजली या जलन होना, स्त्रियों में प्रजनन क्षमता विभिन्न स्वास्थ्य समस्यायें पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओ), ऐंडोमेटरिओसिज़, गर्भाशय फाइब्रॉएड, अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूबज़, कैंडिडा, पेट के निचले भाग में दर्द होना आदि यौन रोग के लक्षण हैं, इन-विट्रो-फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) या सरोगेट-मां के माध्यम से कई महिलाएं बच्चा प्राप्त करना, Vriddhavasthaa or Sex, वृद्धावस्था और सेक्स, Old Age and Sex, बुढापे में सम्भोग (sambhog) के घातक परिणाम, Sex Sahvaas ki Shi Umar, Vriddh or Javan ki Shaadi ka Prinaam, Praudhavastha mein Sharirik Sambandhon ke Natije, सेक्स रोग, गुप्तांग की दोषपूर्ण बनावट होना, लिंग का गलना (Decaying of penis), शरीर में जिंक तत्व की कमी, प्रोस्टेट ग्रंथि के विकार, यौन रोग (yaun rog, yon rog, yaun samsya), Best Sexologist suggests Home Remedies for Female Infertility, health care tips, Healthy Life, Fallopian Tubes Function Pictures Definition, The uterine tube (fallopian tube) carries an egg from the ovary to the uterus. Human Papillomavirus (HPV), Bacterial Vaginosis, Trichomoniasis, What are some types of sexually transmitted diseases or sexually transmitted infections (STDs/STIs), नपुंसकता की आयुर्वेदिक औषधि – मदन प्रकाश चूर्ण (madan prakash churn), नरसिंह चूर्ण (narsingh churna benefits), सुखदर्शन वटी (sukhdarshan vati), सुदर्शन वटी (sudarshan vatika), वीर्य स्तम्भन वटी (virya stambhan vati), कौंच पाक (kaunch pak patanjali, kaunch ke beej), चवनप्राश अवलेह (chyawanprash benefits in hindi), पुष्पधन्वा योग (yog pushpdhanva ras in hindi), सफ़ेद मुसली (safed musali white) ]

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-