जवानी खो चुके व्यक्ति के अन्दर भी फिर से फौलादी जोश भरने लगे श्यामा गाय माता का घी

lkoहमारे परम आदरणीय हिन्दू धर्म का अति उपयोगी आयुर्वेद ग्रन्थ कहता है कि कहीं से आपको शुद्ध श्यामा गाय माता या कपिला गाय माता मिल जायें तो उन्हें जरूर पालिए क्योंकि इनका घी खाने से बूढा भी जवानों की तरह उत्साहित और सबल हो जाता है !

वैसे तो गाय माता के घी के फायदे अनगिनत है पर आइये जानते हैं उसमे से कुछ रोज के लिए आवश्यक फायदे –

– शुद्ध देशी गाय माता का घी खाने से जठराग्नि बहुत प्रबल हो जाती है इसलिए जितना भी खाना खाया जाय सब पच जाता है !

– गाय माता का घी अति पुरुषत्व (वीर्य) वर्धक है और नपुंसकता के इलाज में सौम्य तरीके से बहुत ही फायदेमंद है ! यह वीर्य को गाढ़ा करता है और यौनांग की शिथिलता को दूर करता है ! वैसे तो हर भारतीय देशी गाय माता का घी बहुत फायदा करता है पर वीर्य, रज को गाढ़ा करने के लिए श्यामा (काली) गाय माता का घी विशेष फायदा करता है ! इसे बादाम, मेवा, सफ़ेद मुसली या किसी भी अन्य मनपसंद चीज के साथ खाया जा सकता है !

– गाय माता का घी नाक में डालने से बाल झड़ना समाप्त होकर नए बाल भी आने लगते हैं।

– गाय माता के घी को नाक में डालने से मानसिक शांति मिलती है, याददाश्त तेज होती है।

images (2)– देशी गाय माता के घी में कैंसर से लड़ने की अचूक क्षमता होती है। इसके सेवन से स्तन तथा आंत के खतरनाक कैंसर से बचा जा सकता है।

– दो बूंद गाय माता का घी नाक में सुबह – शाम डालने से माइग्रेन दर्द ठीक होता है।

– दो बूंद गाय माता का घी आंखों में डालने से आंखों की ज्योति बढ़ती है।

– घी से हवन करने पर लगभग 1 टन ताजे ऑक्सीजन का उत्पादन होता है। यही कारण है कि मंदिरों में गाय माता के घी का दीपक जलाने तथा धार्मिक समारोहों में यज्ञ करने की प्रथा प्रचलित है।

(नोट – यहाँ पर दिए गए सारे फायदे सिर्फ और सिर्फ भारतीय नस्ल की शुद्ध देशी गाय माता के हैं, ना की जर्सी गाय या भैंस के ….और दूध को कभी भी नमकीन, खट्टे या तीखे खाद्य पदार्थों के साथ नहीं पीना चाहिए)

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-