पूरी दुनिया का सबसे ज्यादा पैदा किया जाना वाला फल क्यों बना सन्तरा

संतरे का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसका रस शरीर के अंदर पहुंचते ही रोग नाश से सम्बंधित कार्य फ़ौरन शुरू कर देता है। इसमें पाए जाने वाले ग्लूकोज एवं डेक्सट्रोज जैसे जीवनशक्ति प्रदान करने वाले तत्व पचकर शक्तिवर्धन का कार्य करने लगते हैं।

संतरे का जूस थोड़ा ठंडा होता है इसलिए कुछ शीत सम्बंधित और अन्य विशेष बिमारियों को छोड़कर लगभग हर बिमारियों में ऑरेंज जूस की सलाह दी जाती है क्योंकि इसकी एक नहीं, सैकड़ों वजहें हैं !

विटामिन सी से भरपूर संतरा न केवल ढेरों फायदों से भरा है बल्कि इसके छिलकों का भी कई तरह से इस्तेमाल कर सकते | संतरा पोषकीय तत्वों और रोग निवारक क्षमताओं से युक्त एक अत्यंत उपयोगी फल है | एक सामान्य आकार के संतरे में पाए जाने वाले तत्वों का विवरण इस प्रकार है, प्रोटीन-0.25 ग्राम, कार्बोज 2.69 ग्राम, वसा 0.03 ग्राम, कैल्शियम 0.045 प्रतिशत, फास्फोरस 0.021 प्रतिशत, लोहा 5.2 प्रतिशत, तांबा 0.8 प्रतिशत।

आईये जानते हैं संतरे के कुछ विशेष फायदों के बारे में –

– इसका रस अत्यंत दुर्बल व्यक्ति को भी दिया जा सकता है।

– हाई ब्लडप्रेशर बीमारी से परेशान व्यक्ति के लिए संतरा बहुत लाभकारी है| संतरे में पोटेशियम और मैग्नीशियम अधिक होता है जिससे ब्लडप्रेशर कंट्रोल होता है|

– संतरे में पोटेशियम, फाइबर, विटामिन सी होता है| ये सब हमारे दिल को सुचारू रूप से चलाने के लिए जरुरी होते है| अगर शरीर में पोटेशियम की कमी हो जाती है तो दिल की धड़कन सही ढंग से नहीं चलती| इसलिए हमें संतरा खा कर अपने दिल का ख्याल रखना चाहिए| संतरे के जूस में शहद मिलाकर पियें| इससे बहुत अच्छे परिणाम मिलेंगे|

– वजन कम करने वालों के लिए संतरा बहुत अच्छा है| इसमें मौजूद फाइबर आपकी भूख को कंट्रोल में रखता है| कैलोरी बहुत ही कम होने की वजह से आप जितना चाहें इसे खा सकते है|

– डायबटीज की बीमारी में ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में संतरा सहायक है|

– मितली और उल्टी में संतरे के रस में थोड़ी सी काली मिर्च और काला नमक मिलाकर लिया जाना लाभकारी रहता है।

– रक्तस्राव, मानसिक तनाव, दिल और दिमाग की गर्मी में इसकी विशेष उपयोगिता है।

– कब्जियत होने पर संतरे के रस का शर्बत और शिकंजी के साथ काला नमक, काली मिर्च और भुना जीरा मिलाकर लेना लाभकारी रहता है।

– संतरे में लहसुन, धनिया, अदरख मिलाकर चटनी खाने से पेट के रोगों में लाभ मिलता है।

– शोध के अनुसार अगर बचपन में 1-2 साल तक लगातार संतरा या केला (बिना कार्बाइड और कीटनाशक से पका हुआ) खाया जाये तो कैंसर होने के चांस बहुत हद तक कम हो जाते है| संतरा खाने से बहुत से कैंसर जैसे स्किन, फेफड़े, स्तन, पेट से लड़ने की शक्ति मिलती है और इनके होने के चांस भी कम हो जाते है|

– संतरे में विटामिन सी होने की वजह से वह बैक्टीरिया से लड़ने में सहायक होता है| संतरा खाने से पेट में मौजूद अल्सर का संक्रमण दूर हो जाता है|

– शोध के अनुसार संतरे का जूस रोज पीने से किडनी में होने वाली बीमारी के चांस बहुत कम हो जाते है| यहाँ तक की किडनी में होने वाले कैंसर से भी संतरा बचाता है|

– संतरा में फाइबर होता है जो हमारे शरीर के कोलेस्ट्रोल कंट्रोल करने में सहायक होता है|

– संतरा खाने से रोग अवरोधक क्षमता बढती है| सर्दी खांसी जैसे संक्रमण हमारे शरीर को जल्दी प्रभावित नहीं करते|

– इसमें मौजूद विटामिन A हमारी आँखों के लिए बहुत लाभकारी होता है|

– शरीर में किसी भी प्रकार का दर्द होने पर संतरे का जूस पियें, दर्द जल्दी ही गायब हो जायेगा| गठिया के रोगी भी संतरे का जूस पी सकते है|

– शरीर में अगर किसी तरह का घाव है जो बहुत समय से ठीक नहीं हो रहा हो तो संतरे का जूस या संतरा खाना शुरू कर दें| संतरा में मौजूद फोलेट घाव भरने में सहायक होता है|

– अगर आपको कफ की शिकायत है तो संतरा खाएं| यह कफ को पतला कर देता है जिससे वह आसानी से निकल जाता है|

– सूखी खांसी से अगर परेशान है तो रोज 1 संतरा खाएं| 1-2 दिन में ही आराम मिलेगा|

– अगर आप दिन भर के बाद थकान महसूस कर रहे है, तो 1 गिलास संतरे का जूस पी लीजिये| थकान शारीरिक हो या मानसिक, जूस पीने से आप तुरंत तरोताजा महसूस करेंगे| आप एक नयी शक्ति व उर्जा महसूस करेंगे|

– तेज बुखार होने पर व्यक्ति को संतरे का जूस पिलायें, शरीर का तापमान सामान्य होने लगेगा|

– संतरे में साइट्रिक एसिड होता है जो गुर्दा व मूत्र से सम्बंधित रोगों को दूर करने में सहायक होता है|

– अगर आपको बवासीर की बीमारी है तो आज से ही संतरा खाना या उसका जूस पीना शुरू करें| बहुत जल्द आपको लाभ मिलेगा|

– अगर पेचिश हो गया है तो संतरे के जूस में थोडा सा दूध मिलाकर पियें| जल्द ही बीमारी दूर होगी|

– छोटे बच्चों के लिए संतरा बहुत अच्छा फल है| बच्चों को दूध में ¼ भाग मीठे संतरे का जूस मिलाकर पिलाना चाहिए| इससे उन्हें पौष्टिकता मिलेगी|

– गर्भावस्था में महिलाओं को ज्यादा से ज्यादा संतरा का सेवन करना चाहिए| इससे प्रसव के समय कम तकलीफ होती है|

– मुंह में दन्त व मसूड़ों के रोग को संतरा दूर करता है|पेट में गैस अपच की बीमारी हो तो संतरे का जूस पीने से लाभ मिलता है|

– संतरा हमारे सौन्दर्य को निखारने में भी सहायक होता है| इसके लिए आप संतरे के छिलकों को सुखाकर पीस लें और पाउडर बना लें| अब इस पाउडर में दूध या गुलाब जल मिलाकर लगायें| इससे चेहरे का रंग साफ होता है और टैनिंग भी दूर होती है|

– बुखार के रोगी को और पाचन विकार में संतरे के रस को हल्का गर्म करके उसमें काला नमक और सोंठ का चूर्ण मिलाकर प्रयोग करना लाभकारी रहता है।

– संतरे और मुनक्के का मिश्रण लेने से आंव और पेट के मरोड़ से मुक्ति मिल जाती है।

– सर्दी-जुकाम या इनफ्लुएंजा में एक सप्ताह एक गुनगुना संतरे का रस काली मिर्च और पीपली का चूर्ण मिलाकर लेना लाभकारी रहता है।

– मुंहासे होने पर संतरे के रस का सेवन तथा उसके छिलके में हल्दी मिलाकर लेप लगाना लाभकारी रहता है।

– चेहरे के सौंदर्य को निखारने के लिए हल्दी, चंदन, बेसन और संतरे के छिलके का चूर्ण दूध या मलाई में मिलाकर लगाएं तो बढ़िया लाभ मिलेगा ।

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
loading...


ये भी पढ़ें :-