ह्रदय रोग (ब्लड प्रेशर), नेत्र रोग (मोतियाबिंद) और झुर्रियों में फायदा है भिन्डी

· October 25, 2015

oiuभिंडी अनेक पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इस सब्जी में खनिज, कार्बनिक यौगिक आदि मौजूद होते हैं। साथ ही, विटामिन ए, बी, सी, ई, कैल्शियम, आयरन, पोटैशियम व जस्ता भी होता है।


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से

आईये जानतें हैं भिन्डी के औषधीय फायदे (Health Benefits of Ladyfinger in Hindi, bhindi ke ayurvedic aushadhiya fayde or laabh)-

– भिंडी में पोटैशियम सहित विटामिन और खनिज दोनों पाए जाते हैं। पोटैशियम शरीर में उचित द्रव संतुलन को बनाए रखने के लिए आवश्यक है, क्योंकि यह सोडियम को संतुलित रखता है। इसके अलावा, पोटैशियम रक्त वाहिकाओं और धमनियों को तनाव मुक्त भी रखता है व रक्तचाप को भी कम करता है।

– भिंडी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली को बलशाली बनाते हैं। विटामिन सी रोग जनक जीवाणुओं के आक्रमण पर शरीर मे सफेद रक्त कणिकाओं की संख्या बढ़ा देता है, ये कणिकाएं शरीर को रोगों से बचाती हैं।

– भिंडी में उच्च मात्रा में विटामिन ए, बीटा,कैरोटीन, जेनथेन, और लुटिन जैसे एंटीऑक्सीडेंट मौजूद हैं। इसलिए भिंडी खाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है और मोतियाबिंद की समस्या होने की सम्भावना कम होती है।

– भिंडी में उपस्थित विटामिन ए और एंटीऑक्सीडेंट त्वचा को स्वस्थ बनाते हैं। वह इसलिए, क्योंकि एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल्स को बेअसर करने में सक्षम हैं जिन्होंने त्वचा कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त कर दिया है ।

– भिंडी में फाइबर पाया जाता है जो कि पाचन तंत्र के लिए बहुत लाभदायक होता है। यह कब्ज को दूर करता है, जिससे गैस व एसिडिटी जैसी समस्याएं परेशान नहीं करती हैं।

(नोट – तेल में सेकी हुई भिंडी की सब्जी खाने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल स्तर तेजी से बढ़ता है इसलिए इसे ज्यादा तेल में ना पकाएं ! बिना कीटनाशक वाली भिन्डी से ही सारे फायदे मिलते हैं)

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-