सावधान ! योग प्राणायाम के नाम पर हो रही ठगी से बचिये

z15175569471_d43941bc93_bइस कलियुग में जहाँ भी थोडा सा पैसा नजर आने लगता है, वहीँ मक्कार लोगों के मुंह से लार टपकनी शुरू हो जाती है ! अब यही कुछ हो रहा है हिन्दू धर्म के दिव्य ज्ञान – योग, आसन, प्राणायाम और आयुर्वेद के साथ ! कई फर्जी योग गुरु पैदा हो गएँ हैं जो लोगों को ठग ठग कर मोटी रकम कमा रहे हैं खासकर विदेशों में क्योंकि वहां के विदेशी लोगों ने भारतीय धर्म के ज्ञान योग, आसन, प्राणायाम और आयुर्वेद की बहुत तारीफ़ सुनी है उसको सीखने के लिए उनकी प्रबल उत्सुकता का कई लोग अच्छे से नाजायज फायदा उठा कर अपनी तिजोरीयां भर रहे हैं !

इन लोगों को फर्जी योग गुरु इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि ये लोग योग के नाम पर जो एक्सरसाइज सिखाते हैं वो तो योग है ही नहीं ! मतलब इन फर्जी लोगों ने अपनी USP (नयी और दुर्लभ जानकारी) देने के नाम पर ऐसी ऐसी नयी मनगढ़ंत एक्सरसाइज बनायी है जो वास्तव में योग है नहीं क्योंकि उन एक्सरसाइज का वर्णन, श्री पतंजलि ऋषि द्वारा लिखे गए योग शास्त्र में कहीं है ही नहीं !

भगवान् महादेव के शिष्य श्री पतंजलि ऋषि ने स्वयं भगवान् महादेव से ज्ञान प्राप्त किया 84 लाख योनियों से 84 प्रमुख आसन का, और यही आसन व्यक्ति को सम्पूर्ण शारीरिक और अध्यात्मिक सुख देने में सक्षम है !

इन आसनों को सिद्ध कर लेने पर क्या क्या और कितनी कितनी शक्तियां मिल सकती है, यह संसार के भोग विलास में ही पूरी जिन्दगी बिता देने वाले आदमी की समझ से परे है !

तो अगर कोई आदमी इन्ही 84 आसनों को करेगा, तो ही उसको स्वास्थ सम्बन्धी विशेष लाभ मिलेगा नहीं तो इन आसनों के नाम पर कोई मनगढ़न्त कसरत करेगा तो उसे ज्यादा से ज्यादा केवल मांसपेशियां के लचीला व मजबूत होने का फायदा मिलेगा !

असल में आजकल हो ये रहा है की अधिक से अधिक लोगों को लुभा कर अपना ग्राहक बनाने के लिए फर्जी योग गुरु अफवाह उड़ाते हैं की हमारे पास ऐसे नए नए योगों की जानकारीयां है जो आपने आज तक कहीं और सुनी ही नहीं होगी और इससे प्रभावित होकर, बिमारियों से परेशान लोगों की भीड़ बार बार एक योग गुरु से दूसरे योग गुरु तक दौड़ती फिरती है तथा अपना कीमती पैसा, समय और विश्वास खोती रहती है !

सही योग की जानकारी के लिए आपको एक रूपए भी खर्च करने की जरूरत नहीं हैं क्योंकि सही योग की जानकारी तो महान त्यागी, तपस्वी और परम आदरणीय श्री बाबा रामदेव रोज टेलीविजन (आस्था चैनल) पर दे रहे हैं उसके आलावा बाबा रामदेव के हर जिले में कई स्वयं सेवक भी है जो मुफ्त में योग की सही जानकारी देते हैं ! तथा आपको अगर ज्यादा शोध करना हो योग आसन प्राणायाम पर, तो सबसे सही जानकारी देंने वाले ग्रंथों में से है गीता प्रेस गोरखपुर, उत्तर प्रदेश से प्रकाशित होने वाले ग्रन्थ ! गीता प्रेस, गोरखपुर, हमारे देश के सबसे प्राचीन पब्लिकेशन ग्रुप में से एक है और इसके संस्थापक श्री हनुमान प्रसाद पोद्दार जी महान ईश्वर भक्त, स्वत्रंता सेनानी एवं दिव्य पुरुष थे ! गीता प्रेस संस्था बरसों से भारतीय ज्ञान को संजोकर सुरक्षित रखने का प्रशंसनीय कार्य लगातार कर रही है !

सही जानकारी के लिए आपको सही पुस्तकों का ही अध्ययन करना चाहिए क्योंकि फर्जी योग गुरुओं ने फर्जी ज्ञान का प्रचार करने के लिए ढ़ेर सारी फर्जी पुस्तकें भी छपवा रखी हैं !

इसमें कोई शक नहीं की योग में असम्भव को सम्भव करने की निश्चित क्षमता है पर ये सारे फायदे तभी मिलेंगे जब आप योग करेंगे, ना की योग के नाम पर आड़ी, तिरछी, उटपटांग कसरतें !

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-