हे देशभक्तों, यह हार नहीं, वक्ती तौर का कूटनैतिक राजधर्म है

· July 21, 2016

nnnदुनिया का हर काम बन्दूक के जोर पर नहीं हो सकता खासकर जब समस्या अपने साथ रहने वाले पुराने साथियों से है !

और ना ही कोई भी आदमी लगातार सिर्फ जीतते ही जा सकता है क्योंकि लम्बे समय तक चलने वाले युद्ध में कई बार उठा पटक होती है !

तब ऐसे मौके पर सहारा लेना पड़ता है कई तरह के नाटकों का !

इसी को बोलते हैं कि जब रणनीति फेल हो जाय तब कूटनीति का सहारा लेना !

यहाँ पर ध्यान से समझने वाली बात है कि कूटनीति जैसे शब्द सिर्फ बड़ी राजनैतिक हलचलों के लिए ही नहीं बने हैं क्योंकि हर आम आदमी जो सज्जन, समझदार और बुद्धिमान है वो भी अपने जीवन के कई मोड़ो पर कूटनैतिक पैतरे खेलता है ! यह उसकी मजबूरी भी होती है !

ऐसा नहीं है कि कूटनैतिक चालें चलना अधर्म है क्योंकि यह तय बात है कि सूई का काम तलवार नहीं ही कर सकती !

दुनिया के सबसे बड़े कूटनीतिज्ञ, भगवान् श्री कृष्ण हुए थे और भारतीय परिप्रेक्ष्य में, आज कि तारीख में, विश्वस्तरीय कूटनीतिज्ञों में श्री नरेंद्र मोदी, और श्री अजीत डोभाल जी का नाम लिया जा सकता है |

हम बात करें कि आखिर एक आम सज्जन आदमी को कब कब अपनी जिंदगी में कूटनैतिक चालें चलनी पड़ती है ?

उसे जानने से पहले यह जानना जरूरी है कि कूटनीति कहते किसे है !

कूटनीति का मतलब हमारे शास्त्रों के अनुसार होता है कि दुष्टों कि शातिर चालों का जवाब, उन्ही की भाषा में, अर्थात शातिर चालों से ही देना !

दुष्टों कि शातिर चालों का उन्ही की भाषा में जवाब देने में सबसे बड़ा रिस्क यह भी होता है कि कुछ सफ़ेदपोश नादान लोगों कि नजरों में चाल चलने वाले की इज्जत कुछ देर के लिए कम हो सकती है, जब तक कि उन सफेदपोश नादान लोगों को उसकी असली सच्चाई का पता नहीं चल जाता है !

पर यह रिस्क ख़ुशी ख़ुशी लिया जा सकता है, जब बात अपनी मातृ भूमि कि सुरक्षा की हो !

आईये देखते हैं कि कैसे भगवान् श्री कृष्ण ने धर्म की सुरक्षा के लिए अपने भगवान् होने कि गरिमा तोड़ते हुए साधारण संसारी आदमियों कि तरह झूठ बोलकर कुछ दुष्ट लोगों को धोखा दिया और जिसकी वजह से कई तत्कालीन मूर्ख अज्ञानी लोगों ने जमकर उनकी बदनामी भी की, पर श्री कृष्ण ने यह सब हँसते हँसते सहन कर लिया क्योंकि उन्हें पता था कि सबसे बड़ी उपलब्धि धर्म, सत्य व न्याय की सुरक्षा करना हैं ना कि उनकी खुद कि होने वाली बदनामी को रोकना !

वैसे तो भगवान् श्री कृष्ण द्वारा प्रस्तुत किये गए उदाहरण हजारों हैं पर उनमे से कुछ पर हम नजर डालते हैं !

जैसे जरासंध नाम का महादुष्ट अत्याचारी राजा था और सिर्फ श्री कृष्ण को पता था कि उसे केवल महाबली भीम ही मार सकते हैं पर भीम से उसका युद्ध कराने में कई निर्दोष सैनिकों कि जान ना चली जाय इसलिए श्री कृष्ण, सिर्फ जरासंध से ही भीम की लड़ाई करवाना चाहते थे !

अतः कृष्ण भेष बदलकर, झूठा रूप धरकर, जरासंध से मिलने गए और जरासंध को शक ना हो जाय इसलिए बिना युद्ध कि बात बताये, उससे सबके सामने कसम दिलवा दी कि अगर वो असली राजा है तो वो जो मांगेगे वो उन्हें देगा !

00009जरासंध को बार बार कृष्ण के नकली भेष और उनकी बातों पर शक हो रहा था लेकिन जरासंध कसम देने से पीछे ना हट जाय इसलिए श्री कृष्ण बार बार बहुत चालाकी से सबके सामने उसे इनडायरेक्ट में कायर ना बनने के ताने मार रहे थे !

जरासंध ने उनके ताने सुनकर कई बार उन्हें अपशब्द भी कहे लेकिन कृष्ण जानते थे कि उनके पर्सनल मान सम्मान से बढ़कर है उस दुष्ट का मरना, नहीं तो वह आगे भी कई निर्दोष लोगों को अपना शिकार बनाता रहेगा ! अंततः जरासंध कृष्ण के झांसे में आ ही गया और भीम से लड़ाई में मारा गया !

दूसरा उदहारण देखते हैं, जब भगवान् शिव कि प्रचंड भक्त और महान पवित्र स्त्री, गांधारी जी ने महाभारत युद्ध के अंतिम चरण में अपने पुत्र दुर्योधन को वज्र शरीर बनाने के लिए रात में नदी से नहा कर उनके सामने बिना वस्त्र के आकर खड़े होने को कहा तो श्री कृष्ण के बेहद तेजतर्रार गुप्तचरों ने इस बात कि जानकारी तुरंत श्री कृष्ण को दी !

श्री कृष्ण समझ गए कि अगर एक बार दुर्योधन का शरीर वज्र का हो गया तो लगभग पूरा जीता हुआ युद्ध हम लोग हार जायेंगे इसलिए वे फ़ौरन दुर्योधन के पास पहुच गएँ !

जिस दुर्योधन ने कई बार उन्हें अपशब्द कहे थे और सार्वजनिक तौर पर उनकी बेइज्जती करने की भी कोशिश की थी, उसी दुर्योधन से श्री कृष्ण अपनी पर्सनल नाराजगी भुलाकर बहुत प्रेम से बात करने लगे और उन्होंने उससे पूछा कि अरे आप इतनी रात में नदी से नहा कर बिना कपड़ों के कहाँ जा रहें हैं ?

दुर्योधन ने फिर बद्तमीजी वाले तरीके से कृष्ण के प्रश्न को टालने कि कोशिश की पर कृष्ण के लगातार बार बार पूछने पर उसे बताना पड़ा कि माँ ने किसी जरूरी पूजा के लिए ऐसे ही बुलाया है !

श्री कृष्ण ने दुर्योधन द्वारा अपने साथ किये जाने वाले लगातार बद्तमीज व्यवहार कि बिल्कुल परवाह ना करते हुए, बहुत प्रेम से और बहुत आश्चर्य वाला चेहरा बनाते हुए दुर्योधन से कहा कि अरे इतना बड़ा लड़का भी कभी माँ के सामने इस तरह बिना कपड़ों के जाता है ? कितनी गन्दी बात है !

तब दुर्योधन ने गुस्से से कहा कि माँ ही जन्म देती है, माँ ही प्राण देती है तो माँ के सामने कैसी शर्म !

दुर्योधन ने जो बात कही वो धर्म के हिसाब से एकदम सही थी लेकिन इस धर्म को निभाने में एक महा अधर्म हो जाता कि दुर्योधन का शरीर वज्र का हो जाता जिससे उसे हरा पाना असम्भव हो जाता और फिर हस्तिनापुर पर एक पापी का राज हो जाता है !

इसलिए श्री कृष्ण ने फिर कूटनैतिक चालें चली, दुर्योधन का ब्रेन वाश करने के लिए ! उन्होंने उससे कहा कि, ठीक है धर्म के हिसाब से उचित हैं कि लड़का चाहे जितना बड़ा हो जाय, वो माँ के सामने हमेशा रहेगा बच्चा ही, पर लोक लाज नामकी भी कोई चीज होती है कि नहीं ! अरे आप शादीशुदा हैं और आपके खुद के बच्चे भी हैं तो ऐसे में कम से कम कुछ तो व्यवहारिकता अपनाइए ! कम से कम इतने कपड़े तो पहन लीजिये कि फूहड़ ना लगे !

श्री कृष्ण द्वारा लगातार ऐसे ब्रेन वाश करने वाले तर्कों से घबराकर अचानक से दुर्योधन को लगने लगा कि सहीं में वो कितनी बड़ी मूर्खता कर रहा था, इसलिए उसे कम से कम लंगोट तो पहन ही लेना चाहिए !

और अंततः इसी लंगोट कि वजह से उसकी जंघा वज्र कि नहीं हो पाई और वो भीम से युद्ध में मारा गया !

अब तीसरा उदाहरण देखते हैं कि कंस को मारने के बाद जब श्री कृष्ण मथुरा नगरी के प्रधान रक्षक बने तब कंस के रिश्तेदार व मित्र राजा बहुत भड़क गये और उन्होंने कई कई बार मथुरा पर बड़ी बड़ी सेना लेकर हमला किया !

कृष्ण समझ गए कि ये सब दुष्ट मानने वाले नहीं हैं और इनके बार बार के हमलों से प्रजा में बहुत डर बैठ गया है इसलिए इस मथुरा क्षेत्र से अपनी प्रजा को लेकर निकल लेने का समय आ गया है !

तब उन्होंने अपने योग बल से अपनी पूरी प्रजा को एक रात में द्वारिका पंहुचा दिया !

कृष्ण के द्वारा रातों रात मथुरा से द्वारिका चले जाने पर उस समय के कई लोगों ने उन्हें भगोड़ा, कायर, डरपोक कहा पर श्री कृष्ण ने इनमे से किसी भी आरोप का जवाब तक देना जरूरी नहीं समझा क्योंकि उन्हें पता था कि धर्म के रास्ते पर सही काम करने पर भी अक्सर बदनामी मिलती है !

कृष्ण जानते थे कि अगर वो मथुरा में रहते तो उनकी आगे कि जिंदगी के कई और साल सिर्फ युद्ध में ही बीतते और वे प्रजा कि तरक्की के लिए कुछ कांस्ट्रक्टिव काम तो कर ही नहीं पाते !

इन सब उदाहरणों के अलावा और भी कई ऐसे उदाहरण हैं जब श्री कृष्ण को सही काम करने के लिए धोखे का सहारा लेना पड़ा !

33234जैसे भीष्म पितामह को नपुंसक शिखंडी कि आड़ में छुपकर मरवाना, महाताकतवर द्रोणाचार्य का पहले झूठी अफवाह से हथियार रखवाना फिर चुपके से गर्दन कटवाना, अपने रथ कि मरम्मत करते हुए कर्ण कि हत्या करवाना आदि !

श्री कृष्ण ने इन ऊपर लिखे वीरों कि हत्या करने में धोखे का सहारा क्यों लिया ? कारण स्पष्ट है कि इन लोगों ने भी तो एक समय धोखा किया था (अभिमन्यु को मारने में), तो एक धोखे बाज को धोखे से मारने में कोई बुराई नहीं हैं !

और ऐसा नहीं था कि इन लोगों ने सिर्फ अभिमन्यु के साथ धोखा किया था, बल्कि ये अधर्म अर्थात उस दुर्योधन के पक्ष में खड़े होकर लड़ाई लड़ रहे थे जिसने बेचारी द्रौपदी का चरम स्तर तक अपमान किया था !

तो ये रही बात भगवान् श्री कृष्ण कि जिन्होंने अपने लीला चरित्र से आने वाली पीढ़ियों के सामने यह साबित किया कि दुष्टों कि शातिर चालों का जवाब, शातिर चालों से देना गलत नहीं, सही है !

अगर हम एक आम सज्जन आदमी कि बात भी करें तो ये पायेंगे कि उसे भी अपने और अपने परिवार की बेहतरी के लिए, अपनी दिनचर्या में कई तरह के नाटकीय कूटनैतिक चालें चलनी पड़ती हैं !

09876जैसे आपका बेटा बड़ा होता जा रहा है लेकिन अपनी पढाई पर बिल्कुल ध्यान नहीं दे रहा है और ना ही आपके बार बार समझाने से उस पर कोई असर हो रहा है तो ऐसे में आपको यह युक्ति सूझती है कि आप अपने ही लड़के के हमउम्र किसी ऐसे परचित लड़के को जो पढ़ने में बहुत तेज हो घर पर बुलाते हैं और उससे अपने लड़के कि तुलना करते हैं तथा अपने लड़के के मुंह पर उस तेज लड़के के होनहार भविष्य की खूब तारीफ़ भी करते हैं जिससे आपके लड़के के मन में भी कॉम्पिटिशन का भाव पैदा हो और उसे भी समझ में आये कि वो जिस हिसाब से अपने समय कि बर्बादी कर रहा है तो उससे उसका क्या दुखद भविष्य होने वाला है !

दूसरा उदाहरण यह लिया जा सकता है कि जैसे आप रोज एक ही दुकान से अपने घर के जरूरी सामान खरीदते हैं और आपकी इस वफादारी के बदले वह दुकानदार अब आपको थोड़ा थोड़ा धोखा देना शुरू कर रहा है मतलब आपसे दाम ज्यादा ले रहा है पर वो दूकानदार सामान अच्छी क्वालिटी का देता है इसलिए आप उस दुकानदार को परमानेंट छोड़ना भी नहीं चाहते इसलिए उसकी इस बुरी आदत को सुधारने के लिए आप सामान अब उसके सामने वाली दूसरी दूकान से खरीदना शुरू कर देते हैं और उसके टोकने पर कहते हैं कि भाई वो दुकानदार तुमसे अच्छी क्वालिटी का सामान सस्ते में दे रहा है तो मैं तुमसे क्यों लूं (भले ही सामान अच्छी क्वालिटी और सस्ते में ना हो) !

अगर आपका पहला दुकानदार थोड़ा सा भी बुद्धिमान होगा तो जल्द ही आपसे फिर से जुड़ने कि कोशिश करेगा और इस बार आपसे दाम भी ज्यादा नहीं लेगा !

तीसरे उदाहरण को थोड़ा ध्यान से सुनियेगा क्योंकि यही हो रहा है हमारे देश के शीर्ष नेतृत्व के साथ भी !

मान लीजिये कि किसी सरकारी ऑफिस में आप एक बेहद ईमानदार अधिकारी हैं और आप अपना हर काम एकदम समय से और बिना रिश्वत के करने में भरोसा रखते हैं पर आप अक्सर देखते हैं कि आपके ऑफिस में जो लोग काम करवाने आते हैं वे बहुत परेशान हो जाते हैं क्योंकि आपके नीचे के 3 – 4 क्लर्क बहुत बड़े भ्रष्ट और रिश्वतखोर हैं !

बिना जनता से मोटी रकम वसूले वे क्लर्क फाइल आगे मतलब आपके पास पहुचने ही नहीं देते !

जनता कि शिकायत पर आपने उन क्लर्कों को डांटा भी लेकिन उसका कोई असर हुआ नहीं !

आपने अपने से बड़े अधिकारियों से उन क्लर्कों के बारे में लिखित शिकायत भी की लेकिन वो क्लर्क जोड़ तोड़ में इतने माहिर हैं कि कई बार उनके खिलाफ इन्क्वायरी भी बैठी लेकिन वो उससे एकदम साफ़ पाक निकल गए !

और इतना ही नहीं इन क्लर्कों कि हिम्मत इतनी बढ़ गयी कि इन्होने अपनी काली कमाई के सबसे बड़े दुश्मन यानि आपके खिलाफ मोर्चा खोल दिया और डिपार्टमेंट में ऊपर से नीचे तक हर जगह हो हल्ला मचाने लगे कि आप ही बहुत बड़े रिश्वतखोर हैं !

ऐसी विषम परिस्थिति में आप क्या करेंगे ?

आप ईमानदार हैं लेकिन ये बात सिर्फ आप जानते हैं जबकि हर जगह हो हल्ला हो चुका है कि आप बहुत बड़े बेईमान हैं और अगर वक्त रहते आपने अपनी बेगुनाही साबित नहीं की तो ऐसा भी हो सकता है कि आप (जो पहले से ही अपने सीनियर्स और जूनियर्स की काली कमाई में रोड़ा अटकाने कि वजह से आँख के कांटे बने हुए हैं) ससपेंड हो जांय !

तो फिर से प्रश्न बनता है कि आप इस घोर कलियुगी माहौल में क्या करेंगे ?

ऐसे में आपके पास चन्द ही विकल्प बचते हैं  पर कोई भी विकल्प ऐसा नहीं कि, आसान हो या 100 प्रतिशत सफलता की गारंटी वाला हो !

एक विकल्प को अपनाने से माहौल आपके पक्ष में हो सकता है लेकिन वो विकल्प इतना आसान हैं नहीं जितना आम जनता को दीखता है !

वो विकल्प है कि मीडिया के माध्यम से आप सच्चाई लोगों तक पहुचाए कि किस तरह आपके साथ काम करने वाले लोग मिलकर जनता को लूट रहें है और पकडे जाने पर सारा दोष आपके ही मत्थे मढ़ रहें हैं !

इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि ज्यादातर मीडिया आपका साथ क्यों देगा ?

आम जनता को हमेशा यही लगता है कि जहाँ भी, जो भी गलत हो रहा है मीडिया अपने आप वहां पहुँच कर उसका पर्दाफाश करता है और सारे मीडिया इसी बात का बार बार दावा भी तो करते हैं कि हम सिर्फ सच दिखाते हैं और कुछ नहीं !

पर इस घोर कलियुग में ऐसा बिल्कुल नहीं है !

बहुत से मीडिया के पत्रकार हर छोटी से छोटी खबर में भी अपनी अधिक से अधिक कमाई कि गुंजाइश खोजते हैं !

भारत के संविधान से मिली अथाह आजादी कि वजह से ये पत्रकार महाबेईमान को भी महाईमानदार और महाईमानदार को महाबेईमान के रूप में जनता के सामने पेश कर सकते हैं !

122345आप अपनी सफाई देने के लिए मीडिया (अखबार और न्यूज़ चैनल्स) के पत्रकारों के पास जाएँगे तो उनमे से कई आपसे सीधे या घुमा फिरा कर पूछ सकते हैं कि आपकी खबर छापने से हमें क्या फायदा होगा !

ऐसे में वक्त कि नजाकत और अपनी मजबूरी देखते हुए अगर आप में क्षमता है तो आप अपनी इमानदारी की पालिसी के खिलाफ जाकर उन पत्रकारों के पर्सनल फायदों के बारे में सोच भी सकते हैं, लेकिन आप में क्षमता नहीं हैं तो आप निराश होकर वापस लौट जायेंगे !

पर कुछ पत्रकार तो इतने बड़े ब्लैक मेलर हो चुके हैं कि उन्हें बस किसी कि कमजोरी पता लगने भर की देरी है बाकि कोई ईमानदार हो बेईमान वो सबके हलक से पैसा निकालना जानते हैं !

ऐसे में कुछ पत्रकार आपके तरफ से कोई फायदा ऩा मिलने पर तुरन्त आपकी विपक्षी पार्टी के पास पहुच जायेंगे और उन पर दबाव बनायेंगे कि आप हमारे मीडिया हाउस को कुछ एडवरटीजमेंट वगैरह दीजिये नहीं तो आपके खिलाफ हमारे पास कम्प्लेन है और हम जा रहें आपके खिलाफ छापने !

ऐसे में आपकी विपक्षी पार्टी अर्थात वे भ्रष्ट क्लर्क तो उन भ्रष्ट पत्रकारों को तुरंत दिवाली, दशहरा आदि त्योहारों के एडवरटीजमेंट के रूप में लीगल रिश्वत पकड़ा देंगे और उन रिश्वत के पाने के बाद वे पत्रकार अब आपके खिलाफ छापने लगेंगे जिससे ऐसा भी हो सकता है कि आप बहुत जल्द ही ससपेंड हो जायं और आपके खिलाफ डिपार्टमेंटल इन्क्वायरी बैठ जाय !

पर अगर आपका भाग्य, आपका साथ दे और आपके पास कोई बेहद ईमानदार और प्रसिद्ध मीडिया हाउस का पत्रकार पहुच जाय जो पूरे मुद्दे का बहुत बारीकी और सत्यता से विश्लेषण कर जनता के सामने लाय, तो उन भ्रष्ट क्लर्कों और उनसे जुड़े आपके भ्रष्ट सीनियर्स और उनका साथ देने वाली भ्रष्ट मीडिया कि भी पोल जनता के सामने खुल सकती है !

ठीक यही स्थिति अपने देश के मुख्य नेतृत्व, मोदी जी के साथ भी हो रही है !

सत्ता पक्ष और विपक्ष का हर वो नेता जिसकी काली कमाई कि तीव्र इच्छा मोदी जी कि वजह से पूरी नहीं हो पा रही है, मोदी जी को बिकाऊ मीडिया के माध्यम से बदनाम करके, जल्द से जल्द प्रधानमंत्री पद से हटाना चाहता है !

675ऐसे में ZEE न्यूज़, सुदर्शन न्यूज़, स्वदेश चेतना जैसे बहुत कम ही मीडिया हाउस बचे हैं जो पूरी ईमानदारी से हर मुद्दे को रख रहें बाकि कई ऐसे भ्रष्ट मीडिया हाउस के पत्रकार हैं जिनकी सैलरी तो मात्र कुछ हजार हैं लेकिन बंगले 100 करोड़ से ज्यादे के हैं !

जाहिर सी बात है कि उन्हें इतना पैसा, काला धन रखने वाले नेता के रूप में कुबेर ही दे सकते हैं जिनके प्रति वो लगातार कई सालों से अप्रत्यक्ष रूप से वफादारी निभाते आयें हैं !

अब इसका जवाब आप ही दीजिये कि कोई ईमानदार सरकार कैसे उन भ्रष्ट नेताओं को अपनी पार्टी से हटाये, जिनके सहयोग से ही सरकार बनी और टिकी हुई है ! बहुत प्रबल उम्मीद होती है कि इन भ्रष्ट नेताओं को पार्टी से निकालते ही, पूरी सरकार ही अस्थिर हो सकती है !

ऐसे भ्रष्ट नेताओं का परमानेंट सुधरना तो मुश्किल होता है लेकिन कई बार ऐसा भी होता है किसी विशेष निर्णय को पारित कराने के लिए सत्ता पक्ष के ऐसे भ्रष्ट नेताओं पर येन केन प्रकारेण, भीषण टेम्पररी दबाव बनाना पड़ता है और इसके लिए कुछ कूटनैतिक नाटकीय चालें भी चलनी पड़ती है जो आम जनता को ज्यादा समझ में नहीं आती पर दुष्ट बिकाऊ मीडिया इन बातों का भी तुरंत फायदा उठाकर सरकार की बदनामी शुरू कर देती है !

अभी सुब्रमणियमस्वामी जी ने कुछ महीनो पहले ही खुलासा किया था कि भारत के कई प्रसिद्ध न्यूज़ चैनल्स का टॉप मोस्ट मैनेजमेंट विदेशी हैं अतः इसकी क्या गारंटी उनके द्वारा दिखाई जाने वाली ख़बरें देश हित का ख्याल रखती हों या वे किसी विदेशी विनाशकारी शक्तियों के एजेंट के रूप में अप्रत्यक्ष रूप से काम ना कर रहें हों !

लालच, भ्रष्टाचार और साजिशों का बहुत खतरनाक चक्रव्यूह बन चुका है और ऐसे में एक कट्टर ईमानदार का ना केवल टिके रहना बल्कि तरक्की के लगातार खम्बे गाड़ते जाना सिर्फ आश्चर्य ही नहीं, महाआश्चर्य की बात है !

ऐसे माहौल में मोदी जी जैसे समझदार और दूरदर्शी लीडर सिर्फ रिजल्ट्स पर ध्यान देते हैं भले ही उन रिजल्ट्स को पाने के लिए कुछ भ्रष्ट और अनैतिक लोगों का भी स्वैच्छिक या जबरन साथ लेना पड़े !

as345एक भ्रष्ट आदमी, चाहे कितना भी ईमानदार बनने का नाटक कर ले, लेकिन उसका चेहरा और आंखे बता ही देंगे कि उसके मन में चोर है और एक बेहद ईमानदार आदमी को भले ही किसी वक्ती मजबूरीवश कुछ ऐसे काम करने पड़े जो प्रथम द्रष्टया दिखने में ठीक ना लगे, पर उसका तेज से चमकता चेहरा ही बता देगा कि वो गृहस्थ रूप में भी एक संत है !

तो अगर आपका दिल और आत्मा कहती है कि मोदी जी एक ईमानदार व्यक्ति हैं तो आप अपनी इस बात पर हमेशा कायम भी रहिये ! बार बार भ्रष्ट मीडिया के द्वारा दिखाई जाने वाली ख़बरों को देखकर, खुद मीडिया के शिकार मत हो जाईये !

हमेशा याद रखिये कि भारत में मीडिया को इतनी आजादी है कि वो आम को इमली बताने के बावजूद भी बच सकती है क्योंकि किसी गलत खबर दिखाने के बाद अगर कोई बहुत विरोध करता भी है तो उन्हें बस एक छोटा सा माफ़ीनामा ही तो छापना या दिखाना होगा या अगर कोई कोर्ट केस करता है तो उस केस का फाइनल निर्णय सुप्रीम कोर्ट तक से आने में 20 साल लग जायेंगे !

मोदी जी तेजी से शासन में व्याप्त गंदगी कि सफाई कर रहें लेकिन पिछले लगभग 60 साल में खानदान विशेष कि पार्टी ने हमारी मातृभूमि को अथाह कचरे का ढेर बना दिया है इसलिए हमें भी धैर्य से मोदी जी को भारत के कायाकल्प करने के लिए कम से कम 10 – 15 साल का मौका देना ही चाहिए क्योंकि इस वास्तविक सच्चाई का सबको पता है कि विकास के काम, विनाश जितनी तेजी से नहीं होतें है !

जैसे 2 साल कि अथक मेहनत से तैयार होने वाली मल्टीस्टोरी बिल्डिंग, आतंकवादियों के द्वारा लगाए हुए बम से सिर्फ कुछ सेकंड्स में धराशायी हो जाती है !

इस धराशायी भारत को भी फिर से सुधारने के लिए दिन रात जूझते मोदी जी को भी हम आम जनता के द्वारा लगातार प्रोत्साहन देने कि जरूरत है !

बाहरी लोगों के द्वारा दिए जाने वाली मानसिक प्रताड़ना से परेशान व्यक्ति घर वापस आकर घर के लोगों का प्यार पाकर फिर से तरोताजा और खुश हो जाता है उसी तरह मोदी जी कि टांग खीचने वाली कई बाहरी विदेशी शक्तियां और आन्तरिक गद्दार भी पड़े हैं तो ऐसे में मोदी जी के उत्साहवर्धन के लिए हम सभी देशभक्तों को स्वयं बाहर आना चाहिए और उनके हर कदम में यह सोचकर निष्ठा जताना चाहिए कि निश्चित रूप से बेहद ईमानदार मोदी जी द्वारा लिए जाने वाले हर निर्णय में कहीं न कहीं उनकी दूरगामी राजनैतिक या कूटनैतिक योजना होगी या ना टाले जा सकने वाली वक्ती तौर की अल्पकालीन मजबूरी !

जैसे भगवान् कृष्ण जानते थे कि दुनिया में फिर से सत्य व न्याय की पुनर्स्थापना के लिए महाभारत का युद्ध जीतना जरूरी है, इसलिए मौके की नजाकत समझते हुए उन्होंने अपने परम दुश्मन रूक्मी जैसे पापियों से भी अपनी दुश्मनी भुलाकर, उनसे युद्ध में उनकी तरफ से लड़ने के लिए सहायता मांगी थी ! ठीक उसी तरह भ्रष्टाचार कि आग में जलते भारत को सुव्यवस्थित करना भी किसी युद्ध से कम नहीं है इसलिए उपलब्ध विकल्प चाहे भ्रष्ट हों या ईमानदार उनकी मदद लेनी ही पड़ती हैं और और इस स्वार्थी दुनिया में पापियों से कोई भी मदद फ्री में नहीं मिलती, बदले में कुछ देना ही पड़ता है लेकिन बुद्धिमान लीडर उस वक्ती तौर के देने के बदले भविष्य में उन पापियों से बहुत कुछ वसूल कर ही छोड़ता है !

मौके की नजाकत देखते हुए, देश हित के लिए इस स्तर का लेनदेन केवल राष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी, अच्छे और भ्रष्ट दोनों तरह के देशों के साथ भी करना पड़ता है !

09092 साल की मोदी जी की अथक मेहनत के बावजूद अभी भी भारत हर चीज के लिए आत्मनिर्भर नहीं हो सका हैं इसलिए कुछ मुद्दों पर देश के बेहतर भविष्य के लिए, अभी भी हमें झुकना या समझौता करना पड़ रहा है पर यह हमेशा याद रखने वाली बात है कि यह झुकना, हार नहीं है बल्कि कूटनैतिक राजधर्म है !

आज हम भले ही अपने दूरगामी फायदे के लिए अपने ही देश के कुछ भ्रष्ट राजनेताओं कि ब्लैकमेलिंग और कुछ दूसरे भ्रष्ट देशों कि तानाशाही एक लेवल तक बर्दाश्त कर ले रहें हैं लेकिन निश्चित रूप से भविष्य हम राष्ट्रवादियों का ही है और इस बात को हम नहीं बल्कि वे सभी समझदार देश के प्रधानमंत्री कह रहें हैं जिन्होंने मोदी जी कि कथनी और करनी को बारीकी से समझा है !

भारत माता की जय…………..वन्दे मातरम …….. ! ! !

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-