बेहद आसान घरेलू प्रयोग ह्रदय की ताकत बढ़ाने के लिए

· December 12, 2015

अब कोई ये ना कहे की हमने क्या गलती की हम ह्रदय रोगी हो गये ! अरे कुछ नहीं किया तो इस प्रदूषित पृथ्वी पर जन्म लेने का अपराध तो किया और ऊपर से दूसरा अपराध किया की प्रदूषण की अराजकता दूर करने के लिए कुछ काम भी नहीं किया तो फिर झेलेगा कौन ? ये पूछिये कौन नहीं झेलेगा ! कौन माई का लाल है की प्रकृति के क्रोध से लड़ पायेगा !


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से

अपनी ही गलत दिनचर्या हमें ह्रदय रोगी बना रही है। मजबूरी चाहे जो भी हो लेकिन किसी भी प्रकार के प्रदूषण (आहार का प्रदूषण हो या विचार का) को झेलना गलत दिनचर्या में ही आता है !

चौकाने वाली बात है की दिल के मरीजों में युवाओं की संख्या तेजी से बढ़ रही है। कमजोर ह्रदय अपने साथ कई तकलीफें लेकर आता है। जरा सा काम करने के बाद सांस फूलना, सीढियां चढते वक्त दम भरना और अक्सर छोटे-छोटे काम में पसीना आना, बीमार होते दिल की ओर इशारा करते हैं।

दिल को दुरुस्त रखने के लिए हम कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं, आइए जानते हैं इन्हीं उपायों के बारे में (Ayurvedic Benefits of Heart Tonic which Supports healthy cardiovascular function in Hindi, herbal advantages of Best Foods and Herbs for Healthy Heart Including Heart Tonic, How to Prevent Heart Diseases with Simple Home Remedies)–

– शुद्ध शहद दिल को मजबूत बनाता है। कमजोर दिल वाले एक चम्मच शहद का सेवन रोज करें तो उन्हें फायदा होगा। साधारण लोग भी शहद का एक चम्मच रोज ले सकते हैं, इससे वे दिल की बीमारियों से बचे रहेंगे।

– रोज कम से कम 2 किलोमीटर पैदल चलने से ह्रदय हमेशा जवान बना रहता है !

– 20 मिनट कपालभांति और 10 मिनट अनुलोम विलोम प्राणायाम रोज सुबह एकदम खाली पेट (खाली पेट मतलब सुबह कोई लिक्विड जैसे चाय पानी आदि पिया हो तो कम से एक दो घंटे बाद करना चाहिए और कोई ठोस सामान जैसे नाश्ता या खाना आदि खाया हो तो कम से कम तीन से चार घंटे बाद प्राणायाम करना चाहिए) करने से ह्रदय निश्चित रूप से बहुत तेजी से मजबूत बनने लगता है ! पर हृदय रोगियों को प्राणायाम समेत हर एक्सरसाइज बहुत धीरे धीरे करना चाहिए और पहले ही दिन ज्यादा मात्रा में नहीं कर लेना चाहिए बल्कि धीरे धीरे अभ्यास बढ़ाना चाहिए !

– छोटी इलायची और पीपरामूल का चूर्ण घी के साथ सेवन करने से दिल मजबूत और स्वस्थ रहता है।

– दिल को मजबूत बनाने के लिए गुड़ को देशी घी में मिलाकर खाने से भी फायदा होता है।

– बिना इंजेक्शन वाली लौकी उबालकर उसमें धनिया, जीरा व हल्दी का चूर्ण तथा हरा धनिया डालकर कुछ देर पकाकर खाइए। इससे दिल को शक्ति मिलती है।

– अलसी के पत्ते और सूखे धनिए का क्वाथ बनाकर पीने से ह्रदय की दुर्बलता मिट जाती है।

– गाजर के रस को शहद में मिलाकर पीने से निम्न ब्लड प्रेशर की समस्या नहीं होती है और दिल मजबूत होता है।

– हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से निजात पाने के लिए सिर्फ गाजर का रस पीना चाहिए। इससे रक्तचाप संतुलित हो जाता है।

– प्रतिदिन लहसुन की कच्ची कली छीलकर खाने से कुछ दिनों में ही निम्न रक्तचाप सामान्य हो जाता है और दिल मजबूत होता है।

– अनार के रस को रोज सुबह-शाम पीने से दिल मजबूत होता है।

– खाने में अलसी का प्रयोग करने से दिल मजबूत होता है। अलसी में ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है जो दिल को बीमारियों से बचाता है।

– सेब का जूस और आंवले का मुरब्बा खाने से दिल मजबूत होता है और दिल अच्छे से काम करता है।

– बादाम खाने से दिल स्वास्थ रहता है। बादाम में विटामिन और फाइबर होता है।

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-