बिना कोई दवा खाए 1 महिने में मसूढ़े की सारी बिमारियों में निश्चित जबरदस्त आराम

smile-665433_640हमारा आयुर्वेद और योग अनन्त रहस्यों से भरा हुआ है, जिसकी थोड़ी सी जानकारी होने पर भी आदमी इस जगत में अपरम्पार पैसा कमा सकता है !

आज हम बात कर रहें हैं आदमी के मसूढ़ों से सम्बंधित समस्त तकलीफों और बिमारियों की !

आज हम आपको ऐसा जबरदस्त नुस्खा बता रहे हैं जिसको बनाने के लिए एक रूपए भी खर्च करने की जरूरत नहीं है और ना ही इस नुस्खे को आजमाने या करने के लिए भी एक मिनट अलग से समय निकालने की जरूरत है !

और फायदा इतना कि आपके मसूढ़े की जटिल से जटिल तकलीफों में भी 1 महीने में निश्चित ही जबरदस्त आराम पहुचाएं ! और जिनके दांत मसूढ़े पहले से ठीक हों वो भी इस यौगिक क्रिया का अभ्यास रोज रोज करें तो उन्हें आजीवन कभी मसूढ़ों की प्रॉब्लम नहीं होगी।

इसमें करना सिर्फ इतना होता है कि आदमी जब जब भी शौच (लैट्रिन) के लिए जाये, तो वो पूरे शौच करने के दौरान अपने ऊपरी जबड़े वाले दाँतों को निचले जबड़े वाले दाँतों से सटाकर रखे और इस प्रक्रिया में जीभ ऊपर वाले तालू से नहीं सटना चाहिए |

दातों को ऊपर नीचे सटाने में ध्यान देने वाली बात यह है कि आदमी पहले आगे वालों दातों को ऊपर नीचे सटाने की कोशिश करे और आगे वाले ऊपर नीचे के दांत सटाने में अगर पीछे के ऊपर और नीचे के दांत सही से नहीं सट पा रहे हों तो कोई चिंता की बात नहीं है क्योंकि कुछ दिन बाद पीछे वाले ऊपर और नीचे के दांत भी अपने आप सटने लगेंगे |

शुरू शुरू में शायद ही ऐसा कोई आदमी होगा जिसके पूरे पूरे के ऊपर के दांत और नीचे के दांत एकदम सही सही फिट बैठ जाय, पर जब कोई प्रैक्टिस शुरू करता है तो धीरे धीरे उसके पूरे उपरी जबड़े के दात सही सही नीचले जबड़े पर बैठने लगते हैं |

और इस बात को भी याद रखियेगा कि जीभ ऊपर के तालू से नहीं छूनी चाहिए |

आदमी दिन भर में एक बार या दो बार, जितनी बार भी शौच (लैट्रिन) के लिए जाय उतनी बार इस यौगिक क्रिया का अभ्यास करे तो उसे बहुत जल्द गारंटीड चमत्कारी लाभ मिलेगा ही मिलेगा |

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-