बाल साहित्य – चंदा मामा (लेखक – अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध)

· August 4, 2012

download (4)चंदा मामा, दौड़े आओ
दूध कटोरा भरकर लाओ।
उसे प्यार से मुझे पिलाओ
मुझ पर छिड़क चाँदनी जाओ।

मैं तेरा मृग छौना लूँगा
उसके साथ हँसूँ-खेलूँगा।
उसकी उछल-कूद देखूँगा
उसको चाटूँगा, चूमूँगा।

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-