जाओ कह दो हर देशप्रेमी से, ना हम भागे, ना ही हमने घुटने टेके

अंग्रेजों के बहुत लंबे शासनकाल से सन 1947 तक भारत माँ को आजादी दिलाने के लिए कई देशभक्त क्रांतिकारियों ने हसंते हसंते अपनी जान गवाई थी और 1947 से अब तक भारत माँ की आजादी बरकरार रखने के लिए भी कई भारतीय सैनिक आये दिन हँसते हँसते अपनी जान गँवा रहे है !

इस दुनिया में सबसे कीमती चीज आदमी की खुद की जान होती है, और कोई भी साधारण स्वार्थी आदमी इसे दूसरों के फायदे के लिए गवाना तो कत्तई नहीं चाहता है, पर ना जाने किस मिटटी के बने हैं हमारे अदभुत योद्धा कि उन्हें मातृ भूमि की सुरक्षा का ऐसा नशा है कि अपनी मौत तक का डर भी उन्हें कर्तव्य पथ से पीछे नहीं हटने देता !

images-11आम जनता अपने घर परिवार में होली दिवाली मनाती है और ये बाहुबली ठण्ड, बारिश, रेत सब झेलते हुए भी एकदम चौकन्ने बने रहते हैं कि एक भी आतंकवादी हमारी भारत भूमि में प्रवेश ना करने पाए !

भारत का हर नागरिक चाहे वो आम आदमी हो राज नेता, पुलिस हो या अधिकारी, इन सैनिकों का निश्चित कर्जदार है क्योंकि हमारे सैनिकों के सतत आत्मत्याग की वजह से ही भारत का हर नागरिक इन आतंकवादियों से काफी हद तक सुरक्षित है !

इस समय मोदी जी की तरफ पूरे भारत की निगाहें हैं कि जल्द ही वे कोई ऐसा निर्णायक कदम उठाएंगे जिससे आतंकवाद से निर्दोष सैनिकों और आम जनता का कत्लेआम दुबारा ना हो सके !

हालांकि मोदी जी अपने शासनकाल में कई नए नए अत्याधुनिक उपकरणों को सेना को लगातार उपलब्ध कराते जा रहें हैं जिससे निश्चित रूप से सेना की सहूलियत और क्षमता बढ़ रही है !

लेकिन उपकरण, हथियार आदि सब बेकार साबित होते हैं अगर सैनिक में बहादुरी का जज्बा ना हो, पर धन्य है भारतीय सेना के वीर सैनिक, जिन्हें ना खुद के प्राणों का मोह, ना अपने माता पिता बीवी बच्चों के भविष्य की चिन्ता ही, अपनी जिम्मेदारियों से विचलित कर पाती है !

123323232भारत माँ की अस्मिता की सुरक्षा के लिए, कफ़न सिर पर बाँध कर घूमने वाले, भारतीय सेना के हर प्रचण्ड योद्धा सैनिक के चरणों में, हम सभी देशभक्त नागरिकों का सादर शत शत प्रणाम !

भारत माता की जय…………वन्दे मातरम………!!

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
loading...


ये भी पढ़ें :-