जब पूरा ब्रह्माण्ड नाच उठा

· September 5, 2014

pt1126यही वो महान रात्रि है जब सबको बाँधने वाला खुद बंध गया, यही वो महान रात्रि है जब अंतहीन अबूझ पहेली ईश्वर एक बहुत सुन्दर रूप में हमें प्राप्त हुआ, आज मौका है जम कर उत्सव मनाने का, आज अवसर है नन्द लाल को प्यार करने का, आज अवसर है गोपाल से सदा सदा के लिए रिश्ता जोड़ने का !

ठीक 12 बजे माँ देवकी के नंदन जन्म लेंगे…..दिल थाम कर बैठिये क्योकि 12 बजे तो समाधिस्थ भोले नाथ समेत पूरा ब्रह्माण्ड नाच उठेगा…..

आनन्द उमंग भयो जय हो लड्डू गोपाल की ! !

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-