गोमूत्र और बेल से मोटापे का इलाज

imagesशांर्गधर तपस्वी के अनुसार अगर इस आयुर्वैदिक नुस्खे को सावधानी और शुद्धता से बनाया जाय तो मोटापा नाश के लिए बहुत फायदेमंद है !

इनका कथन है कि, बेल गिरी, अरनी, श्योनाक (अरलू), कम्भारी, और पाढ़र के काढ़े में शुद्ध शहद मिलाकर रोज पीने से मोटापे और मोटापे से उत्पन्न रोग नष्ट होते हैं |

तथा,

सहोड़ा की छाल के काढ़े में गोमूत्र मिलाकर पीने से मोटापा और फील पांव भी नष्ट होता है |

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
loading...


ये भी पढ़ें :-