गैस बनने के कारण और निवारणार्थ एक्यूप्रेशर पॉइंट्स

v267bc98d8c0915c5058119abdea7f8f8वायु या गैस से सम्बंधित समस्या होने पर चित्र में दिए गए पॉइंट को दबाने पर फायदा मिलता है तथा वायु मुद्रा (तर्जनी उंगली को अंगूठे की जड़ से छूना) लगाने पर भी फायदा मिलता है !

गैस का आकस्मिक अटैक हो तो छोटी इलायची खाने से भी राहत मिलती है !

जब तक पेट में कब्ज है, गैस बनना तय है इसलिए सुबह शौच जाने का समय निश्चित रखना चाहिए और जरूरत महसूस हो तो रात को सोते समय पेट साफ़ करने के लिए दिव्य चूर्ण (श्री बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद का) लिया जा सकता है !

इसके अलावा खाते समय या खाने के बाद 1 घंटे के अन्दर पानी पीने से भी गैस बनती है ! दिन भर लगातार बैठ कर काम करने से भी गैस बनती है ! ज्यादा तेल मसाला का खाना या बाजार का फ़ास्ट फ़ूड खाने से गैस बनती है !

v5313481गन्दा पानी पीने से भी गैस बनती है और बाजार में बिकने वाले मिनरल वाटर्स का भी लम्बा लगातार इस्तेमाल करने से गैस की प्रॉब्लम सुनने को मिलती है ! पाचन शक्ति कमजोर हो तो भी गैस बनती है ! पाचन शक्ति मजबूत बनाने के लिए एक चम्मच मेथी दाना कुछ दिन तक खाते समय खाने से पाचन शक्ति मजबूत बनती है, पर इससे थोड़ा कब्ज होती है !

पेट में कृमि हो तो भी गैस बनती है ! पेट के कृमि समाप्त करने के लिए कुछ दिन तक रात को खाने के बाद 1-2 गोली नीम वटी (श्री बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद का) खाने से सारे कृमि मर जाते हैं ! नीम वटी खाने के 1 घंटा पहले और बाद में दूध या दूध से बना कोई सामान नहीं खाना पीना चाहिए !

गैस की समस्या बढ़ने पर शरीर में विचित्र लक्षण या दर्द पैदा हो सकते हैं ! कई बार सुनने को मिलता है की गैस की वजह से सीने में होने वाले दर्द या बेचैनी को ह्रदय रोग समझ कर लोग ह्रदय का इलाज शुरू कर देते हैं !

रोज रोज गैस झेलने से बढ़िया है की अपनी दिनचर्या में थोड़ा सा परिवर्तन कर के गैस बनने की नौबत ही ना आने दिया जाय !

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-