गैस, अपच, डायरिया, कोलेस्ट्राल, कमजोर मेमोरी व आँख की रोशनी, खांसी तथा खून की गन्दगी में फायदा सौंफ

· January 2, 2016

imagesसौंफ कोई शौकिया खाने की चीज नहीं है बल्कि खाने के बाद इसको खाने का पूरा प्रावधान है आयुर्वेद में ! सौंफ त्रिदोषनाशक है ! इस की तासीर ठंडी है, पर यह जठराग्नि को मंद नहीं करती है !


Complete cure of deadly disease like HIV/AIDS by Yoga, Asana, Pranayama and Ayurveda.

एच.आई.वी/एड्स जैसी घातक बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज योग, आसन, प्राणायाम व आयुर्वेद से

आईये जानते हैं सौंफ खाने के औषधीय लाभ (Ayurvedic Benefits of Fennel in Hindi, herbal advantages of sauf, Saunf Khane ke Fayde) –

– सौंफ खाने से गैस और कब्ज की शिकायत नहीं होती। सौंफ को मिश्री या चीनी के साथ पीसकर चूर्ण बना लीजिए, रात को सोते वक्त लगभग 5 ग्राम चूर्ण को हल्के गुनगने पानी के साथ सेवन कीजिए। गैस की समस्या नहीं होगी व  कब्ज दूर होगा।

– आंखों की रोशनी को सौंफ का सेवन करके बढ़ाया जा सकता है। सौंफ और मिश्री समान भाग लेकर पीस लें। इसकी एक चम्मच मात्रा सुबह- शाम पानी के साथ दो माह तक लीजिए। इससे आंखों की रोशनी बढती है।

– डायरिया होने पर सौंफ खाना चाहिए। सौंफ को बेल के गूदे के साथ सुबह-शाम चबाने से अजीर्ण समाप्त होता है और अतिसार में फायदा होता है।

– खाने के बाद सौंफ का सेवन करने से खाना अच्छे से पचता है। सौंफ, जीरा व काला नमक मिलाकर चूर्ण बना लीजिए। खाने के बाद हल्के गुनगुने पानी के साथ इस चूर्ण को लीजिए, यह उत्तम पाचक चूर्ण है।

– अगर आप चाहते हैं कि आपका कोलेस्ट्रॉल स्तर न बढ़े तो खाने के लगभग 30 मिनट बाद एक चम्मच सौंफ खा लें।

– आधी कच्ची सौंफ का चूर्ण और आधी भूनी सौंफ के चूर्ण में काला नमक मिलाकर 2 से 6 ग्राम मात्रा में दिन में तीन-चार बार प्रयोग कराएं इससे गैस और अपच दूर हो जाती है।

– भूनी हुई सौंफ और मिश्री समान मात्रा में पीसकर हर दो घंटे बाद ठंडे पानी के साथ फँकी लेने से मरोड़दार दस्त, आँव और पेचिश में लाभ होता है।

– बादाम, सौंफ और मिश्री तीनों बराबर भागों में लेकर पीसकर भर दें और रोज दोनों टाइम भोजन के बाद 1 टी स्पून लें। इससे स्मरणशक्ति बढ़ती है।

– दो कप पानी में उबली हुई एक चम्मच सौंफ को दो या तीन बार लेने से कफ की समस्या समाप्त होती है। अस्थमा और खांसी में सौंफ सहायक है। कफ और खांसी के इलाज के लिए सौंफ खाना फायदेमंद है।

– गुड़ के साथ सौंफ खाने से मासिक धर्म नियमित होता है।

– सौंफ को अंजीर के साथ खाएँ और खाँसी व ब्रोन्काइटिस को दूर भगाएँ।

– गर्मियों में सौंफ का सेवन करने से ठंडक मिलती है। सौंफ के पावडर को मिश्री के साथ बराबर मिलाकर लेने से हाथों और पैरों की जलन दूर होती है।

– यह शिशुओं के पेट और उनके पेट के अफारे को दूर करने में बहुत उपयोगी है। एक चम्मच सौंफ को एक कप पानी में उबलने दें और 20 मिनट तक इसे ठंडा होने दें।

– जो लोग कब्ज से परेशान हैं, उनको आधा ग्राम गुलकन्द और सौंफ मिलाकर रात में सोते समय लेना चाहिए। कब्ज दूर हो जाएगा।

– इसे खाने से लीवर ठीक रहता है। इससे पाचन क्रिया ठीक रहती है।

– रोजाना सुबह-शाम खाली सौंफ खाने से खून साफ होता है जो कि त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है, इससे त्वचा में चमक आती है।

– रोजाना दाल और सब्जी के तड़के में सौंफ भी डाले |

– यदि बार बार मुंह में छाले हों तो एक गिलास पानी में चालीस ग्राम सौंफ पानी आधा रहने तक उबालें। इसमें जरा सी भूनी फिटकरी मिलाकर दिन में दो तीन बार गरारे करें।

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail


ये भी पढ़ें :-