वो अनजाना कर्ज…….

not free 32

 

जिस माता ने तुम्हे जन्म दिया

अपनी अमृतमय दूध की बूंदों से

तुम्हे सिंचित किया

अपनी जन्मदायिनी माँ

के दूध का कर्ज तुम्हे

जब याद रहा

फिर उस गोमाता के

दूध का कर्ज  कैसे

तुम भूल गए

जिसका दूध तुमने उम्र भर पिया……….

जिस पल तुमने

654गोमाता को बधशाला

भेज दिया उसी पल से

उस माता के रोमकूप से

निकले श्राप से

तुम हर पल घिरते रहे

पर हाय !!

आज भी तुम उससे अनजान रहे………

लेखिका –
श्री देवयानी

(सभी देश भक्तों से “स्वयं बने गोपाल” समूह का विनम्र आवाहन है कि वे सभी सम्भव माध्यम से उन झूठे सांसदों पर लगातार दबाव बनायें जो मुंह पर तो राष्ट्र के विकास की बात करते हैं लेकिन पीठ पीछे विदेशों में गोमांस की बेहद भारी डिमांड की पूर्ति करने वाली खुरापाती शक्तियों की मदद करने के लिए मोदी जी द्वारा गोहत्या पर कड़े नियम बनाने में बार बार विघ्न डालते हैं)

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
loading...


ये भी पढ़ें :-